अपने ही यूनिक पैटर्न में फंस गया शातिर चोर

Bhilaidurg News - तीसरे फ्लोर पर लिफ्ट का दरवाजा खोलकर शोरुम के अंदर पहुंच गया आरोपी गड्ढे में पैर डालकर अंदर घुसने लगा। पैर...

Feb 15, 2020, 06:50 AM IST
Bhilai News - chhattisgarh news vicious thief caught in his own unique pattern

तीसरे फ्लोर पर लिफ्ट का दरवाजा खोलकर शोरुम के अंदर पहुंच गया

आरोपी गड्ढे में पैर डालकर अंदर घुसने लगा। पैर डक्ट एरिया में लगे लिफ्ट के एंगल से टकरा गया। डक्ट एरिया में लिफ्ट की रस्सी के जरिए वह सरकते हुए थर्ड फ्लोर तक पहुंच गया। पेचकस से लिफ्ट का डोर खोलकर दोनों दरवाजे के बीच जगह बना ली। डक्ट एरिया से निकलकर तीसरे फ्लोर पर पहुंचा और पैर दान को दरवाजे के बीच फंसा दिया। दरवाजा खुलने के बाद वह फ्लोर पर पहुंच गया।

प्यास लगी तो शोरूम के किचन से पानी पीया, फिर काट दी बिजली

छह घंटे तक लगातार काम करने के कारण वह थक गया था। तीसरे फ्लोर पर आते ही उसे प्यास लग गई। उसे पानी की बूंदें गिरने की आवाज सुनाई दी। वह पानी की तलाश में किचन में पहुंच गया। पानी पीने के बाद वह डीवीआर रुम में पहुंचा और बिजली के तार तोड़ दिए। इससे लाइट बंद हो गई और सीसीटीवी कैमरे की रिकार्डिंग भी बंद हो गई। सीढ़ियों से वह ग्राउंड फ्लोर तक पहुंच गया।

रातभर सोने के बाद सुबह उठा और 6 घंटे तक तोड़ता रहा छत की जीवार

आरोपी इसी जगह से शोरूम के भीतर प्रवेश किया। यहीं रात बिताया।

बिल्डिंग की दीवार को देखकर बनाया प्लान

सुपेला चौराहे से ऑटो के जरिए दुर्ग पहुंच गया

जेवर व पैसे से भरा बैग लेकर लोकेश सुपेला चौराहे पर पहुंच गया। यहां से ऑटो के जरिए वह दुर्ग बस स्टैंड स्थित रैन बसेरा पहुंच गया। बैग लॉकर में रखने के बाद होटल में खाना खाने गया। लौटकर सो गया और सुबह उठकर रायपुर चला गया। उसने अपना मोबाइल चालू किया। गुरुवार शाम वह रायपुर से दुर्ग लौट आया। लोकेशन ट्रेस करने और शंका के दायरे में होने के कारण टीम उसकी तलाश में दो दिनों से रैन बसेरा के आस पास खड़ी थी। लोकेश होटल से खाना खाकर निकला टीम ने पकड़ लिया।

जानिए: चोर ने 24 घंटे शॉप में बिताया, 36 घंटे में धरा गया

बाइक शोरूम में की थी आखिरी चोरी, जेल से छूटते ही ज्वेलरी शॉप को बनाया निशाना

नवंबर 2019 को लोकेश जेल से छुटकर दुर्ग आ गया था। इसी दौरान उसने बड़ी चोरी की वारदात की प्लानिंग कर ली थी। 20 दिन पहले वह आकाश गंगा इलाके में कपड़े खरीदने आया था। जींस खरीदने के दौरान उसने निर्माणाधीन इमारत दिख गई थी। शोरुम और इमारत को आगे पीछे से देखने के बाद उसे कंफर्म हो गया था कि चोरी करना आसान होगा। रैकी के लिए लोकेश दुर्ग से बस से भिलाई आता था। एक हफ्ते पहले उसे पता चला कि पूरा मार्केट मंगलवार को बंद रहता है। उसने सोमवार रात शोरुम तक पहुंचने की योजना बना ली। वह रात को ही शोरूम में घुस गया था।

जिस रास्ते से घुसा उससे 1 ही चोर के होने व कदकाठी का अंदाजा लगा, लोकेश को ट्रेस किया और दबोचा

लोकेश ने हैंडी टाइल्स कटर का उपयोग करने के लिए सेकेंड फ्लोर से बिजली का कनेक्शन किया था। इसके लिए उसे लिफ्ट रुम से लंबी वायर मिल गई थी। ग्राउंड फ्लोर तिजोरी की ग्रिल काटकर मोड़ने के बाद उसने पॉलीथिन में पहले गिरवी रखे जेवर रखे। फिर बाकी जेवर और पैसे रखकर सीढिय़ों के जरिए थर्ड फ्लोर पर पहुंच गया।

सेकेंड फ्लोर से कटर का कनेक्शन लेकर ग्रिल काटा, मोड़ कर अंदर घुसा

आरोपी सोमवार रात करीब 11 बजे निर्माणाधीन बिल्डिंग के पास पहुंच गया था। बिल्डिंग के पिछले हिस्से में लगे बांस के डंडे के सहारे वह छत पर पहुंच गया। चोरी करने के इरादे से पहुंचा लोकेश अपने साथ बैग और हैंडी टाइल्स कटर लेकर आया था। दोनों इमारत के बीच बांस की चैली से ब्रिज बनाकर शोरुम की छत पर पहुंच गया। छत पर लगा दरवाजे तोड़कर अंदर घुसकर रस्सी से उसे बांध दिया। दरवाजा बार-बार ना खुले। इसके बाद रात 3 बजे तक चुपचाप कैबिन में बैठा रहा। मंगलवार सुबह 7 बजे सोकर उठ गया। वह शोरुम में अंदर जाने का प्लान बनाने लगा। उसे एल शेप का लोहे की राड मिल गई। दीवार पर प्लास्टिक का पाइप दिखा। तभी दीवार को तोड़ दिया।

दस टीम बनी थी, कवर्धा गई टीम को सफलता

आईजी विवेकानंद सिन्हा के मुताबिक एएसपी सिटी रोहित झा, एएसपी ग्रामीण लखन पटले, सीएसपी विवेक शुक्ला, विश्वास चंद्राकर, अजीत यादव, डीएसपी क्राइम प्रवीरचंद तिवारी, टीआई गोपाल वैश्य, गौरव तिवारी, राजेश बागड़े, जितेंद्र वर्मा, भूषण एक्का, ब्रिजेश कुश्वाहा और नरेश पटेल, 1 एसआई, 4 एएसआई,6 प्रधान आरक्षक,26 आरक्षक और 3 प्रशिक्षु डीएसपी को इनाम दिया जाएगा। साथ में मुख्यालय में अनुशंसा पत्र देकर पुरस्कार दिलाने की कोशिश की जाएगी।

अजय यादव एसएसपी दुर्ग

बुधवार सुबह करीब 10 बजे सुपेला के आकाशगंगा इलाके की पारख ज्वेलर्स में चोरी होने की सूचना मुझे मिली। एएसपी, सीएसपी और टीआई समेत खुद भी घटना स्थल पर पहुंच गए। प्राथमिक तौर पर किसी बड़े गिरोह के चोरी में शामिल होने की शंका हो गई। एएसपी सिटी रोहित ने मीटिंग के दौरान लोकेश उर्फ गोलू श्रीवास निवासी पांडातराई (कवर्धा) नाम के बदमाश पर चोरी में शामिल होने की शंका जाहिर की। इस पर एक टीम को लोकेश की कुंडली तैयार करने के लिए लगाया गया।

जांच के दौरान पता चला कि लोकेश का 9 फरवरी से मोबाइल बंद था। लेकिन बुधवार सुबह उसका मोबाइल दुर्ग में चालू हुआ और फिर कुछ देर बाद उसकी लोकेशन रायपुर में मिलने लगी। रोहित ने बताया कि लोकेश अकेले बड़ी चोरी करने में माहिर है। रोहित उसे कवर्धा और टू व्हीलर शोरुम से 9 लाख कैश चोरी करने की वारदात के बाद पकड़ चुका था। चोरी का पैटर्न लोकेश से मिल रहा था। इस पर अकेले वारदात करने वालों की कुंडली तैयार की गई। टीम ने सलमान अंसारी और लोकेश पर काम करना शुरु किया गया। पता चला कि सलमान जेल में है। जबकि लोकेश तीन महीने पहले की जेल से छुटा है। उसके मोबाइल की जानकारी जुटाई गई तो दुर्ग और भिलाई में लोकेशन मिली। इस वजह से रोहित की टीम लगातार उस पर नजर बनाए हुए थी। गुरुवार रात उसे पकड़ लिया गया।

घंटे में खुलासा, धूम फिल्म के अंदाज में लोकेश ने चोरी को दिया था अंजाम

36 **

लोगों से पूछताछ की गई।

130 **

हजार से ज्यादा कैमरे की रिकार्डिंग

01 **

हजार कॉल डिटेल खंगाले गए।


12**

पारख ज्वेलर्स चोरी का खुलासा

Bhilai News - chhattisgarh news vicious thief caught in his own unique pattern
X
Bhilai News - chhattisgarh news vicious thief caught in his own unique pattern
Bhilai News - chhattisgarh news vicious thief caught in his own unique pattern
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना