िनलंबित डीजी मुकेश गुप्ता घिरे 19 साल पहले हुई मिक्की मेहता की मौत की फिर होगी जांच

Bhilaidurg News - भास्कर न्यूज | रायपुर. निलंबित डीजी मुकेश गुप्ता 19 साल पहले हुई मिक्की मेहता की संदिग्ध मौत के मामले में घिर गए हैं।...

Aug 15, 2019, 08:25 AM IST
Bhilai News - chhattisgarh news delayed dg mukesh gupta surrounded mikki mehta39s death 19 years ago will be investigated again
भास्कर न्यूज | रायपुर. निलंबित डीजी मुकेश गुप्ता 19 साल पहले हुई मिक्की मेहता की संदिग्ध मौत के मामले में घिर गए हैं। डीजीपी डीएम अवस्थी ने बुधवार को मिक्की मेहता के मौत के कारणों की जांच दोबारा करने का आदेश जारी करते हुए आईजी को जांच जिम्मा सौंपा है। डीजी गिरधारी नायक ने रिटायर होने के दो माह पूर्व पूरे इस केस की जांच कर शासन को प्रतिवेदन सौंपा था। उन्होंने जांच प्रतिवेदन में खुलासा किया है कि मिक्की की मौत के बाद मर्ग कायम करने में गंभीर त्रुटि और अनियमितता बरती गई है। मिक्की को निलंबित डीजी गुप्ता की दूसरी प|ी के रूप में जाना जाता है। उनकी मौत के समय वे रायपुर में एसपी थे। इस वजह से गुप्ता जांच के घेरे में आ गए हैं। पूर्व गृहमंत्री और भाजपा विधायक ननकीराम कंवर ने सीएम भूपेश बघेल को आवेदन देकर मिक्की की संदिग्ध मौत की नए सिरे से जांच करवाने की मांग की। शेष|पेज 10





मुख्यमंत्री ने तत्कालीन डीजी गिरधारी नायक को जांच का जिम्मा सौंपा। दो माह पहले रिटायर होने के पूर्व नायक ने अपनी रिपोर्ट पेश की। उनकी रिपोर्ट के आधार पर शासन ने डा. मिक्की मेहता की मौत की िफर जांच के लिए पुलिस मुख्यालय को लिखा। उसके बाद डीजीपी डीएम अवस्थी ने आईजी आनंद छाबड़ा को जांच के निर्देश दिए। उन्होंने अपने आदेश में आईजी को लिखा है कि वे योग्य एवं व्यवसायिक रूप से दक्ष अधिकारी से जांच करवाएं और सीधे उसकी मॉनीटरिंग करें। पुलिस मुख्यालय के इस फैसले के बाद माना जा रहा है कि निलंबित डीजी इस मामले में जांच के घेेरे में आ गए हैं। उनके खिलाफ अभी ईओडब्लू में अवैध फोन टेपिंग मामले की जांच चल रही है। भिलाई में जमीन घोटाले में उनके खिलाफ चारसौबीसी का केस दर्ज है। फिलहाल कोर्ट के आदेश पर उनके खिलाफ कार्रवाई रुकी है।



कौन है मिक्की और क्या हुआ था 19 साल पहले

मिक्की मेहता दुर्ग की रहने वाली थी। निलंबित डीजी जब दुर्ग में पदस्थ थे, उस समय मिक्की उनके संपर्क में आई। 2001 में मिक्की की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। मिक्की को गंभीर हालत में इलाज के लिए रायपुर लाया गया था। उस समय ये बताया गया था कि उन्होंने जहरीला का इंजेक्शन लगा लिया है। रायपुर में मौत होने की वजह से सिविल लाइन में मर्ग कायम किया गया। सारी लिखा पढ़ी यहीं की गई। पुलिस ने जांच के बाद मिक्की की मौत को सामान्य आत्महत्या बताकर फाइल बंद कर दी। हालांकि मिक्की की मां और उनके भाई उसी समय से मुकेश गुप्ता पर हत्या और प्रताड़ना का आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने अपने आरोप के पक्ष में कई दलीलें दीं। कुछ ऑडियो जारी कर ये साबित करने की कोशिश की थी कि मुकेश गुप्ता मिक्की को परेशान कर रहे थे। उनके आरोपों को लेकर कई स्तर पर जांच की खानापूर्ति हुई लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। उल्टे मिक्की के भाई माणिक मेहता और उनकी मां कई आरोपों में घिरे। मिक्की को हत्या के प्रयास के एक मामले में जेल जाना पड़ा। मिक्की के परिवार वालों के खिलाफ की कई कार्रवाई भी जांच के घेरे में हैं। उन्हें लेकर आरोप लगते रहे हैं।

X
Bhilai News - chhattisgarh news delayed dg mukesh gupta surrounded mikki mehta39s death 19 years ago will be investigated again
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना