--Advertisement--

माओवाद के खिलाफ तैयारी / नक्सलियों के इंटर स्टेट कॉरिडोर को सील करेगी पुलिस



नक्सलियों पर नकेल कसने के लिए तीन राज्यों के पुलिस अधिकारियों की हुई बैठक (फाइल फोटो) नक्सलियों पर नकेल कसने के लिए तीन राज्यों के पुलिस अधिकारियों की हुई बैठक (फाइल फोटो)
  • विधानसभा चुनाव : 3 राज्यों के जवान अब एक साथ चलाएंगे ऑपरेशन 
  • राजनांदगांव में 5 घंटे चली बार्डर मीटिंग में शामिल हुए 100 ऑफिसर्स 
Danik Bhaskar | Sep 16, 2018, 11:09 AM IST

राजनांदगांव. पुलिस अब नक्सलियों के इंटर स्टेट कॉरिडोर को सील करेगी। इसको लेकर राजनांदगांव में 5 घंटे तक बॉर्डर मीटिंग की गई। ऐसा पहली बार हुआ है कि 3 राज्यों के पुलिस अधिकारी नक्सल मुद्दे पर एक साथ अाए हों। विधानसभा चुनाव से पहले हुई बैठक में 100 से ज्यादा अधिकारी शामिल हुए। अब तीन राज्यों के सुरक्षा बल के जवान एक साथ ऑपरेशन चलाएंगे। 

छग, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के बॉर्डर किए गए हैं चिह्नित

  1. सूचनाओं का भी किया जाएगा अदान-प्रदान

    तीनों राज्य के पुलिस जवान इन कॉरीडोर को अपने -अपने हिस्से से सील करेंगे। जरूरत पड़ने पर जवान साथ मिलकर इन हिस्सों में ऑपरेशन चलाएंगे, ताकि विधानसभा चुनाव के दौरान किसी तरह की अप्रिय घटनाएं सामने न आ सकें। सूचनाओं के आदान-प्रदान को लेकर भी मजबूत योजना तैयार की गई। वाट्सएप ग्रुप व अन्य माध्यमों से खबर शेयर की जाएगी। 

  2. इस पर फोकस वर्किंग करेगी पुलिस 

    बॉर्डर सीलिंग पर होगा प्रमुख फोकस। शराब तस्करी रोकने चलेगा संयुक्त अभियान। मनी लान्ड्रिंग पर नजर रखने विशेष दस्ता बनेगा। सिविल एक्शन प्रोग्राम के तहत नक्सल इलाकों में लोगों से बेहतर संबंध स्थापित किए जाएंगे। सरहदी थानों के अफसर वाट्सएप ग्रुप में शेयर करेंगे सभी सूचनाएं। किसी बड़ी सूचना पर तत्काल कोआर्डिनेशन से एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा। 

  3. चुनाव में नक्सल क्षेत्र में तैनात रहेंगे जवान 

    बैठक में बालाघाट आईजी ने चुनाव के दौरान अपने जिलों के जवानों को भी तैनात करने की बात कही है। बालाघाट बॉर्डर से लगे संवेदनशील इलाकों में चुनाव संपन्न कराने के दौरान आईजी अपने जवानों काे जरूरत के मुताबिक इन हिस्सों में भेजेंगे। ये जवान छग पुलिस के साथ कोआर्डिनेट कर शांतिपूर्ण व सुरक्षित ढंग से चुनाव संपन्न कराने में मदद करेंगे।

  4. बैठक में जरूरी प्लानिंग की गई

    चुनाव को लेकर हुए बैठक में विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई है। मुख्य फोकस नक्सल गतिविधियों व शराब तस्करी पर अंकुश लगाने को लेकर रहा। इसके लिए जरुरी प्लानिंग की गई है। सीमावर्ती राज्य के अफसरों से भी रायशुमारी की गई।

    - जीपी सिंह, आईजी, दुर्ग रेंज 

  5. थानेदार बोले- एक्शन लेने में देर हो जाती है 

    बैठक में तीन राज्यों के सीमावर्ती जिलों के आईजी, डीआईजी, एसपी के अलावा बड़ी संख्या में थानेदार भी मौजूद थे। अलग-अलग तरह की समस्याओं को लेकर हुई चर्चा के दौरान इन थानेदारों ने खुद के पास एक्शन लेने की कमजोर क्षमता की भी जानकारी दी। कई मुद्दों पर तत्काल एक्शन लेने की जरूरत होती है, पर परमिशन की वजह से देर हो चुकी होती है।