सोलो और ग्रुप डांस में करमा, राउत नृत्य की प्रस्तुति से छग की संस्कृति को बताया

Bhilai News - सिविक सेंटर में बीते 10 दिनों से चल रहे सरस मेला का समापन रविवार को हुआ। इस दौरान ट्विनसिटी समेत ग्रामीण क्षेत्र के...

Nov 11, 2019, 06:37 AM IST
सिविक सेंटर में बीते 10 दिनों से चल रहे सरस मेला का समापन रविवार को हुआ। इस दौरान ट्विनसिटी समेत ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों के होनहार बच्चों ने अपनी प्रस्तुतियों से छत्तीसगढ़ की कला और संस्कृति को बताया। साथ ही पंजाबी, ओडिशी, भरतनाट्यम और दूसरे प्रदेशों की संस्कृति को भी नृत्य व नाटक के जरिए बताया।

रविवार को केडी पब्लिक स्कूल के छात्रों ने सबसे ज्यादा प्रस्तुतियां दी। छात्र-छात्राओं ने सोलो डांस, ग्रुप डांस में करमा, राउत नाच नृत्य की प्रस्तुति से समां बांध दिया। समूह गीत से उपस्थित लोगों ने खूब तालियां बटोरी। वहीं अक्षिता जैन ने छत्तीसगढ़ी क्लासिकल नृत्य, अहिल्या साहू व साथियों ने सामूहिक नृत्य प्रस्तुत किया। देवयानी साहू ने लोकनृत्य और स्कूली बच्चों ने छत्तीसगढ़ की परंपरा को नृत्यों के माध्यम से बताया। गीतेश नायडू ने बांसूरी वादन, अंज साहू ने युगल नृत्य और मेडेसरा की छात्राओं ने सामूहिक नृत्य प्रस्तुत किया। इसके अलावा प्रेमांजली साहू ने अपने वक्तव्य में छत्तीसगढ़ की विशेषताओं की जानकारी दी।

दुर्ग के केडी पब्लिक स्कूल की छात्राओं ने सामूहिक नृत्य में प्रस्तुति देकर उपस्थित लोगों का मन मोह लिया।

कलाकारों ने छत्तीसगढ़ की कला व परंपरा को नृत्य के माध्यम से बताया। एकल नृत्य में भी खूब तालियां बटोरी

23 राज्यों के समूह ने लगाए थे 250 स्टाल

मेल में 23 राज्यों से आए स्व सहायता समूहों ने कुल 250 स्टाल लगाए थे। प्रदर्शनी में इस बार छत्तीसगढ़ के व्यंजन छाए रहे। युवा वर्ग दोसा, चाऊमीन, फास्ट फूड की जगह फरा, चीला के लुत्फ उठाते दिखे। इसके अलावा बस्तर की कलाकृतियां भी यहां खासी पंसद की गई। केरला का ग्रुप आर्टिफििशयल ज्वेलरी की भी खूब खरीदी हुई।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना