दंतेश्वरी मांईजी की डोली को दी गई विदाई

Bastar Jagdalpur News - बस्तर दशहरा पर्व का समापन शनिवार को मांई जी की डोली के विदा होने के साथ ही पूरी कर ली गई। दंतेश्वरी मंदिर के सिंह...

Oct 13, 2019, 06:55 AM IST
बस्तर दशहरा पर्व का समापन शनिवार को मांई जी की डोली के विदा होने के साथ ही पूरी कर ली गई। दंतेश्वरी मंदिर के सिंह ड्योढ़ी से देवी की डोली व छत्र को दंतेवाड़ा के लिए विदा करने से पूर्व पुलिस बैंड की धुनों के साथ ही तीन चरणों में तीन राउंड हर्ष फायर कर दंतेश्वरी देवी को सलामी दी गई।

विदाई के लिए दंतेश्वरी मंदिर के सामने मंच बनाया गया था जिससे श्रद्धालु मांईजी के दर्शन कर सकें। यहां डोली को कुछ देर के लिए रखा गया। माता की डोली को विदाई देने भीड़ उमड़ पड़ी। मांई के जयकारे के साथ डोली एवं छत्र की विदाई में बड़ी संख्या में श्रद्धालु जिया डेरा तक गए। इस दौरान चौक-चौराहों पर माईजी के दर्शन के लिए सड़क के दोनों ओर लंबी कतार लगी रही। नर्तक दलों के साथ ही मुंडा बाजा बजाते मांझीगण, पोटानार के ग्रामीण और सौ से ज्यादा महिलाएं कलश लेकर चल रहीं थीं।

दंतेश्वरी मंदिर से जिया डेरा तक माता की डोली को अपने कंधों पर उठाए बस्तर राज परिवार के सदस्य कमलचंद्र भंजदेव।

दंतेश्वरी मांई की डोली को विदाई देने से पहले हर्ष फायर करते जवान।

दंतेश्वरी मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद हुई आरती

11.30 बजे मांईजी की डोली एवं छत्र की पूजा कमलचंद्र भंजदेव ने की। विधायक रेखचंद जैन, शहर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजीव शर्मा, बस्तर दशहरा समिति के सदस्यों के साथ ही दंतेश्वरी मंदिर के पुजारी उदयचंद पाणिग्रही, कृष्ण कुमारी पाढ़ी, आरआई सतीश मिश्रा मौजूद थे।

कांवड़ से ले गए विदाई सामग्री

मांईजी की विदाई में साड़ी, सुहाग एवं श्रृंगार, मिठाई, घी, तेल, मेवा एवं खाद्यान्न सामग्री को 10 ग्रामीण कांवड़ से जिया डेरा तक लेकर पहुंचे थे। अन्य रस्में भी पूरी हुईं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना