छत्तीसगढ़  / नेशनल हाइवे के निर्माणाधीन ब्रिज का स्ट्रक्चर इतना कमजोर कि हवा से गिर गया, मजदूर की मौत

Dainik Bhaskar

Jun 12, 2019, 01:53 PM IST


ऐसे ही सरियों के बीच घुसकर चल रहा था काम, कोई इंजीनियर या ठेकेदार कंपनी के अफसर मौके पर नहीं थे। ऐसे ही सरियों के बीच घुसकर चल रहा था काम, कोई इंजीनियर या ठेकेदार कंपनी के अफसर मौके पर नहीं थे।
यहीं पर दबा हुआ था मजदूर, अब वह नहीं रहा। हेलमेट घटिया, जैकेट नहीं, सुरक्षा का ध्यान नहीं रखा यहीं पर दबा हुआ था मजदूर, अब वह नहीं रहा। हेलमेट घटिया, जैकेट नहीं, सुरक्षा का ध्यान नहीं रखा
हादसे में दोनों घायलों का सिम्स में चल रहा इलाज हादसे में दोनों घायलों का सिम्स में चल रहा इलाज
X
ऐसे ही सरियों के बीच घुसकर चल रहा था काम, कोई इंजीनियर या ठेकेदार कंपनी के अफसर मौके पर नहीं थे।ऐसे ही सरियों के बीच घुसकर चल रहा था काम, कोई इंजीनियर या ठेकेदार कंपनी के अफसर मौके पर नहीं थे।
यहीं पर दबा हुआ था मजदूर, अब वह नहीं रहा। हेलमेट घटिया, जैकेट नहीं, सुरक्षा का ध्यान नहीं रखायहीं पर दबा हुआ था मजदूर, अब वह नहीं रहा। हेलमेट घटिया, जैकेट नहीं, सुरक्षा का ध्यान नहीं रखा
हादसे में दोनों घायलों का सिम्स में चल रहा इलाजहादसे में दोनों घायलों का सिम्स में चल रहा इलाज

  • पेंड्रीडीह-तुर्काडीह बाइपास रोड पर लोखंडी के पास बन रहा था पुल 
  • घटना के समय 25 मजदूर वहां कर रहे थे काम, भागकर बचाई जान

बिलासपुर.  तेज हवा चलने से एनएचएआई के पुल का सरिया (राफ्टा) मंगलवार शाम को गिर पड़ा। इसमें दबने से एक मजदूर की मौत हो गई, वहीं दो अन्य घायल हो गए। हादसा होते देख अन्य मजदूरों ने शोर मचाया और आसपास के लोगों को एकत्र किया। इस बीच एक्सीवेटर मंगाकर सरिया हटाई गई और दबे मजदूरों को बाहर निकाला गया। घायल मजदूरों को सिम्स में भर्ती कराया गया है। घटना हिर्री-तुर्काडीह बाइपास मार्ग पर लोखंडी के पास हुई। हादसे के दौरान वहां पर 25 मजदूर काम कर रहे थे। जिन्होंने वहां से भागकर अपनी जान बचाई। 

अदानी ग्रुप को मिला है ठेका, उनकी ओर से डीबी कंपनी देख रही है काम

  1. नेशनल हाइवे ऑफ इंडिया (एनएचएआई) की पेंड्रीडीह-तुर्काडीह बाइपास मार्ग पर लोखंडी के पास नया पुल बन रही है। ठेका अदानी ग्रुप को मिला हुआ है। ग्रुप यह काम डीबी कंपनी को दे रखी है। लोखंडी के पास पुल बनना है। एक माह पहले यहां का काम शुरू हुआ है। सरिया से राफ्टा तैयार हो रहा है। पुल का ढांचा खड़ा करने के लिए दोनों छोर पर सरिया खड़े किए गए थे। नीचे भी सरिया बांधा जा रहा था। यह काम अभी चल ही रहा था। ठेकेदार के मजदूर इसमें जुटे हुए थे। मंगलवार की शाम 5 बजे तेज हवा शुरू हुई तो एक ओर का राफ्टा गिर पड़ा। 

  2. इसमें कोरबा जिले के नुनेरा दीपिका रोड ग्राम ढेढ़ीकुआं निवासी अर्जुन सिंह पोर्ते पिता  (25), देवानंद सरोते (22) व जांजगीर चांपा जिले  के ग्राम मुरलीडीह निवासी हेमंत मोरगे पिता लक्ष्मी प्रसाद मोरगे (21) दब गया। वहां से बचकर निकले मजदूरों ने शोर  मचाया तो उनकी मदद के लिए पास के कोलवाशरी के लोग आए। एक्सीवेटर मंगाकर राफ्टा उपर उठाया गया और नीचे दबे तीनों को किसी तरह बाहर निकालकर 112 से सिम्स भेजा गया। यहां डॉक्टरों ने जांच के बाद अर्जुन सिंह को मृत घोषित कर दिया। 

  3. जिंदा बचे मजदूरों को दूसरे जगह किया शिफ्ट 

    घटना के बार वहां काम करने वाले मजदूरों को दूसरे जगह भेज दिया गया है। घायलों को सिम्स लेकर आने के बाद उनका पता नहीं चला। ठेकेदार या डीबी कंपनी का कोई भी कर्मचारी ने उनके बारे में कुछ नहीं बताया। 


    मोबाइल की रोशनी में बनाते हैं खाना मजदूर 
    जिस जगह पर काम चल रहा है। वहां पर मजदूरों के रहने के लिए टीन के शेड के सहारे छोटे-छोटे कमरे बनाए गए हैं। शाम होने के बाद उनके पास रोशनी करने के लिए कुछ भी नहीं है। टार्च या मोबाइल की रोशनी से खाना बनाते हैं और खाते भी हैं। 

  4. हेलमेट घटिया, जैकेट नहीं, सुरक्षा का ध्यान नहीं रखा गया

    मजदूरों की सुरक्षा के प्रति भी घोर लापरवाही बरती गई थी। सुरक्षा के नाम पर केवल उन्हें हल्के हेलमेट दिया गया था। यह भी हल्के क्वालिटी के थे। अर्जुन हेलमेट पहना था पर वह भी उसकी जान नहीं बचा पाया। किसी के पास जैकेट भी नहीं थे।

     

    जांच कराएंगे-एडीएम 
    घटना की जानकारी मिलने पर एडीएम बीएस उईके, एसडीएम वीरेंद्र लकड़ा अतिरिक्त तहसीलदार नारायण प्रसाद गबेल सिम्स पहुंचे और उन्होंने दोनों घायलों की इलाज के बारे में पूछा। एडीएम ने इस घटना की की जांच कराने की बात कही है।  

  5. हवा चलते ही हिला जाल और गिर गया 

    मैं लोहे के जाल पर लगभग 6 फीट की ऊंचाई पर था और उसमें लोहे के तारों से सपोर्ट बांध रहा था। तभी तेज हवा चलने लगी अौर जाल हिलने लगा। कुछ देर बाद ही जाल नीचे जा गिरा जिसमें हम तीन लोग दब गए। वहीं काम कर रहे दूसरे कर्मचारियों ने जैसे-तैसे हम तीनों को बाहर निकाला। 

     

    घायल हेमंत, मजदूर

  6. मैं रॉड के नीचे में दब गया था। सब तरफ से चीखने-चिल्लाने की आवाजें आ रही थीं। शरीर में बहुत दर्द भी होने लगा था। लेकिन साथ में काम कर रहे कर्मचारियों ने जाल को हमारे ऊपर से उठाकर दूसरी तरफ कर दिया। इसके बाद हमें अस्पताल लाया गया। 

    घायल देवानंद सरोते, मजदूर

  7. सांसद पहुंचे सिम्स, घायलों का हाल जाना 

    सांसद अरुण साव व महापौर किशोर राय रात 8 बजे सिम्स पहुंचे। घायलों ने बताया कि इलाज तो चल रहा है। उसके बाद उन्होंने मौजूद डॉक्टरों को निर्देश दिए कि घायलों के इलाज में किसी तरह की कमी नहीं होनी चाहिए। 

     

    जुर्म दर्ज कर हो गंभीरता से जांच: शैलेश 
    घटना की जानकारी मिलते ही नगर विधायक शैलेश पांडेय रात को सिम्स पहुंचे। केजुअल्टी में घायलों का हाल जाना। उन्होंने डॉक्टरों से दोनों की उचित इलाज के निर्देश दिए। पांडे ने इस मामले में एसपी से दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने करने के लिए कहा। 

COMMENT