30 बिस्तरों के आयुर्वेदिक अस्पताल में एक भी मरीज नहीं, प्रभारी बोले- मैं कुछ नहीं जानता

Bastar Jagdalpur News - आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज कर बीमारियों को दूर करने का दावा करने वाला आयुर्वेद विभाग तमाम कोशिशों के बाद भी जिला...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 06:55 AM IST
Jagdalpur News - chhattisgarh news not a single patient in the 30 bed ayurvedic hospital said in charge i don39t know anything
आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज कर बीमारियों को दूर करने का दावा करने वाला आयुर्वेद विभाग तमाम कोशिशों के बाद भी जिला हास्पिटल की व्यवस्था को ठीक नहीं कर पा रहा है। अगस्त में समय पर दवा और खाना नहीं मिलने की शिकायत के बाद मरीज बिना बताए यहां से भाग गए थे वहीं दूसरी ओर इन दिनों इस हास्पिटल में एक बार फिर से एक भी मरीज भर्ती नहीं है।

जानकारी के मुताबिक 30 बिस्तर के इस संभागीय हास्पिटल में एक भी मरीज के नहीं होने को लेकर जब हास्पिटल के प्रभारी और हास्पिटल के जनसूचना अधिकारी निखिल देवांगन जो हास्पिटल में मौजूद थे उनसे बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस विषय में वे कुछ नहीं कह सकते हैं। वे इस समय केवल आफिस का कामकाज ही देख रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक कुछ दिनों पहले इस हास्पिटल में मरीजों को हर तरह की सुविधा देने का दावा जिला आयुर्वेद अधिकारी विजय गिरी गोस्वामी ने किया था, लेकिन उनका दावा अब तक सफल नहीं हो पाया है।

कुछ दिनों पहले जहां पंचकर्म की सुविधा उम्मीद के मुताबिक नहीं होने से मरीज वापस हो रहे थे तो वहीं अब मरीज यहां आना ही बंद कर चुके हैं। अधिकारी अब केवल ग्रामीण अंचल में संचालित स्वास्थ्य केंद्रों में दवाई सप्लाई करने तक ही सीमित होकर रह गए हैं।

जगदलपुर। हाॅस्पिटल का महिला वार्ड जो इन दिनों खाली पड़ा हुआ है।

जिला आयुर्वेदिक हास्पिटल के पुरूष वार्ड में लगा ताला।

मरीजों को खाना खिलाने के लिए नहीं मिल रहे ठेकेदार अधिकारी को

संभागीय मुख्यालय में स्थित 30 बिस्तरों वाले जिला आयुर्वेदिक अस्पताल में भर्ती मरीजों को दिए जाने वाले नाश्ते व खाना के लिए विभाग को कोई ठेकेदार नहीं मिल रहे हैं। दो बार टेंडर जारी होने के बाद भी इसका ठेका लेने के लिए कोई ठेकेदार आगे नहीं आ रहा है। ठेकेदारों के आगे नहीं आने से मरीजों को आए दिन समय पर नाश्ता व मीनू के अनुसार भोजन नहीं मिल रहा था। हास्पिटल के स्टाफ ने बताया कि महीनों से ठेकेदार नहीं मिलने के चलते जिला आयुर्वेद अधिकारी विजय गिरी गोस्वामी दो सरकारी रसोईए के भरोसे मरीजों का खाना बनवा रहे हैं। इस काम में रसोईए हर दिन परेशानी के बीच मरीजों के लिए खाना बना रहे हैं। रसोईए नौकरी जाने के डर से इसकी शिकायत नहीं कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक कुछ समय पहले तक जिला आयुर्वेदिक हास्पिटल में मरीजों को नाश्ता व खाना देने की व्यवस्था ठेके पर नीरज जोशी के द्वारा संचालित की जा रही थी लेकिन समय पर पैसा नहीं मिलने और खर्च ज्यादा आने की बात कहते हुए उन्होंने इस काम से हाथ खींच लिया। इसके बाद कई बार अधिकारी जोशी को ही इस काम को सौंपने की कोशिश की। लेकिन जोशी ने काम दुबारा शुरू करने से इंकार कर दिया।

एक दिन में 99 रुपए एक मरीज पर होता है खर्च

मरीजों में से एक मरीज पर हास्पिटल प्रबंधन एक दिन में 99 रुपए खर्च कर रहा है। इसी राशि में मरीज का नाश्ता और दो समय का खाना शामिल है। कर्मचारियों ने बताया ठेकेदार पैसे की कमी बताकर हर समय राशि बढ़ाने का दबाव बना रहा था जो पूरी नहीं हो सकी । लगातार बढ़ रही महंगाई में मीनू के हिसाब से मरीजों को नाश्ता व खाना देना संभव नहीं है।

Jagdalpur News - chhattisgarh news not a single patient in the 30 bed ayurvedic hospital said in charge i don39t know anything
X
Jagdalpur News - chhattisgarh news not a single patient in the 30 bed ayurvedic hospital said in charge i don39t know anything
Jagdalpur News - chhattisgarh news not a single patient in the 30 bed ayurvedic hospital said in charge i don39t know anything
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना