देवरी में दो हिस्से में बंटे ग्रामवासी, महिला की मौत हुई तो मुक्तिधाम में दफनाने को लेकर भिड़े, बलवा

Balod News - गुंडरदेही ब्लाक के ग्राम देवरी (मोहंदीपाट) में मंगलवार को सुबह 11 बजे से दो पक्षों में जमकर मारपीट हो गई। यह गांव दो...

Dec 04, 2019, 07:41 AM IST
गुंडरदेही ब्लाक के ग्राम देवरी (मोहंदीपाट) में मंगलवार को सुबह 11 बजे से दो पक्षों में जमकर मारपीट हो गई। यह गांव दो हिस्से में बंटा हुआ है। जिसमें एक को पुराना पारा और दूसरे को नयापारा कहते हैं। विवाद की जड़ नयापारा में बन रहे अस्पताल के निर्माण कार्य को पुराना पारा के लोगों द्वारा रुकवाना था। जिसके बाद नाराजगी में पुराना पारा में एक महिला की मौत होने पर नयापारा के लोगों ने अपने इलाके के मुक्तिधाम में शव को दफनाने से इंकार कर दिया। सुबह 11 से 2 के बीच ग्रामीणों के बीच जमकर झड़प होती रही। किसी ने पत्थर फेंके तो किसी ने ईट-चप्पल फेंके। इसमें कई लोगों को चोट भी लगी। नयापारा देवरी निवासी मनोज विश्वकर्मा का सिर भी ईंट लगने से फट गया। डीएसपी दिनेश सिन्हा ने कहा अस्पताल बनवाने की मांग को लेकर विवाद हुआ था। एक पक्ष ने स्टे लगवा दिया है। दूसरा पक्ष अपने इलाके के मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार करने नहीं दे रहे थे। समझाईश दिए थे फिर क्या हुआ जानकारी नहीं है।

मृतका उर्मिला

बल गांव में पहुंचा: गांव में अस्पताल के मसले पर हुए दो गुट, रात तक रहा तनाव

निकुम. लाश को सड़क पर रख विरोध करते ग्रामीण।

रात में बैठक, तय किया गांव में घुसने नहीं देंगे

पुराना पारा निवासी उर्मिला बाई साहू पति पुनीत राम (65) की मौत सोमवार को शाम 5 बजे अचानक घर में सब्जी काटते समय हो गई थी। इस मौत की खबर मिलने के बाद नयापारा के ग्रामीणों ने सरपंच के नेतृत्व में रातों-रात बैठक लेकर तय कर दिया था कि पुराना पारा के लोगों ने हमारे पारा में अस्पताल बनने नहीं दिया इसलिए उन्हें भी हमारे इलाके के मुक्तिधाम में आने नहीं देंगे। उन्हें गांव में घुसने नहीं देंगे। शव को सड़क पर रख दोनों पक्ष भिड़े।

अस्पताल को अपने इलाके में ही बनवाना चाहते हैं

लगभग 25 लाख की लागत से हाल ही में यहां उपस्वास्थ्य केंद्र भवन स्वीकृत हुआ है। सरपंच गविंद्र नाथ साहू नयापारा का रहने वाला है। उचित जगह बताकर वे अस्पताल का निर्माण अपने क्षेत्र में करवा रहे हैं। जिसका विरोध पुराना पारा के लोग कर रहे हैं। वहां के ग्रामीणों का कहना है कि अस्पताल हमारे इलाके में बनना चाहिए। हमें इसकी ज्यादा जरूरत है। जब बात नहीं बनी तो पुराना पारा के लोगों ने तहसीलदार में आवेदन देकर स्टे लगवा दिया है। काम रुका हुआ है।

लाश को रोकने व मुक्तिधाम तक ले जाने इस तरह दो पक्ष में हुई झड़प।

पुरुषों को हावी होते देख महिलाओं ने उठा ली अर्थी

दोनों पक्षों में जमकर झड़प चल रही थी। लाश को आगे ले जाने नहीं दे रहे थे। इतने में पुराना पारा की महिला रामबाई, लता बाई, रमशीला बाई, उषा बाई, अहिल्या बाई सहित अन्य महिलाओं ने अर्थी उठा ली। हिम्मत जुटाते दूसरे पक्ष के पुरुषों और महिलाओं की भीड़ को चीरते आगे बढ़ने लगी। इस दौरान जमकर झूमाझटकी हुई। अर्थी की लकड़ियां तक टूट गई। जैसे-तैसे महिलाएं अर्थी को संभालते मुक्तिधाम पहुंच गई। जहां फिर परिजनों ने लाश को दफनाया।

मूकदर्शक बनी रही पुलिस इधर मारपीट होती रही

जानकारी मिलने के बाद अर्जुन्दा थाने से 4 पुलिस जवान केस सुलझाने पहुंचे। लेकिन वहां मामला इतना गरमाया कि दो मोहल्ले के ग्रामीण आपस में भिड़ गए। पुलिस कुछ नहीं पर कर पाई। मूकदर्शक खड़ी रही और लोग आपस में लड़ते रहे। आनन-फानन में फिर अर्जुन्दा पुलिस ने कंट्रोल रूम और अन्य अधिकारियों को खबर की। सुरेगांव, गुंडरदेही से भी फोर्स पहुंची। शाम 5 बजे तक ग्रामीणों को बैठक लेकर शांत करवाने का प्रयास किया गया।

आप भी जानिए, अब मामले में कौन क्या कह रहा





X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना