आचार संहिता में मुरुम खनन के लिए निगम ने चलाई नोटशीट, बिना रॉयल्टी दिए खनन, बवाल के बाद बंद

Bhilaidurg News - ठगड़ा बांध में मुरुम खनन और परिवहन को लेकर बवाल मच गया है। इस जगह पर खनन करने पहले निगम ने करीब 12 लाख रुपए का टेंडर...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 06:55 AM IST
Durg News - chhattisgarh news model code of conduct for murium mining in the code of conduct without giving royalty mining after closure
ठगड़ा बांध में मुरुम खनन और परिवहन को लेकर बवाल मच गया है। इस जगह पर खनन करने पहले निगम ने करीब 12 लाख रुपए का टेंडर निकाला। बाद में इस टेंडर को ही निरस्त कर दिया गया।

इसमें बड़ा खुलासा हुआ है कि आचार संहिता के दौरान ही निगम ने खनन से संबंधित फाइल चलाई थी। निगम के सत्तापक्ष यह भी आरोप लगाते रहे कि शहर विधायक अरुण वोरा की अनुशंसा पर व्यक्ति विशेष को यह गहरीकरण व समतलीकरण के लिए अनापत्ति निगम ने जारी की। वह भी आचार संहिता के दौरान। इसके बाद गुरुवार की दोपहर एमआईसी शिवेंद्र परिहार मौके पर पहुंच गए। उन्होंने घटना की जानकारी मेयर चंद्रिका चंद्राकर को दी। मेयर ने तत्काल काम रुकवाने का आदेश जारी कर इस पूरे मामले में जांच करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। साथ ही मुख्य निर्वाचन आयोग से शहर विधायक व निगम अधिकारियों के खिलाफ शिकायत करने की बात कही। खास बात यह है कि खनन को लेकर खनिज विभाग से रायल्टी मामले के तूल पकड़ने के बाद ली गई।

सत्ता पक्ष का आरोप: विधायक की अनुशंसा पर जारी हुई एनओसी

खुलासे के बाद विभाग से तत्काल ली गई रायल्टी

इस मामले के खुलासे के बाद गुरुवार को ही संबंधित ने खनिज विभाग से करीब 1400 घनमीटर तक खुदाई की रायल्टी ली। 70 हजार रुपए उसके तरफ चालान के माध्यम से जमा कराए गए। इस मामले में एमआईसी शिवेंद्र परिहार का आरोप है कि पिछले 5 दिनों से बिना निगम व सिंचाई विभाग को जानकारी दिए धड़ल्ले के खुदाई कर रायल्टी की भी चोरी गई गई। खनिज विभाग को निगम से टेंडर जारी होने की जानकारी दी गई। तीनों सरकारी विभागों को गुमराह कर यह पूरा कार्य किया गया।

ठगड़ा बांध में गुरुवार दोपहर मुरुम खनन का काम चल रहा था।

राजस्व प्रभारी ने मौके पर पहुंचकर रुकवा दिया काम

राजस्व प्रभारी शिवेंद्र परिहार गुरुवार की दोपहर ठगड़ा बांध पहुंचे। जहां उन्होंने मुरुम का खनन और परिवहन होते देख तत्काल पहले काम रुकवाया। तत्काल दस्तावेजों का परीक्षण किया। इसमें जानकारी मिली कि किसी सोमनाथ मुखर्जी को निगम व सिंचाई विभाग के तरफ से अनापत्ति जारी हुई है। इसकी जानकारी उन्होंने दुर्ग मेयर को दी। दस्तावेजों के परीक्षण से खुलासा हुआ कि विधायक अरुण वोरा ने 25 मई को इस मामले में निगम के 12 लाख में गहरीकरण और समतलीकरण के जारी टेंडर को निरस्त करने व संलग्न आवेदनकर्ता को कार्य दिए जाने का पत्र फाइल में लगी हुई है। इसके अाधार पर निगम ने 3 जून को अनापत्ति पत्र जारी कर दिया।

अब मामले में जिम्मेदार हो गए आमने-सामने

हमने काम रुकवा दिया अफसरों की लापरवाही है


आज जाएंगे जांच में

लेटर के आधार पर एनओसी



जनहित का काम हो, जनप्रतिनिधि यही चाहते हंै


टेंडर निकालना बताया गया


X
Durg News - chhattisgarh news model code of conduct for murium mining in the code of conduct without giving royalty mining after closure
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना