बिलासपुर  / अपहरण और छेड़छाड़ पीड़ित 15 साल की लड़की ने आत्मदाह किया; घटना के बाद तनाव में थी

लड़की ने मृत्यु से पहले सिम्स में तहसीलदार को बयान दिए। लड़की ने मृत्यु से पहले सिम्स में तहसीलदार को बयान दिए।
X
लड़की ने मृत्यु से पहले सिम्स में तहसीलदार को बयान दिए।लड़की ने मृत्यु से पहले सिम्स में तहसीलदार को बयान दिए।

  • मुंगेली जिले में दो माह पहले हुई थी घटना, आरोपियों ने कमरे में बंद कर रातभर पीटा था
  • मृत्यु पूर्व दिए बयान में किशोरी ने कहा- बार-बार घटना की याद आती थी, आरोपी जेल में बंद हैं

दैनिक भास्कर

Jan 30, 2020, 01:18 PM IST

बिलासपुर. मुंगेली जिले में करीब दो माह पहले छेड़छाड़ और अपहरण की शिकार 15 वर्षीया किशोरी ने आरोपियों के डर से आत्मदाह कर लिया। किशोरी ने बुधवार को खुद पर केरोसिन डालकर आग लगा ली थी। उसे गंभीर हालत में बिलासपुर स्थित सिम्स में भर्ती कराया गया, यहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। मरने से पहले किशोरी ने बयान में कहा कि बार-बार घटना की याद आती थी। अपहरण करने वाले युवकों ने उसे दूसरे गांव ले जाकर एक कमरे में बंद कर दिया था और पूरी रात पिटाई की थी। इससे वह डरी हुई थी। अपहरण के दोनों आरोपी जेल में है। 

80 फीसदी जली हालत में परिजन लेकर पहुंचे थे अस्पताल

चिल्फी चौकी क्षेत्र के ग्राम बोड़तराकला आवास पारा निवासी रानी साहू (15) पिता रोहित साहू घर पर थी। परिजन शाम करीब 5 बजे घर लौटे। रानी काम कर रही थी। रात 8.30 बजे रानी रसाेई के अंदर गई अाैर अपने ऊपर मिट्‌टी तेल डालकर आग लगा ली। उसे जलते हुए देखकर परिजन कमरे से बाहर निकले। आनन-फानन में किसी तरह से आग बुझाई। परिजनों ने उसे 80 फीसदी जली हालत मेंे लोरमी के जिला अस्पताल में भर्ती कराया। देर रात उसे सिम्स रेफर कर दिया गया था। यहां सुबह करीब 5.30 बजे उसकी मौत हो गई। 

पुलिस ने तहसीलदार के सामने किशोरी का बयान दर्ज कराया। रानी ने बयान में अपने अपहरण की घटना और मारपीट के बारे में बताया। कहा- वह इससे काफी डरी हुई थी। डर के चलते ही उसने आग लगा ली। वह घटना मन से नहीं निकल पा रही थी। घटना के बाद मानसिक रूप से दबाव में आ गई थी। तब से जीना दूभर हो गया था और परेशान होकर खुदकुशी करने की कोशिश की। पहले भी युवकों ने अश्लील हरकत की, लेकिन गांव वालों ने दबाव बनाकर शिकायत दर्ज कराने से रोक दिया।

आरोप है कि लोरमी थाना क्षेत्र के चिल्फी बोड़तरा में किशोरी का गांव के ही दो युवकों भागवत और जॉनसन ने अपहरण कर लिया। लड़की का मुंह स्कार्फ और हाथ को रस्सी से बांधकर बाइक पर घुमाते रहे। रात को उसे पड़ोस के गांव में ले गए और एक कमरे में बंद कर दिया। उससे छेड़छाड़ की और रातभर पीटा। किशोरी से कुछ दिन पहले भी गांव के युवकों ने अश्लील हरकत की थी। इसकी शिकायत किशोरी दर्ज कराने जा रही थी, लेकिन उससे पहले ही गांव वालों ने दबाव डालकर मामले को दबा दिया। 

इसके बाद युवकों का हौसला बुलंद हो गया और उन्होंने किशोरी को अगवा कर लिया। किशोरी दूसरे दिन सुबह किसी तरह उनके चंगुल से बचकर भाग निकली और परिजनों को जानकारी दी। पिता उसे लेकर थाने गया पर पुलिस ने दिनभर उसे बिठाकर रखा। लोरमी थाना प्रभारी और एसडीओपी की उपस्थिति में शाम ढलने पर रिपोर्ट दर्ज की गई। ग्रामीण पुलिस चौकी के सामने घंटो बैठे रहे। पुलिस ने इस मामले में आरोपी भागवत और जॉनसन को 354, 363,366 के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना