छत्तीसगढ़  / पुल का दूसरा स्ट्रक्चर भी गिरा, जख्मी बोला- सरिये झुक रहे थे, हमने मना किया लेकिन काम नहीं रोका



स्ट्रक्चर गिरने के बाद का दृश्य। मजदूरों ने एक दिन पहले ही गिरने की संभावना जताई थी, पर किसी जिम्मेदारों ने ध्यान नहीं दिया। स्ट्रक्चर गिरने के बाद का दृश्य। मजदूरों ने एक दिन पहले ही गिरने की संभावना जताई थी, पर किसी जिम्मेदारों ने ध्यान नहीं दिया।
X
स्ट्रक्चर गिरने के बाद का दृश्य। मजदूरों ने एक दिन पहले ही गिरने की संभावना जताई थी, पर किसी जिम्मेदारों ने ध्यान नहीं दिया।स्ट्रक्चर गिरने के बाद का दृश्य। मजदूरों ने एक दिन पहले ही गिरने की संभावना जताई थी, पर किसी जिम्मेदारों ने ध्यान नहीं दिया।

  • लापरवाही का पुल : नेशनल हाइवे पर कमजोर निर्माण से भ्रष्टाचार की पुष्टि 
  • दूसरा दिन, समय वही, शुक्र था मजदूर काम पर नहीं थे, हो सकता था बड़ा हादसा 

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2019, 10:22 AM IST

बिलासपुर. तेज हवा से नेशनल हाइवे का निर्माणाधीन पुल के दूसरे ओर का भी स्ट्रक्चर बुधवार देर शाम को ढह गया। काम बंद होने के कारण इससे कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। एक ओर का स्ट्रक्चर हवा के कारण एक दिन पहले ही मंगलवार शाम को गिर पड़ा था और इसमें एक मजदूर की मौत हो गई थी, जबकि दो घायल हैं। घायल मजदूरों में एक का उपचार सिम्स में चल रहा है, वहीं दूसरे की हालत गंभीर होने पर उसे रायपुर रेफर कर दिया गया है। 

मजदूरों ने पहले ही गिरने की जताई थी संभावना 

  1. हिर्री-तुर्काडीह बाइपास मार्ग पर लोखंडी के पास अडानी ग्रुप नया पुल बना रहा है। मंगलवार की शाम तेज हवा से इसका एक ओर का स्ट्रक्चर गिर गया। पूरा सरिया से खड़ा था। हादसे में कोरबा जिले के नुनेरा दीपिका रोड ग्राम ढेढ़ीकुआं निवासी अर्जुन सिंह पोर्ते (25) की मौत हो गई थी और देवानंद सरोते (22) व जांजगीर चांपा जिले के ग्राम मुरलीडीह निवासी हेमंत मोरगे (21) वर्ष दबकर घायल हो गए। दोनों को सिम्स में भर्ती कराया गया। 

  2. बुधवार को दूसरी ओर का भी स्ट्रक्चर बिना हवा पानी के ही गिर पड़ा। मजदूरों ने उसके भी गिरने की संभावना जताई थी। हादसे के कारण काम बंद था इसलिए वहां मजदूर काम पर नहीं थे। इस वजह से बड़ा हादसा टल गया। घटना के समय ग्रुप के दो इंजीनियर मौजूद थे पर दोनों दूर खड़े थे। इस मामले में अभी तक जिला प्रशासन या पुलिस ने जांच शुरू नहीं की है। प्रबंधन की ओर से भी कोई मौके पर नहीं गया। 

  3. घायल का आरोप-यदि शाम 5 बजे काम बंद हो जाता तो हादसे के शिकार नहीं होते

    सिम्स में भर्ती घायल हेमंत सरोते ने दैनिक भास्कर को बताया कि मंगलवार की शाम जब हवा चली तो 20-25 फीट ऊंचा खड़ा सरिया कई बार जमीन तक झुका। वे काम बंद करने वाले थे पर ठेकेदार इसके लिए तैयार नहीं हुआ। वह बार-बार कह रहा था काम जल्दी खत्म करना है। हेमंत का कहना है कि उनके काम का समय सुबह आठ बजे से शाम 5 बजे तक का है पर ठेकेदार उनसे लगातार दो घंटे एक्स्ट्रा काम करा रहा था। यदि 5 बजे तक काम बंद हो गया होता तो मजदूर हादसे का शिकार नहीं होते। वहां पर सुरक्षा की भी अनदेखी की जा रही थी। 

  4. दोषियों के खिलाफ होगी एफआईआर-एएसपी 

    एएसपी ग्रामीण संजय ध्रुव का कहना है कि गंभीर लापरवाही के कारण घटना व मौत हुई है। इसमें दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जाएगा। पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। पीड़ित की ओर से यदि कोई प्रार्थी नहीं बनता है तो पुलिस खुद अपनी ओर से कार्रवाई करेगी। 
    एक की रीढ़ की हड्डी टूट गई, रायपुर रेफर 
    घायलों में देवानंद सरोते ही हालत गंभीर है। घटना के बाद दबने से उसकी रीढ़ की हड्डी टूट गई है। सिम्स में इलाज संभव नहीं होने के कारण उसे रायपुर मेकाहारा रेफर कर दिया गया है। 

  5. अधिकारी व ठेकेदार एक दूसरे पर डाल रहे जिम्मेदारी 

    नेशनल हाइवे पुल के निर्माणाधीन पुल गिरने के मामले में ठेकेदार सुनील सिंह का कहना है कि उनका काम केवल मजदूर उपलब्ध कराने का है। अदानी ग्रुप से काम डीबी कंपनी वालों ने लिया है। मैं डीबी कंपनी के अधीन काम करता हूं। इधर डीबी कंपनी के एचआर राघवेंद्र ने बताया कि पूरा काम ठेकेदार सुनील सिंह की देखरेख में चल रहा था। घटना कैसे हुई वहीं बता पाएंगे। 

  6. पुल बनना शुरू नहीं तो किसकी जांच-एडीएम 

    सवाल बीएस उइके, एडीएम 
    इस मामले की जांच के लिए कोई टीम बनाई गई है क्या  कलेक्टर से पूछो,जांच होगी या नहीं। वही बताएंगे। उन्हीं का काम है। पुल बनना शुरू ही नहीं हुआ है तो किसकी जांच होगी। 
    घायलों को अच्छे इलाज के लिए क्या व्यवस्था की गई है  ठेका कंपनी वाले एक को रेफर कराकर रायपुर ले गए हैं। उनका नाम मैं नहीं जानता। 
    आप जिम्मेदार अफसर हैं,फिर ऐसी लापरवाही न हो इसके लिए क्या उपाय किए गए हैं  मोबाइल कट गया

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना