पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Bhilai News Chhattisgarh News Do Remember The Days Of Birthday On The Future Plan For Future Then Succeed Langishasha

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जन्मदिन पर बीते दिनों को करें याद और बनाएं भविष्य की योजना, तब होंगे सफल : लब्धियशा

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जैन साध्वी लब्धियशा ने कहा कि हमारा जीवन ही हमारी पूंजी है। अत: उसे सफल बनाने के लिए जन्मदिन पर बीते हुए जीवन काल में आपने क्या क्या किया उसका स्मरण करें। इस दौरान आपने क्या किया और क्या ऐसा किया जो नहीं करना था या अभी तक नहीं कर पाए, उसे याद अवश्य करें। साथ ही भविष्य को बेहतर बनाने के लिए संकल्प लें और आने वाले दिनों में उसके अनुसार काम करें।

श्री उवसग्गहरं पार्श्व तीर्थ नगपुरा में जैन साध्वी लक्ष्ययशा के 57वें जन्मदिन पर हुए अनुमोदना उत्सव के दौरान उन्होंने कहा कि उनका ही भविष्य भव्य बनता है, जिनका जीवन अनुमोदनीय हो। प्रबल पुण्य से मिले मनुष्य जीवन को ऐसे जिएं कि वर्तमान जीवन ही स्वर्ग बन जाए। जीवन इंसान की बहुमूल्य दौलत है। इसे संभालकर रखें और इसका सदुपयोग करें। जन्म के साथ मृत्यु जुड़ा है। इसके मध्य जरा (बुढ़ापा) का भी भय है। अत: जन्म दिवस और मृत्यु दिवस ना तो सुख का अवसर है और ना ही दुख का दिन है।

संबोधन : सत्य मार्ग पर चलने किया प्रेरित
जैन साध्वी ने आध्यात्मिक प्रवचन में जीवन का महत्व बताया।

जीवन में स्वास्थ्य, धन और ज्ञान का है महत्व
उन्होंने कहा कि जीवन है तो स्वास्थ्य का मूल्य है, धन और ज्ञान का मूल्य है। जीवन से ही चरित्र, रिश्ते और समाज का मूल्य है। मनुष्य ऐसा सशक्त साधन है कि इसमें जीव को अपने यथार्थ स्वरूप को पहचानने की प्रचंड शक्ति है। अच्छे विचार ही अच्छे व्यवहार को जन्म देते हैं। अत: अपने विचारों को, अपनी मानसिकता को बेहतर बनाने का प्रयास करना जरूरी है। मन का स्वस्थ, सुमधुर होना जीवन की ताकत है।

विपरीत परिस्थिति में लें धैर्य के साथ काम, डरे नहीं
मजबूत मन वाले छोटे से छोटे और बड़े से बड़े विपरीत क्षण में धैर्य विश्वास और श्रेष्ठ बुद्धि से काम लेते हैं। इस तरह वह विपरीत क्षण को भी आनंद में परिवर्तित कर लेते हैं। जिस व्यक्ति के भीतर तात्कालिक निर्णय लेने की प्रतिभा और क्षमता होती है, वह आत्मविश्वास से भरा होता है। निर्णय करने की शक्ति ही हमें लक्ष्य निर्धारित करने की क्षमता और आत्मविश्वास देता है। लक्ष्य विहीन व्यक्ति ही असफल होता है।

जीव से शिव बनने की दिशा ही है सत्य मार्ग
शास्त्रकारों ने जीव से शिव, आत्मा से परमात्मा बनने की दिशा को ही सत्य माना है। सही दिशा पर चलने से दशा सुधरती है। आत्मकल्याण के पथ पर दृढ़ संकल्प के साथ बढ़ते हुए हम भी लक्ष्य को प्राप्त करने की कोशिश करें। दूसरों को कष्ट पहुंचाने वाले, पीड़ा देने वालों को सोए रहना ही अच्छा है। धर्म आराधना के लिए निरंतर प्रयास करने वाली आत्मा, आत्मोत्थान की दिशा में बढ़ने वाली आत्मा का जागते रहना श्रेष्ठ है।

हर दिन हो रही है आध्यात्मिक चर्चा
नगरपुरा तीर्थ में हर दिन आध्यात्मिक चर्चा हो रही है। धार्मिक अनुष्ठान भी आयोजित किए जा रहे हैं। इसमें प्रदेश और देश भर के श्रद्धालु शामिल हो रहे हैं। शुक्रवार को हुए कार्यक्रम में जैन साध्वी आज्ञायशा, मयूर भाई सेठ, प्रवीण शाह, माणकचंद कोचर, सरलाबेन, धर्मेश जैन आदि शामिल हुए। जैन साध्वी लक्ष्ययशा के जीवन प्रसंग का स्मरण करते हुए अनुमोदना करते हुए दीर्घायु जीवन की कामना की।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। इस समय ग्रह स्थितियां आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही हैं। आपको अपनी प्रतिभा व योग्यता को साबित करने का अवसर ...

और पढ़ें