पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

किशोरी के दुष्कर्मी को मरने तक जेल में रहने की सजा; जज ने कहा-नरमी बरती तो पड़ेगा गलत प्रभाव

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • छावनी क्षेत्र में किराये पर रहने वाले युवक ने की थी वारदात, अपने से तीन गुना छोटी उम्र की बच्ची से को बनाया शिकार
  • जुलाई 2015 की घटना, किशोरी गर्भवती हुई तो खुला मामला, 4 साल के ट्रायल में 10 लोगों की गवाही हुई
  • रिपोर्ट: दुष्कर्म के 80% मामले में आरोपी पीड़िता का परिचित या कोई रिश्तेदार
Advertisement
Advertisement

दुर्ग. अपनी उम्र से तीन गुना छोटी 13 वर्षीया किशोरी को सुसाइड करने की धमकी देकर आरोपी उससे दुष्कर्म करता रहा। गर्भवती होने पर मामले का खुलासा हुआ तो परिजनों ने आरोपी विजय लाल उर्फ भुवन (30) के खिलाफ जुलाई 2015 में छावनी थाने में अपराध पंजीबद्ध करा दिया। करीब चार साल चले ट्रायल में 10 लोगों की गवाही के बाद न्यायाधीश शुभ्रा पचौरी की अदालत ने आरोपी विजय लाल को अंतिम सांस तक जेल में रहने की सजा सुनाई है। 

1) बचाव पक्ष के वकील बोले: अपने परिवार का इकलौता कमाऊ पुरुष है विजय लाल, सजा में बरती जाए नरमी

बचाव पक्ष ने आरोपी के परिवार के इकलौते मुखिया होने का हवाला दिया। कहा कि वह अकेला कमाऊ पुरूष है। ऐसे में सजा में रियायत बरतने की अपील की। इस पर न्यायाधीश शुभ्रा पचौरी ने कहा कि छोटी बच्चियों के साथ लगातार लैंगिक अपराध बढ़ रहे हैं। ऐसे में आरोपी के साथ किसी भी प्रकार की नरमी बरतने से समाज में गलत प्रभाव पड़ेगा। पीड़िता के परिजनों ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि घर के पिछले कमरे में रहने वाला आरोपी उनकी बेटी को कई महीने से डरा-धमकाकर अनाचार करता था। 

अतिरिक्त लोक अभियोजक कमल किशोर वर्मा ने बताया कि किशोरी इतनी उम्र दराज नहीं थी कि विजय की नीयत को भांप सके। थाने में मामला दर्ज कराने से करीब 6 महीने पहले घर में अकेला पाकर किशोरी से उसने अनाचार किया। साथ ही धमकी दी कि किसी से जिक्र करेगी तो वह सुसाइड कर लेगा और उसके परिवार को हत्या के केस में फंसा देगा। विजय उर्फ भुवन की बातों सुनकर किशोरी घबरा गई। इसके बाद छह माह तक दुष्कर्म करता रहा।  

छावनी थाना क्षेत्र निवासी आरोपी विजय लाल उर्फ भुवन किशोरी के घर के पिछले हिस्से में रहता था। एक ही घर में रहने की वजह आरोपी से 13 साल की मासूम दिन में कई मेल-मुलाकात करती रहती थी।  पिता की उम्र के बराबर होने की वजह से पीड़िता उसके मिलने चली जाती थी। लेकिन मन में प्रति दुर्भावना लेकर बैठे भुवन ने किशोरी से इतनी नजदीकियां बढ़ा कि वो बेहिचक उसके कमरे में आने जाने लगी। 

मासूमों के साथ अनाचार के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। शहर के थानों में दर्ज 80% मामलों में विवेचना के बाद आरोपी करीबी ही निकल रहा है। अगस्त महीने तक अनाचार के 76 मामले सामने आए हैं। इसमें अधिकांश केस नाबालिग से हुए। 

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप कई प्रकार की गतिविधियों में व्यस्त रहेंगे। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आ जाने से मन में राहत रहेगी। धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में महत्वपूर्ण...

और पढ़ें

Advertisement