• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • Surguja Rajmata Funeral; Ambikapur Rajmata Devendra Kumari Singhdeo Funeral Today Latest News and Updates; Digvijay Singh, Chhattisgarh Government Cabinet Minister

अंबिकापुर / पूर्व मंत्री देवेंद्र कुमारी सिंहदेव पंचतत्व में विलीन, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

स्व. देवेंद्र कुमारी सिंहदेव (जन्म-13 जुलाई 1933, मृत्यु-10 फरवरी 2020) स्व. देवेंद्र कुमारी सिंहदेव (जन्म-13 जुलाई 1933, मृत्यु-10 फरवरी 2020)
X
स्व. देवेंद्र कुमारी सिंहदेव (जन्म-13 जुलाई 1933, मृत्यु-10 फरवरी 2020)स्व. देवेंद्र कुमारी सिंहदेव (जन्म-13 जुलाई 1933, मृत्यु-10 फरवरी 2020)

  • अंबिकापुर में रानी तालाब के किनारे किया गया अंतिम संस्कार, पुत्र टीएस सिंहदेव ने दी मुखाग्नि
  • मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह सहित छत्तीसगढ़ सरकार का पूरा मंत्रिमंडल पहुंचा 
  • मेदांता अस्पताल में 10 फरवरी को हुआ था निधन, लंबे समय से चल रही थीं बीमार

दैनिक भास्कर

Feb 12, 2020, 06:38 PM IST

अंबिकापुर. अविभाजित मध्य प्रदेश की पूर्व मंत्री देवेंद्र कुमारी सिंहदेव का बुधवार को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया। रानी तालाब के किनारे उनके पुत्र और प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने मुखाग्नि दी। उनके अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह सहित छत्तीसगढ़ सरकार का पूरा मंत्रिमंडल पहुंचा। वह पूर्व सरगुजा रियासत की राजमाता रहीं हैं।

सरगुजा पैलेस से रानी तालाब तक निकाली गई अंतिम यात्रा

पूर्व की पार्थिव देव पहुुंचने पर सरगुजा पैलेस में अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे लोग। 


इससे पहले पूर्व मंत्री देवेंद्र कुमारी सिंहदेव का पार्थिव शरीर बुधवार सुबह विशेष विमान से अंबिकापुर के दरिमा हेलीपैड पहुंचा। यहां से उनके शरीर को लोगों के अंतिम दर्शन के लिए दोपहर 12 से 3 बजे तक सरगुजा पैलेस में रखा गया था। इसके बाद वहां से रानी तालाब तक उनकी अंतिम यात्रा निकाली गई। इस दौरान लोगों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। घाट पर भी लोगों की भारी भीड़ उमड़ी।


अंतिम संस्कार में उनके बेटे अरुणेश्वर शरण सिंहदेव, पोते आदित्येश्वर शरण सिंहदेव व परिवार के सदस्य के अलावा छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम, सांसद, नेता और अन्य करीबी लोग शामिल हुए। उनका लंबी बीमारी के बाद 10 फरवरी को दिल्ली स्थित मेदांता अस्पताल में निधन हो गया था। वह अविभाजित मध्यप्रदेश की सरकार में वित्त, आवास एवं पर्यावरण और मध्यम सिंचाई जैसे महत्वपूर्ण विभागों की मंत्री रहीं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना