बिलासपुर  / अटल यूनिवर्सिटी ने कॉलेजों को एमएससी का भेजा अधूरा प्रश्नपत्र, पता चला तो वाट्सएप पर भेजकर करवाई परीक्षा

अटल बिहारी वाजपेयी यूनिवर्सिटी (बिलासपुर यूनिवर्सिटी) अटल बिहारी वाजपेयी यूनिवर्सिटी (बिलासपुर यूनिवर्सिटी)
X
अटल बिहारी वाजपेयी यूनिवर्सिटी (बिलासपुर यूनिवर्सिटी)अटल बिहारी वाजपेयी यूनिवर्सिटी (बिलासपुर यूनिवर्सिटी)

  • 56 केंद्रों में 22 हजार छात्र दे रहे हैं परीक्षा, 31 केंद्रों में प्रश्नपत्र की फोटोकॉपी करवाई गई 
  • 20 मिनट देर से शुरू हो पाई, छात्रों ने विरोध किया तब केंद्रों ने सूचना कुलसचिव को दी 

दैनिक भास्कर

Jan 10, 2020, 10:39 AM IST

बिलासपुर. छत्तीसगढ़ की अटल बिहारी वाजपेयी यूनिवर्सिटी (बिलासपुर यूनिवर्सिटी) पढ़ाई के अलावा अक्सर विवादों के कारण चर्चा में रहती है। कभी छात्रों से अवैध रूप से फीस वसूली जाती है, तो कभी नए सिलेबस से पढ़ाई करा, पुराने से फार्म भरवाए जाते हैं, तो कभी प्रोफसर की छेड़खानी और मुख्य अतिथि विवाद को लेकर खबरों में रहती है। अब गुरुवार को हुई एमएससी केमेस्ट्री की परीक्षा में पहले तो प्रश्नपत्र ही अधूरा भेज दिया और जब इसका पता चला तो कॉलेजों को वॉट्सएप पर पेपर भेजकर परीक्षा कराई। 

31 परीक्षा केंद्रों पर 720 छात्र दे रहे थे एमएससी केमेस्ट्री का पेपर

यूनिवर्सिटी 56 परीक्षा केंद्रों में 22 हजार छात्रों की परीक्षा ले रही है। गुरुवार को 31 परीक्षा केंद्रों में करीब 720 छात्रों की एमएससी केमेस्ट्री की परीक्षा थी। परीक्षा के लिए यूनिवर्सिटी ने अधूरा प्रश्नपत्र केंद्रों में भेज दिया। जब पेपर खुला तो उसमें बायोलॉजी का प्रश्न ही नहीं था। छात्रों ने विरोध शुरू किया, तो केंद्रों ने इसकी सूचना कुलसचिव डॉ. सुधीर शर्मा और परीक्षा नियंत्रक डॉ. प्रवीण पांडेय को दी। इसके बाद बायोलॉजी का प्रश्न बनाकर वाट्सएप पर भेजा गया। कॉलेजों ने इसकी फोटोकॉपी करके बांटी। इन सबके चलते पेपर देने में करीब 20 मिनट लेट हुआ। 

अधूरा पेपर आने के बाद यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने ही दोबारा पेपर को व्हाट्सएप पर वायरल किया। इसको लेकर परीक्षा केंद्रों में छात्रों ने कहा कि पेपर लीक जैसा मामला है। पेपर शुरू होने के समय ही सभी केंद्राें में व्हाट्सएप पर पेपर आया है। ये लीक भी कर सकते हैं। वहीं केंद्रों में यूनिवर्सिटी मोबाइल बैन की बात कर रही है तो प्रश्नपत्र कैसे भेज रही है। अटल यूनिवर्सिटी की पिछले सत्रों की परीक्षा में 10 मार्च को बीसीए भाग-2 की जगह बीएचएससी छपा था।

15 मार्च के पेपर में बीकॉम थर्ड ईयर इनकम टैक्स के प्रश्नपत्र में गलत प्रश्न पूछे गए थे। 16 मार्च के पेपर में बीसीए प्रथम वर्ष अंग्रेजी के प्रश्नपत्र में 75 के स्थान पर 70 अंक के प्रश्न आए थे। 17 मार्च के पेपर में बीए की जगह बीकॉम लिखा था। 20 मार्च की परीक्षा में बीसीए न्यू काेर्स थर्ड ईयर में शार्ट की जगह विस्तृत प्रश्न पूछे गए थे। 
छात्रों ने बोनस अंक की मांग की : कई परीक्षा केंद्रों में लगभग आधा घंटा देर से छात्रों को पेपर दिया गया। अब ऐसे में छात्रों ने पेपर खत्म होने के बाद परीक्षा केंद्र और यूनिवर्सिटी में बोनस अंक की मांग की है। 
इस समय हुआ था लीक का मामला : 6 मार्च 2014 में शासकीय कॉलेज हसौद में व यूनिवर्सिटी में 2016 में भी पेपर लीक हुआ था। 2018 में सीएमडी कॉलेज में भी परीक्षा के पहले पेपर खोल दिया गया था। 7 मार्च 2019 को श्री महंतलाल दास कला एवं विज्ञान कॉलेज शिवरीनारायण में बीएससी द्वितीय वर्ष रसायन विज्ञान का द्वितीय प्रश्नपत्र लीक हुए थे। 

अटल यूनिवर्सिटी के कुलसचिव डॉ. सुधीर शर्मा ने कहा कि अधूरे पेपर की जानकारी मिलने के बाद तुरंत व्यवस्था में सुधार किया गया। छात्रों को कोई परेशानी ना हो, इसके लिए तुरंत व्यवस्था हुई। उत्तरपुस्तिका के मूल्यांकन के समय छात्रों की मांग पर ध्यान दिया जाएगा। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना