डिप्लोमा इंजीनियर्स में पदनाम को लेकर वरिष्ठता क्रम का कोई विवाद नहीं: डेफी

Durg Bhilai News - सेल सहित भिलाई इस्पात संयंत्र के डिप्लोमा इंजीनियर्स के पद नाम को लेकर 16 जनवरी को दिल्ली में बैठक होगी। सेल की सभी...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 02:20 AM IST
Bhilai News - chhattisgarh news there is no controversy regarding seniority order for designation in diploma engineers daffy
सेल सहित भिलाई इस्पात संयंत्र के डिप्लोमा इंजीनियर्स के पद नाम को लेकर 16 जनवरी को दिल्ली में बैठक होगी। सेल की सभी इकाइयों में काम करने वाले डिप्लोमा इंजीनियर्स ने प्रदर्शन कर अपनी मांग को मजबूती से आगे रखा है। प्रदर्शन में केंद्रीय यूनियन एटक एचएमएस बीएमएस ने एक सुर में डिप्लोमा इंजीनियर्स की मांगो को जायज ठहराते हुए समर्थन देने का ऐलान किया है। डिप्लोमा इंजीनियर्स में पदनाम को लेकर वरिष्ठता का कोई विवाद नहीं है।

भिलाई के डिप्लोमा इंजीनियर्स की संस्था डेब ने गुमराह करने वालों को चेतावनी देते हुए कहा कि वह उनकी हरकत पर नजर बनाए हुए है। डेब ने यह स्पष्ट किया की सीनियर्स में पदनाम को लेकर असंतोष या असमंजस नहीं है।

समर्थन : एचएमएस और बीएमएस ने मांगों को माना जायज

डेब ने आयोजित की पदनाम मामले में बैठक।

आंंदोलन में सीनियर्स ने संभाली कमान

डिप्लोमा इंजीनियर्स के अध्यक्ष राजेश शर्मा ने कहा कि आंदोलनों में जूनियर सीनियर का भेदभाव नहीं है। 4 तारीख की रैली में भी वरिष्ठ कर्मियों ने सक्रिय रूप से भाग लिया था। जूनियर और सीनियर के मामले में विवाद इसलिए भी नही बनता क्योंकि ज्यादतर नए डिप्लोमा इंजीनियर्स मोडेक्स में पोस्टेड है ।

जानिए क्या है मंत्रालय का आदेश

इस्पात मंत्रालय ने 1 मई 2017 को जारी दिशा-निर्देश में स्पष्ट किया था कि सेल में कार्यरत डिप्लोमा इंजीनियर्स को अन्य सरकारी प्रतिष्ठान की तरह जूनियर इंजीनियर पदनाम देते हुए इनके प्रमोशन को अन्य भारतीय प्रतिष्ठानों के समकक्ष बनाया जाए ज्ञात हो कि अन्य सरकारी प्रतिष्ठानों में डिप्लोमा इंजीनियर्स को जूनियर इंजीनियर के रूप में भर्ती किया जाता है। वहीं सेल में अन्य कर्मियों के साथ कॉमन एलोपी में तकनीशियन के रूप में भर्ती किया जाता है।

गुमराह करने वालों पर है नजर

टी पवन साहू ने कहा कि डेब डिप्लोमा इंजीनियर्स के पद नाम के मामले में हो रहे हर घटनाक्रम पर अपनी नजर रखे हुए है तथा संगठन आने वाले परिणाम को देख कर अपने निर्णय तय करेगा। पवन साहू ने कहा कि डिप्लोमा इंजीनियर्स एस 3 से जूनियर इंजीनियर तथा हायर कैडर के लिए वरिष्ठता के अनुसार पदनाम की मांग की है।

पृथक एलोपी ना होने से होते हैं विवाद

डिप्लोमा इंजीनियर एसोसिएशन के महासचिव डीपीएस बरार ने कहा कि पूर्व में भी डिप्लोमा इंजीनियर्स को ज्वाइनिंग के समय कर्मियों और नेताओं के विरोध का सामना करना पड़ता था, जिसका प्रमुख कारण डिप्लोमा इंजीनियर्स के लिए पृथक एलोपी का ना होना था। जब डिप्लोमा इंजीनियर्स एस 6 ग्रेड में ज्वाइन करते थे, तब भी विभागीय नेता एवं वरिष्ठ कर्मचारी उनके आगे के प्रमोशन के अवसर कम हो जाने के कारण इन डिप्लोमा इंजीनियर्स का विरोध करते थे। ऐसे में कई बार डिप्लोमा इंजीनियर्स को विभाग से वापस भेज दिया जाता था। यूनियन और प्रबंधन ने इसका स्थाई हल ना निकालते हुए इसे टालने का ही काम किया है। बैठक में अनेक लोग मौजूद थे।

X
Bhilai News - chhattisgarh news there is no controversy regarding seniority order for designation in diploma engineers daffy
COMMENT