एमए उत्तीर्ण शिक्षक को बताया बीएससी पास, पदोन्नति को भी 10 साल कर दिया कम

Bhilaidurg News - अंतरिम वरिष्ठता सूची का प्रकाशन जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में किया गया है। शिक्षकों की अंतरिम वरिष्ठता सूची...

Dec 04, 2019, 08:00 AM IST
Durg News - chhattisgarh news passed ma pass told bsc teacher promotion also reduced to 10 years
अंतरिम वरिष्ठता सूची का प्रकाशन जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में किया गया है। शिक्षकों की अंतरिम वरिष्ठता सूची में भारी गड़बड़ी सामने आई है। वरिष्ठता सूची ऐसी लापरवाही से तैयार की गई कि 100 शिक्षकों की सर्विस संबंधी जानकारी ही गलत दर्ज की गई है। एमए उत्तीर्ण शिक्षक को बीएससी पास बताया गया है। एक शिक्षक की पदोन्नति दस साल कम कर दिया। सबसे ज्यादा मामले शिक्षक एलबी के है। 82 शिक्षक एलबी की शैक्षणिक योग्यता से लेकर प्रमोशन की तिथि गलत दर्ज है।

जिला शिक्षा विभाग द्वारा संभागीय शिक्षा कार्यालय को शिक्षकों की अंतरिम वरिष्ठता सूची तैयार कर भेजी गई है। वरिष्ठता तैयार कराने में विभाग द्वारा बेहद लापरवाही बरती गई। इसका नतीजा यह कि शिक्षकों को इसे सुधरवाने के लिए चक्कर काटने पड़ रहे। विभाग में शिक्षकों की सेवा पुस्तिका है लेकिन आपत्तियों के बाद उसकी जानकारी गलत साबित होने लगी है।

अध्यापन छोड़ शिक्षक मुख्यालय में

जानिए, शिक्षकों की अंतरिम वरिष्ठता सूची में किस तरह किया गया गड़बड़ी

केस-1 : नियुक्ति तिथि है गलत : शिक्षिका इंद्राणी ठाकुर की नियुक्ति तिथि 10 सितंबर 1998 है लेकिन वरिष्ठता सूची में नियुक्ति तिथि 5 अगस्त 1998 दर्शाया गया है। गीता सदारे की नियुक्ति तिथि 19 सितंबर 1998 हैं। नियुक्ति तिथि 9 सिंतबर 1998 दर्ज है।

1885 शिक्षकों की सूची दुर्ग जिले में जारी की गई है।

केस-2: पदोन्नति को कर दिया कम : शिक्षक तेजराम यादव को पदोन्नति 13 अक्टूबर 2008 को दी गई थी। पदोन्नति तिथि को दस साल कम कर दिया गया है। यादव की पदोन्नति 19 अप्रैल 2018 दर्ज किया गया है। सरस्वती गिरिया 13 फरवरी 2013 को पदोन्नत हुई, उसे 24 जुलाई 1998 लिखा।

363 पूर्व माध्यमिक प्रधान पाठकों के नाम है।

केस-3: एमएससी की पढ़ाई को बताया एमए : शिक्षक दिनेश देवांगन की शैक्षणिक योग्यता एमए अंग्रेजी हैं लेकिन वरिष्ठता सूची में बीएससी दर्ज है। चंद्रिका सिन्हा ने एमए हिन्दी की पढ़ाई की है लेकिन सूची में बीएचएससी दर्ज किया गया है। चंद्रकांत गजेंद्र का बीएड की डिग्री है, उसे नहीं जोड़ा।

529 उच्च वर्ग शिक्षक के नाम है।

993 शिक्षक एलबी है जिनका नाम सूची में है।

केस-4: जन्मतिथि व नाम भी गलत : फाल्गुनी बैनर्जी की जन्मतिथि 16 अक्टूबर 1966 है इसे वरिष्ठता सूची में 16 अक्टूबर 1965दर्शाया गया है। अंजुम खानम शिक्षिका का नाम अंजुम खान कर दिया। तेजराम यादव की नियुक्ति सहायक शिक्षक के रूप में दर्ज, इस पद पर नियुक्त ही नहीं हुआ।

इसलिए कह रहे हैं कि यह लापरवाही

जिला शिक्षा विभाग द्वारा छह महीने पहले ही सेवा पुस्तिका सुधार के लिए दुर्ग ब्लॉक में विशेष शिविर लगाया गया। इसके अलावा सभी ब्लॉकों में सेवा पुस्तिका को अपडेट रखने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी ने निर्देश जारी किए। शिक्षक एलबी के रिकार्ड को राज्य में ऑनलाइन भेजने के लिए बाबूओं को विशेष प्रशिक्षण मिला। उसके बाद सुधार के लिए प्रभावित शिक्षकों ने आवेदन किए।

सूची सभी डीईओ से मांगी है, सुधार करेंगे


X
Durg News - chhattisgarh news passed ma pass told bsc teacher promotion also reduced to 10 years
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना