• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • Durg स्टेशन के गुड्स एरिया व हनुमान मंदिर में संदिग्धों का डेरा, सिकोला भाठावासियों को आने जाने में दिक्कत

स्टेशन के गुड्स एरिया व हनुमान मंदिर में संदिग्धों का डेरा, सिकोला भाठावासियों को आने-जाने में दिक्कत / स्टेशन के गुड्स एरिया व हनुमान मंदिर में संदिग्धों का डेरा, सिकोला भाठावासियों को आने-जाने में दिक्कत

Bhilaidurg News - रेलवे परिक्षेत्र में संदिग्ध घुमंतु बाबाओं की भीड़ बढ़ने लगी है। ये लोग अलग-अलग जत्थों में परिवार समेत अाकर रेलवे के...

Oct 23, 2018, 03:26 AM IST
Durg - स्टेशन के गुड्स एरिया व हनुमान मंदिर में संदिग्धों का डेरा, सिकोला भाठावासियों को आने-जाने में दिक्कत
रेलवे परिक्षेत्र में संदिग्ध घुमंतु बाबाओं की भीड़ बढ़ने लगी है। ये लोग अलग-अलग जत्थों में परिवार समेत अाकर रेलवे के एरिया में डेरा डाले हुए है। उधर शहर में चोरी और लूट की घटनाएं बढ़ रही है। जिसे लेकर पुलिस प्रशासन मुस्तैदी से अभियान चलाकर कार्रवाई कर रहा है। वहीं रेलवे परिक्षेत्र के सुरक्षा के जिम्मेदार इन्हें नजरअंदाज कर रेलवे परिक्षेत्र को असामाजिक तत्वों के अड्डा बना दिया है।

दुर्ग रेलवे स्टेशन के पीछे स्थित गुड शेड में पहले ये अपना ठिकाना बनाए हुए थे। लेकिन गुड्स एरिया में ये केवल रुकते थे। नहाने और अन्य कामों के लिए दूर जाना पड़ता था। इन संदिग्धों के वहां रहने से सिकोला भाटा की ओर से आवाजाही करने वाले रेलयात्रियों को असुविधा होती थी। एक-दो बार यात्रियों से उनकी झड़प भी हुई, जिसके बाद ये लोग वहां से हटकर गुड शेड के सामने स्थित हनुमान मंदिर के पास डेरा डाले हुए है। अनदेखी के कारण बड़ी घटना की आशंका बनी रहती है।

लापरवाही: रेलवे के गोदाम के पास ही खाना बनाते रहते हैं

स्टेशन के पास खाना बदोश और इसी तरह जीवन व्यापन करने वालों का डेरा जमा हुआ है।

रेलवे एरिया है संदिग्धों का अड्डा

यहां बाबाओं का आना जाना लगा रहता है। ये कभी स्टेशन तो कभी स्टेशन के बाहर दिखते है। लंबे समय रूकने वाले बाबा और अन्य लोग गुड शेड में या उसके बाहर स्थित खुले एरिए में रहते है। सुरक्षा के किसी भी जिम्मेदारों की नजर नहीं पड़ती है।

तीन तरह के लोगों के तीन ठिकाने हैं यहां

रेलवे परिक्षेत्र में डेरा जमाए ये लोग अलग अलग तरह के होते है। एक गुट बंजारों की तरह, दूसरा देवार और भिखारियों के जैसे तीसरा गुट बाबाओं का होता है। जिनमें कितने बाबा कौन से बाबा है। इसकी और कोई जानकारी नहीं है।

आरपीएफ को किसी के बारे में कोई जानकारी नहीं

रेलवे की सुरक्षा ईकाई जीआरपी और आरपीएफ से जब इस बारे में पूछा गया। तो उन्हें इस संबंध में कोई जानकारी नहीं थी। कि ये रेलवे परिक्षेत्र में डेरा डाले हुए लोग कौन है, कहां से आए है। जिला पुलिस एक ओर संदिग्धों और अन्य काम के लिए आए लोगो से संबंधित थाने में मुसाफिर दर्ज कराने की बात कहती है। लेकिन रेलवे में महिनों तक रहने वाले इन संदिग्धों का पूछने वाला कोई नहीं।

सप्ताह में दो दिन होती है जांच, फिर भी कार्रवाई नहीं

रेलवे की प्रत्येक मंगलवार और गुरूवार मजिस्ट्रेट चेकिंग होती है। इस दौरान रेलवे एरिया में घूमने वाले संदिग्धों की धरपकड़ कर कार्रवाई की जाती है। लेकिन ये लोग महिनों वहां डेरा डालकर जमें होते है, उनपर कभी कार्रवाई नहीं होती।

सूचना परी की कार्रवाई


रेलवे परिक्षेत्र में तीन जत्थों में सौ से सवा सौ लोग

रेलवे परिक्षेत्र में शरण लिए इन संदिग्धों की जगह बदल गई। लेकिन वहां से हटाए नहीं गए। न ही उनके बारे में पूछा गया। कि वे लोग कौन है, उनकी पहचान क्या है। वर्तमान में धमधा नाका की दिशा में स्थित हनुमान मंदिर के पीछे और सामने देवारो व बंजारों के और पास में ही बाबाओं का जत्था है। सभी में 30 से 35 लोग कुल मिलाकर सौ से सवा सौ संदिग्ध रेलवे परिक्षेत्र में डेरा डाले है।

मुझे इसकी जानकारी नहीं


X
Durg - स्टेशन के गुड्स एरिया व हनुमान मंदिर में संदिग्धों का डेरा, सिकोला भाठावासियों को आने-जाने में दिक्कत
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना