छत्तीसगढ़  / बच्चों से करवाते थे चोरी फिर नेपाल जाकर बेचते थे मोबाइल, 7 लाख के स्मार्ट फोन बरामद



प्रतिकात्मक फोटो प्रतिकात्मक फोटो
X
प्रतिकात्मक फोटोप्रतिकात्मक फोटो

  • बिलासपुर जिले की सिविल लाइन पुलिस ने गिरोह के 7 लोगों को किया गिरफ्तार 
  • बच्चों को दिया करते थे खास ट्रेनिंग, चोरी के बाद कपड़े बदलकर होते थे फरार 

Dainik Bhaskar

Sep 16, 2019, 09:23 PM IST

बिलासपुर. छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले की पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया जो बच्चों से चोरियां करवाता था। गिरोह, लोगों के मोबाइल फोन पर ही हाथ साफ किया करता था। चोरी किए गए मोबाइलों को नेपाल ले जाकर बेचा जाता था। पुलिस ने आरोपियों के पास से सात लाख रुपए कीमत के 37 मोबाइल बरामद किए हैं। इस मामले में सात आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इसमें चार नाबालिग भी शामिल हैं।

ऐसे करते थे चोरियां

  1. एडिशनल एसपी ओपी शर्मा ने बताया कि गिरोह का सरगना झारखंड निवासी सूरज मंडल, दिलीप चौधरी और राजेश चौधरी 26 मिलकर यह रैकेट चलाते थे। बच्चे मोबाइल चोरी करने के लिए सब्जी मार्केट, फल मार्केट, कपड़ा मार्केट सहित ऐसे क्षेत्रों को चुनते थे जहां भीड़ ज्यादा हो। जैसे ही मोबाइल चोरी किया वैसे ही दूसरे साथी को देकर कपड़े बदलकर रेलवे स्टेशन चले जाते थे। यहां से वापस अपने राज्य झारखंड चले जाते थे। यह गिरोह बिलासपुर, रायपुर, कोरबा एवं जांजगीर चांपा में कई घटनाओं को अंजाम दे चुका है।

  2. सीएसपी आरएन यादव ने बताया कि रविवार की सुबह टीआई कलीम खान को सूचना मिली थी कि बृहस्पति बाजार में कुछ संदेही युवक घूम रहे हैं। युवकों को पुलिस टीम ने पकड़कर जब पूछताछ की तो इन्होंने वारदात करना स्वीकार कर लिया और बताया कि गिरोह के बाकी सदस्य रेलवे स्टेशन पर हैं। गिरोह का सरगना  बच्चों को 100 मोबाइल चोरी करने का टारगेट भी देता था। बच्चों को इसके बदले 10 से 15 हजार रुपए दिए जाते थे। झारखंड लौटकर यह गिरोह नेपाल के लिए निकलता था। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना