छत्तीसगढ़  / यहां 61 साल से 2 परिवारों के बीच ही घूम रही भाजपा-कांग्रेस की सियासत 13 बार चुनाव हुए



पूर्व विधायक लाल महेंद्र टेकाम और  विधायक अनिला भेड़िया पूर्व विधायक लाल महेंद्र टेकाम और विधायक अनिला भेड़िया
X
पूर्व विधायक लाल महेंद्र टेकाम और  विधायक अनिला भेड़ियापूर्व विधायक लाल महेंद्र टेकाम और विधायक अनिला भेड़िया

  • डौंडीलोहारा सीट से छह बार झुमुकलाल भेड़िया विधायक रहे
  •  आजाद भारत में झमित बनी थीं यहां की पहली एमएलए 
  • कांग्रेस से फिर विधायक अनिला भेड़िया, भाजपा से लाल महेंद्र टेकाम प्रत्याशी

Dainik Bhaskar

Oct 31, 2018, 10:42 AM IST

ब्रजेश पाण्डेय। बालोद. बालोद जिले की डौंडीलोहारा सीट...। यहां की विरासत और सियासत 61 साल से सिर्फ भेड़िया और टेकाम परिवार के इर्द-गिर्द रही है। शुरू से अब तक भाजपा व कांग्रेस एक ही परिवार पर दांव लगाती आ रही है। इस बार भी ऐसी ही स्थिति है। कांग्रेस ने वर्तमान विधायक अनिला भेड़िया पर दोबारा दांव लगाया है तो वहीं भाजपा ने पूर्व विधायक लाल महेंद्र टेकाम पर। 

 

वर्ष 1957 में इस सीट पर पहली बार विधिवत आम चुनाव हुआ, तब टेकाम परिवार की झमित कुंवर पहली विधायक बनीं। इसके बाद झुमुकलाल भेड़िया 1962 से 1985 तक लगातार पांच बार विधायक रहे। फिर 1992 में छठवीं बार विधायक बने। फिर उनकी पत्नी साज भेड़िया को टिकट मिला, जिन्हें छमुमो के जनकलाल ने हराकर जातिवाद को रोकने में कामयाबी पाई। 

 

फिर भी भाजपा और कांग्रेस इन्हीं परिवार के सदस्य को टिकट दिया। पिछले 13 विधानसभा चुनावों में 11 बार भेड़िया और टेकाम परिवार ने विधानसभा का प्रतिनिधित्व किया। चाहे यह क्षेत्र अविभाजित मध्यप्रदेश में रहा हो या वर्तमान छत्तीसगढ़ में, यहां इन्हीं दो परिवारों का वर्चस्व रहा। विरासत में मिली सियासत यहां अब तक बरकरार है। सिर्फ दो बार छमुमो के जनकलाल ठाकुर ने प्रतिनिधित्व किया। 

 

वर्ष ये रहे विधायक
1957 से 1962

झमित कुंवर

1962 से 1985 

झुमक लाल

1985 से 1990

जनक लाल

1990 से 1992 

झुमक लाल

1993 से 1998

जनक लाल

 1998 से 2003

डोमेंद्र भेड़िया

2003 से 2008

लाल महेंद्र

2008 से 2013

नीलम टेकाम

2013 से 2018

अनिला भेड़िया 

 

भेड़िया आठ तो टेकाम तीन बार बने विधायक 
कुल 13 विधानसभा चुनाव में 8 बार डौंडीलोहारा में भेड़िया परिवार के तीन सदस्य विधायक बने। वहीं तीन बार टेकाम परिवार के सदस्य विधायक बने। 


सांसद और मंत्री भी रहे झुमुकलाल 
क्षेत्र के राजनीति के जानकारों के अनुसार झुमुकलाल भेड़िया विधायक, मंत्री और सांसद के रूप में कर्मठता से योगदान दिया। उन्होंने तत्कालीन अविभाजित मध्यप्रदेश सरकार के विभिन्न विभागों में मंत्री पद का दायित्व निर्वहन कर कुशल प्रशासनिक क्षमता का परिचय दिया। डौंडीलोहारा के अलावा छत्तीसगढ़ व मध्यप्रदेश की जनता को सेवाएं दी। दोनों राज्यों के सार्वजनिक जीवन में भी उनका सम्मानजनक स्थान था। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना