शहरों में खुशनुमा माहौल, नियोजित विकास हमारी प्राथमिकता: बघेल

Bhilai News - मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि शहरों का नियोजित विकास आैर उत्साह से भरपूर खुशनुमा वातावरण का निर्माण हमारी...

Nov 11, 2019, 06:56 AM IST
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि शहरों का नियोजित विकास आैर उत्साह से भरपूर खुशनुमा वातावरण का निर्माण हमारी प्राथमिकता है। सीएम ने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘लोकवाणी’ के चौथे प्रसारण में ’नगरीय विकास का नया दौर’ विषय पर प्रदेश की जनता के सवालों के जवाब दिए तथा नगरीय क्षेत्रों में शासन द्वारा किए जा रहे विकास कार्यो एवं कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में वर्षा जल संचय और नागरिकों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने अनेक योजनाएं संचालित हैं। भू-जल स्तर का गिरना चिंता का विषय है और इसका सबसे बड़ा कारण हमारे शहरों का विकास, सीमेंट कांक्रीट के जंगल की तरह किया जाना है। विडम्बना है कि एक लम्बे अरसे तक सही सोच और सही योजना के बिना ही निर्माण कार्य किए जाते रहे हैं। ऐसे निर्माण कार्यों की वजह से हमारी जमीन की रिचार्जिंग क्षमता कम होती गई और भू-जल स्तर गिरते-गिरते अब खतरनाक स्तर तक पहुंच चुका है। हमने नियमों में संशोधन करके अब प्रत्येक आवासीय, वाणिज्यिक और औद्योगिक परिसर में रेन वाटर हार्वेस्टिंग को अनिवार्य कर दिया है। इसी तरह ‘नरवा, गरवा, घुरवा, बारी’ योजना से शहरों को जोड़ने का कार्य शुरू हो गया है। ‘वी-वायर इंजेक्शन वेल’ के माध्यम से भू-जल की रिचार्जिंग की परियोजना बनाई गई है। चंदखुरी, जिला दुर्ग में ‘समूह पेयजल योजना’ के माध्यम से समस्या का समाधान किया जा रहा है। सुपेबेड़ा में तेलनदी का जल शुद्ध करने के लिए ‘सुपेबेड़ा जल योजना’ शुरू की गई है। रायगढ़ तथा जगदलपुर शहर सिवरेज मास्टर प्लांट को मंजूरी दी गई है, जिससे नदियों में मिल रहे नाले-नालियों के दूषित जल का शुद्धिकरण किया जा सके। बरसों से लंबित खारून सफाई योजना को मंजूरी दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्योत्सव के दौरान नई उद्योग नीति, स्थानीय कलाकारों को महत्व देना आैर अरपा पैरी के धार को राज्यगीत का दर्जा देने जैसे उल्लेखनीय कार्य हुए।

नालियों में कचरा न डालें

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस तरह हमारे शरीर में रक्त वाहिकाएं होती हैं उसी तरह शहर की सफाई व्यवस्था नालियों पर निर्भर करती है। उन्होंने घर या दुकान का कचरा नालियों में नहीं डालने की अपील की है।

युवाओं का सम्मान करना सीखना होगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि पार्षद जब अपना मुखिया चुनेंगे तो नगरीय विकास का काम निर्बाध रूप से पूरा होगा। जब 21 साल में कोई पार्षद बन सकता है तो मेयर क्यों नहीं बन सकता। हमें युवाओं को सम्मान देना, युवाओं को जिम्मेदारी देना, युवाओं पर भरोसा करना सीखना होगा।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना