आधा शिक्षा सत्र बीता, नहीं लगा मुलेर स्कूल शेड में चलने वाले स्कूल में झाड़ियां उग गईं

Bastar Jagdalpur News - नए शिक्षा सत्र का आधा साल बीत गया है मगर मुलेर प्राथमिक शाला एक भी दिन नहीं चली । मुलेर प्राथमिक स्कूल पिछले सत्र...

Dec 11, 2019, 09:11 AM IST
Sukma News - chhattisgarh news half of the education session was over bushes did not grow in the school running in mueller school shed
नए शिक्षा सत्र का आधा साल बीत गया है मगर मुलेर प्राथमिक शाला एक भी दिन नहीं चली । मुलेर प्राथमिक स्कूल पिछले सत्र में भी कागजों में ही वर्ष भर स्कूल चला था अब नये सत्र में भी स्कूल की बदहाली नहीं सुधरी है। शिक्षा विभाग न तो स्कूल को बंद करता है न ही स्कूल चलाने की कोई व्यवस्था करता है। संकुल के समन्यवक के कागजी आंकड़ों पर भरोसा कर विभागीय अधिकारी इस स्कूल के चलने की बात कहते हैं।

प्राथमिक शाला मुलेर में 20 बच्चे दर्ज हैं। पिछले सत्र में यहां पहली से पांचवी तक परीक्षा भी पास की थी । लेकिन ग्रामीणों की मानें तो स्कूल डेढ़ साल से नहीं खुला है। मुलेर में स्कूल के नाम पर एक शेड बना हुआ है जिसमे भी झाड़ियां उग गई हैं। शेड में उगी झाड़ियों से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि यहांं स्कूल नहीं चलता है। पिछले शिक्षा सत्र में शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने गांव के ही अतिथि शिक्षक की नियुक्ति करने की बात कही गई थी। मुलेर जाने दंतेवाड़ा से कोई सड़क नही है।

सुकमा जिले के गादीरास होकर मुलेर तक पगडंडी रास्ता है। रास्ता नहीं होने से यहां शिक्षक कुआकोंडा से नियमित रूप से स्कूल नहीं पहुंचते है। मुलेर गांव के लखमा,अंदा ने बताया कि पिछले साल साल 10-12 दिन स्कूल चला था इस सत्र में एक भी दिन स्कूल नहीं खुलने की बात ग्रामीणों ने बताई। मुलेर में स्कूल नहीं खुलने से एक दर्जन से अधिक बच्चे शिक्षा से वंचित हो रहे हैं। हर महीने कभी 10 कभी 15 बच्चों के नाम मध्याहन भोजन का डाटा भी संकुल समन्वयक द्वारा बीईओ कार्यालय में जमा किया जा रहा है।

ग्रामीणों ने बताया कि स्कूल नहीं खुलने की वजह से मुलेर गांव के बच्चे सुकमा जिले के बड़ेचट्टी गांव में पढ़ने जाने को मजबूर हैं। संकुल समन्वयक खमन नेताम ने बताया कि शनिवार को मुलेर गया था इस दौरान वहां बच्चे नहीं आए थे। दूरी की वजह से मुलेर स्कूल प्रभवित हो रहा है। जिला शिक्षा अधिकारी राजेश कर्मा ने कहा कि बीईओ से बात कर संबंधित स्कूल के बच्चों को पोटाकेबिन में अटैच करवाएंगे।

कुआकोंडा ब्लाक का अंतिम गांव है नहाड़ी का आश्रित गांव मुलेर

मुलेर में स्कूल के नाम पर एक शेड बना है जिसमे झाड़ियां उग गई हैं।

नकुलनार. मुलेर के बच्चे जो शिक्षा से हो रहे वंचित।

Sukma News - chhattisgarh news half of the education session was over bushes did not grow in the school running in mueller school shed
X
Sukma News - chhattisgarh news half of the education session was over bushes did not grow in the school running in mueller school shed
Sukma News - chhattisgarh news half of the education session was over bushes did not grow in the school running in mueller school shed
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना