सीमा विस्तार / रिसाली को नगर निगम बनाने रिपोर्ट तैयार, 40 वार्ड का प्रस्ताव, मंजूरी मिली तो 2020 में होंगे चुनाव



तस्वीर रिसाली बस्ती, रिसाली सेक्टर और रिसाली प्रगतिनगर की। इन तीनों इलाकों की आबादी 40 हजार है। तस्वीर रिसाली बस्ती, रिसाली सेक्टर और रिसाली प्रगतिनगर की। इन तीनों इलाकों की आबादी 40 हजार है।
X
तस्वीर रिसाली बस्ती, रिसाली सेक्टर और रिसाली प्रगतिनगर की। इन तीनों इलाकों की आबादी 40 हजार है।तस्वीर रिसाली बस्ती, रिसाली सेक्टर और रिसाली प्रगतिनगर की। इन तीनों इलाकों की आबादी 40 हजार है।

  • सरकार को भेजा फिजिबिलिटी प्रपोजल : भिलाई के 13 वार्डों को जोड़ने की तैयारी 
  • रिसाली और नेवई के आसपास लगे 8 से 10 गांव भी होंगे निगम का हिस्सा

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2019, 11:34 AM IST

यशवंत साहू। भिलाई. रिसाली का अलग से नगर निगम बनना तय हो गया है। जिला प्रशासन ने राज्य सरकार को निगम बनाने का दावा पुख्ता करने वाली एक रिपोर्ट भेज दी है। इसे फिजिब्लिटी रिपोर्ट का नाम दिया गया है। दुर्ग कलेक्टर अंकित आनंद द्वारा भेजे गए इस रिपोर्ट की माने तो रिसाली को 40 वार्डों वाला नगर निगम बनाया जाएगा। जैसा कि भिलाई-3 चरोदा निगम है। जिसमें रिसाली जोन के सभी 13 वार्ड शामिल होंगे। साथ ही रिसाली और नेवई के आसपास से लगे 8-10 गांवों को निगम बनाने शामिल किया जाएगा। 

गृहमंत्री के निर्देष पर निगम व राजस्व विभाग ने तैयार की है रिपोर्ट

  1. इस रिपोर्ट में इस बात का भी उल्लेख है कि सबकुछ ठीक रहा तो नगर निगम भिलाई के साथ रिसाली निगम का पहला चुनाव नवंबर-दिसंबर 2020 में होगा। अब रिसाली को नगर निगम बनाने की औपचारिक ऐलान सरकार से होनी बाकी है। गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू के निर्देश पर निगम आयुक्त एसके सुंदरानी और राजस्व विभाग की टीम ने ये फिजिब्लिटी रिपोर्ट तैयार की है। अफसरों की माने तो कैबिनेट मीटिंग में रिसाली को निगम बनाने औपचारिक ऐलान हो जाएगा। 

  2. रिसाली की राह आसान :रिसाली को निगम बनाने आगे और क्या होगा, जानिए 

    सरकार का ऐलान

    • रिसाली को निगम बनाने के लिए फिजिब्लिटी रिपोर्ट सरकार के पास पहुंच गई है। माना जा रहा है कि सूबे के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू रिसाली को निगम बनाने का ऐलान जल्दी करवा सकते हैं। कहा तो यह भी जा रहा है कि इसी साल निकाय चुनाव से पहले ऐलान संभव है। इसका फैसला विधानसभा सत्र या कैबिनेट मीटिंग में हो सकता है। 


    स्थापना और भवन

    • परिसीमन और सरकार के ऐलान के बाद रिसाली जोन दफ्तर में ही रिसाली निगम संचालित होगा। प्रभारी आयुक्त की जिम्मेदारी भिलाई निगम में पदस्थ किसी अफसर को मिल सकती है। इसके अलावा जोन दफ्तर के कर्मचारी रिसाली निगम को संचालित कर सकते हैं। बाकी कर्मी डेपुटेशन पर बुलाए जाएंगे। 


    वार्डों का परिसीमीन

    • सरकार से हरी झंडी मिलते ही रिसाली जोन के 13 वार्डों का परिसीमन किया जाएगा। अभी 13 वार्ड है जो काफी बड़े है। इन 13 वार्डों को कम से कम 25 वार्डों में बांटा जाएगा। बाकी 15 वार्ड ग्रामीण हो सकते हैं। प्रारंभिक रूप से तैयारी पूरी है। 

  3. पानी से लेकर विकास कार्यों में पिछड़ रहे रिसाली जोन के वार्ड, इसलिए जरूरी है अलग निगम 

    क्षेत्र में पेयजल संकट सबसे ज्यादा

    • पानी की समस्या से सबसे ज्यादा रिसाली जोन के वार्ड चपेट में है। रिसाली समेत सभी वार्डों में टैंकर से पानी सप्लाई हो रही है। यहां के पार्षद कहते हैं समस्या के समाधान के लिए जो उम्मीद भिलाई निगम के अफसरों से थी। वैसा कुछ नहीं हुआ। निगम के अधिकारी भेदभाव की वजह से संकट से उबार नहीं पाए। 


    क्षेत्र का विकास

    • भिलाई निगम के रिसाली जोन में 12 वार्ड है। सभी पार्षद आयुक्त पर आरोप लगाते हैं कि उनके वार्डों की अनदेखी होती है। सरकार भी विकास के लिए फंड में देने में उपेक्षा करती है। इसलिए नए निगम बनाकर क्षेत्र का बेहतर विकास किया जा सकता है। 


    सबसे ज्यादा अवैध कॉलोनी

    • भिलाई में सबसे ज्यादा अवैध कॉलोनी का एरिया भी रिसाली, धनोरा, पुरई, उमरपोटी वाला इलाका है। नए निगम बनाने की मांग करने वाले कहते हैं, समय रहते अवैध कॉलोनियों को वैध नहीं किया गया तो बाद में शासन और प्रशासन के लिए सिरदर्द बनेगा। इसलिए कॉलोनियों को वैध कर बड़ा राजस्व वसूलकर खर्च करना चाहिए। 

  4. रिसाली का निगम बनने के लिए पहला स्टेप पार, अब तीन और स्टेप बाकी, जानिए एक-एक बारे में 

    कैबिनेट

    • फिजिब्लिटी रिपोर्ट सरकार के पास चली गई है। सरकार इसे कैबिनेट में पास करेगी। जैसा कि चरोदा और बीरगांव निगम के लिए हुआ था। 

    दावा-आपत्ति

    • संबंधित गांव व वार्ड के लोगों के लिए दावा-आपत्ति मंगाई जाएगी। इसकी तैयारी प्रशासन ने कर ली है। फिजिब्लिटी रिपोर्ट में जिक्र है। 

    गजट प्रकाशन

    • तमाम रिपोर्ट और दावा-आपत्ति के बाद सरकार की ओर से गजट का प्रकाशन किया जाएगा। यह आखिरी स्टेप होगा। फिर कामकाज होगा। 

  5. गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने आयुक्त से मांगी थी रिपोर्ट

    रिसाली को नगर निगम बनाने का ऐलान सबसे पहले गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने की थी। वे विधानसभा चुनाव के दौरान रिसाली दशहरा मैदान में आयोजित सभा में इसका वादा किया था। कांग्रेस की सरकार बनने के बाद बिना देरी किए उन्होंने भिलाई निगम आयुक्त एसके सुंदरानी से इसकी फिजिब्लिटी रिपोर्ट मांगी। गृहमंत्री साहू ने इसके लिए लगातार फॉलोअप लिया। उम्मीद है इस साल तक ऐलान। 

  6. इनसे बनेगा रिसाली गांव से निगम, जानिए... 

    निगम बनाने के लिए एक लाख की आबादी जरूरी है। इतनी जनसंख्या तो रिसाली में ही है। उससे लगे गांव धनोरा, खम्हरिया, पुरई, उमरपोटी, पाउवारा, करगाडीह, बाेरिगारिका, घुघसीडीह, खोपली और मचांदुर को शामिल करेंगे डेढ़ लाख से ज्यादा जनसंख्या होगी। चरोदा निगम में भी यही हुआ था। वहीं रिसाली जोन के वार्ड 40 जोरातराई, वार्ड 41 डुंडेरा, वार्ड 42 नेवई, वार्ड 44 मरोदा कैंप, वार्ड 45 मरोदा सेक्टर, वार्ड 58 रिसाली सेक्टर, वार्ड 59 रिसाली सेक्टर, वार्ड 60 रिसाली बस्ती, वार्ड 61 प्रगति नगर, वार्ड 62 रूआबांधा सेक्टर और वार्ड 63 रूआबांधा बस्ती शामिल होगा। 

  7. रिसाली को अलग से नगर निगम बनाने के लिए हमने फिजिब्लिटी टेस्ट करा ली है। इसकी रिपोर्ट हमने राज्य सरकार को भेज दी है। अब सरकार के आदेशानुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी।

    अंकित आनंद, कलेक्टर, दुर्ग 

COMMENT

Recommended News