बिलासपुर  / मुक्त विवि में अब कोई मुन्ना भाई और मुन्नी बहन नहीं होगी: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

पीएसएसओयू के दीक्षांत समारोह के दौरान शोभायात्रा में आगे कुलपति, तीसरे नंबर पर मुख्यमंत्री और फिर राज्यपाल। पीएसएसओयू के दीक्षांत समारोह के दौरान शोभायात्रा में आगे कुलपति, तीसरे नंबर पर मुख्यमंत्री और फिर राज्यपाल।
पीएसएसओयू के दीक्षांत समारोह में विभिन्न विभागों के टॉपर छात्रों को मेडल देते हुए अतिथि। पीएसएसओयू के दीक्षांत समारोह में विभिन्न विभागों के टॉपर छात्रों को मेडल देते हुए अतिथि।
X
पीएसएसओयू के दीक्षांत समारोह के दौरान शोभायात्रा में आगे कुलपति, तीसरे नंबर पर मुख्यमंत्री और फिर राज्यपाल।पीएसएसओयू के दीक्षांत समारोह के दौरान शोभायात्रा में आगे कुलपति, तीसरे नंबर पर मुख्यमंत्री और फिर राज्यपाल।
पीएसएसओयू के दीक्षांत समारोह में विभिन्न विभागों के टॉपर छात्रों को मेडल देते हुए अतिथि।पीएसएसओयू के दीक्षांत समारोह में विभिन्न विभागों के टॉपर छात्रों को मेडल देते हुए अतिथि।

  • पं. सुंदरलाल शर्मा मुक्त विवि का चौथा दीक्षांत समारोह, राज्यपाल और पद्मविभूषण भट्ट ने भी की शिरकत 
  • सीएम ने कहा- छत्तीसगढ़ में 44 फीसदी जंगल, पूरे देश को आॅक्सीजन दे रहे, इसकी कीमत का आंकलन हो 

दैनिक भास्कर

Jan 22, 2020, 10:44 AM IST

बिलासपुर. छत्तीसगढ़ के बिलासपुर स्थित पं. सुंदरलाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय (पीएसएसओयू) के कुलपति से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि आपने हमें खूब अवसर दिए। हम लोगों ने खूब आंदोलन किए थे जब विपक्ष में थे, लेकिन मैं उम्मीद करता हूं कि अब जो विपक्ष है उसको आंदोलन करने का अवसर नहीं मिलेगा। कोई मुन्ना भाई नहीं होगा, कोई मुन्नी बहन नहीं होगी। ये मैं उम्मीद करता हूं। मुख्यमंत्री बघेल मंगलवार को यूनिवर्सिटी के चौथे दीक्षांत समारोह में बोल रहे थे। 

देश के जंगल में हमारा 12 फीसदी हिस्सा, लेकिन वहां रह रहे लोगों के पास सिंचाई व रोजगार नहीं

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि पर्यावरण की चिंता स्वाभाविक है। दिसंबर में सुप्रीम कोर्ट को कहना पड़ा कि दिल्ली को गैस का चेंबर बना दिया, यहां रहना मुश्किल है। किसी के घर में जाते थे तो गिलास में पानी देते थे, अब बोतल में देते हैं। जब नेता कार्यक्रमों में आएंगे तो ऑक्सीजन की बोतल भी रखी जाएगी। छत्तीसगढ़ में 44 फीसदी जंगल है और देश के जंगल में हमारा 12 फीसदी हिस्सा है। हम पूरे हिंदुस्तान को आक्सीजन दे रहे हैं जबकि जंगल के लोगों के पास सिंचाई और रोजगार की व्यवस्था नहीं है। अब विश्वयुद्ध पानी के लिए होगा। इसलिए हमें पानी और पर्यावरण बचाना है। 

चिपको आंदोलन के प्रणेता, रेमन मेग्सेसे पुरस्कार, गांधी शांति पुरस्कार से सम्मानित पद्मभूषण चंडी प्रसाद भट्‌ट ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि आज विकास के अंधी दौड़ से प्रकृति विनाश की ओर बढ़ रही है। छत्तीसगढ़ में अभी भी पर्यावरण की स्थिति ठीक है। अमरकंटक एरिया भी संतुलित है, पर पेड़ों की कटाई होना दिखाई दे रहा है। अगर इसे अभी नहीं रोका गया तो आगे इसे भी दिल्ली की तरह प्रदूषण, पानी सहित अन्य जरूरतों के लिए मुश्किलों का सामना करना होगा। 

ओपन यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में राज्यपाल अनुसुइया उइके, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पद्मभूषण चंडी प्रसाद भट्‌ट, कुलपति प्रो. बंशगोपाल सिंह, कुलसचिव डॉ. इंदू अनंत ने विभिन्न विभागों के टॉपर 27 छात्रों को 45 स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया। इसमें 13 दानदाताओं के स्वर्ण पदक छात्रों को दिए गए। इसके अलावा द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले 41 छात्रों को उपाधि दी गई। सत्र 2018 के कुल 3 हजार 595 और सत्र 2018-19 के 10 हजार 557 छात्रों को उनकी अनुपस्थिति में उपाधि देने की घोषणा की गई। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना