बीएसपी सीईओ बनने अब 5 साल तक प्लांट में काम करना जरूरी

Bhilaidurg News - बीएसपी में सीईओ की नियुक्ति प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसके लिए सेल बोर्ड ने मापदंड तय कर दिए हैं। केवल वही अफसर इस पद...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 06:45 AM IST
Bhilai News - chhattisgarh news now it is necessary to work in the plant for 5 years to become bsp ceo
बीएसपी में सीईओ की नियुक्ति प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसके लिए सेल बोर्ड ने मापदंड तय कर दिए हैं। केवल वही अफसर इस पद के लिए दावेदार कर सकता है, जिसने 20 साल के सर्विस पीरियड के दौरान कम से कम 5 साल प्लांट आपरेट करने का अनुभव हों। साथ ही ईडी में दो साल और जीएम में पांच साल की सर्विस बाकी रहने रहना भी जरूरी है।

बीएसपी के सीईओ एके रथ 31 मई को रिटायर हो रहे हैं। नए सीईओ की चयन प्रक्रिया कार्पोरेट ऑफिस में शुरू हो गई है। प्रबंधन ने स्पष्ट कर दिया है कि इस पद के लिए केवल ईडी और जीएम ही पात्र होंगे। इनमें भी वे ही सीईओ के लिए दावेदारी कर सकेंगे जिनके पास प्लांट में प्रॉडक्शन और मैन्युफेक्चिरिंग क्षेत्र का अनुभव रहा हो। बीई/बीटेक पास होना तो जरूरी है ही, यदि एमबीए डिग्री भी हो तो दावेदार को एक्स्ट्रा एडवांटेज मिलेगा। एक जून 2019 की स्थिति ईडी का सर्विस पीरियड दो साल और जीएम के लिए 5 साल बाकी रहना जरूरी होगा।

सीईओ बनने इस अंक गणित को भी करना होगा हासिल

50एवरेज क्रेडिट प्वाइंट (एसीपी)

बीएसपी में जीएम रह चुके ईडी की दावेदारी प्रबल

बीएसपी सीईओ के लिए चयन के दावेदारों को 18 अप्रैल तक आन लाइन आवेदन करना होगा। नए क्राइटेरिया के कारण सेल में ईडी और जीएम स्तर के कई अफसरों की दावेदारी अपने आप ही समाप्त हो गई है। वहीं बीएसपी में जीएम में महत्वपूर्ण मिल की जिम्मेदारी संभाल चुके और वर्तमान में कार्पोरेट आफिस में ईडी पदस्थ एक अफसर की दावेदारी पुख्ता मानी जा रही है। वहीं इसको लेकर एक लॉबिंग भी शुरू हो गई है। नेताओं तक से संपर्क साध रहे हैं।

सीईओ बनने के दौड़ में ये पहले ही हो गए बाहर

नए सीईओ के लिए दावेदार का 20 साल के सर्विस पीरियड में 5 साल वर्क्स, प्रोजेक्ट, आरडीसीआईएस, सीईटी और माइंस एरिया में काम करने का अनुभव भी हो। इस नियम से जो अफसर बीएसपी सीईओ बनने की इच्छा पाले हुए थे उनके लिए यह बड़ा झटका रहा। क्योंकि अब तक सीईओ बनने के लिए जो क्राइटेरिया हुआ करते थे वो इतने सख्त नहीं थे। प्रबंधन के इस फैसले से जो अफसर दावेदारी से बाहर हो गए। अब इनके बाद बचे अफसरों के बीच लॉबिंग का खेल शुरू हो गया है। यह भी तय हो गया कि अब नए सीईओ पर रावघाट प्रोजेक्ट को पूरा करने की जिम्मेदारी होगी।

10

क्वालीफिकेशन

10 लेंथ सर्विस इन ग्रेड

इधर, एम रवि को लेकर अब भी सस्पेंस कायम

9 अक्टूबर को कोक ओवन हादसे के बाद से निलंबित चल रहे एम रवि को लेकर मंत्रालय अब तक किसी निर्णय पर नहीं पहुंचा है। मंत्रालय की ओर से गठित कमेटी ने रिपोर्ट सौंप दी है। जिसके बाद से उन्हें अब तक चार्जशीट तक जारी नहीं किया गया है। ऐसे में उनकी बहाली की संभावना बढ़ गई है। अब देखने वाली बात यह है कि उनकी बहाली कंपनी के किस यूनिट में होगी। उनके रिटायरमेंट को अभी भी करीब 10 महीने बाकी है।

X
Bhilai News - chhattisgarh news now it is necessary to work in the plant for 5 years to become bsp ceo
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना