सॉफ्टवेयर में टोकन सिस्टम बंद, इस महीने नहीं मिलेगा किसानों को टोकन

Bhilaidurg News - धीमी व देरी से शुरू हुए परिवहन का नतीजा खरीदी केंद्रों में 9 लाख 20 हजार क्विंटल धान जाम हो गया है। इसकी वजह से...

Jan 16, 2020, 07:00 AM IST
Durg News - chhattisgarh news token system closed in software farmers will not get tokens this month
धीमी व देरी से शुरू हुए परिवहन का नतीजा खरीदी केंद्रों में 9 लाख 20 हजार क्विंटल धान जाम हो गया है। इसकी वजह से सॉफ्टवेयर में टोकन सिस्टम बंद करना पड़ा। हाल यह है कि इस महीने किसानों को टोकन नहीं मिलेगा। बिना टोकन के किसान धान नहीं बेच पाएंगे।

दुर्ग जिले में 80 खरीदी केंद्रों से किसानों के धान खरीदे जा रहे हैं। एक दिसंबर से धान खरीदी शुरू हुई। राज्य सरकार ने तीन दिन के भीतर धान उठाव करने के निर्देश दिए थे। उसके बावजूद 12 दिन बाद धान का उठाव चालू किया गया। वर्तमान में धान का उठाव तेजी से नहीं हो रहा। इसलिए धान समितियों में जाम हो गया है। इसकी वजह से खरीदी पर असर पड़ने लगा है।

टोकन देना बंद हुआ

धान खरीदी सॉफ्टवेयर के जरिए हो रहा है। सॉफ्टवेयर में टोकन देने का सिस्टम ही मंगलवार को लॉक कर दिया गया। सिस्टम लॉक होने की वजह से किसानों को दो दिनों से समितियां टोकन नहीं बांट पा रही। केंद्र प्रभारियों के मुताबिक धान इतना ज्यादा जाम है कि टोकन इस महीने नहीं बांट पाएंगे।

9. 20 लाख क्विं. धान जाम

केंद्र प्रभारियों की रिपोर्ट के हिसाब से जिले के 80 खरीदी केंद्रों में 9 लाख 20 हजार क्विंटल धान जाम है। इनमें से 50 केंद्रों में धान का ओवर स्टॉक हो गया है। औंधी, घोठा, भाठाकोकड़ी,चंदखुरी,देवरी, नगपुरा, ननकटठी, पहडोर, बटरेल, मर्रा, सोरम, सुरपा, केसरा, कुर्मीगुंडरा आदि शामिल हैं।

नियम शिथिल नहीं

सरकार ने सॉफ्टवेयर में एक किसान के रकबा के हिसाब से तीन टोकन देना तय किया है। जिले के 51 हजार 293 किसानों ने धान बेचा है।सूत्र बताते हैं कि इनमें से 21 हजार किसान ऐसे हैं जिन्हें अपने तीसरे टोकन की जरूरत है ताकि वे बाकी धान बेच सकें। इसके अलावा 37 हजार 172 किसान अपना धान पहली बार बेचने का इंतजार कर रहे हैं।

रोज काट रहे हैं डीओ


X
Durg News - chhattisgarh news token system closed in software farmers will not get tokens this month
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना