विज्ञापन

विरोध  / छात्रों के परिजनों ने मतदान बहिष्कार के पर्चे बांटे, अब घर-घर जाकर वोट नहीं देने की करेंगे अपील

Dainik Bhaskar

Apr 16, 2019, 10:40 AM IST


bilaspur parents of students appealed people to boycott elections amid no action on fees raise
X
bilaspur parents of students appealed people to boycott elections amid no action on fees raise
  • comment

  • देवकीनंदन चौक पर कड़ी धूप में दो घंटे तक हाथों में तख्तियां लिए किया प्रदर्शन
  • निजी स्कूलों की मनमानी: 21 दिन बाद भी नहीं हो पाई कोई कार्रवाई 
  • लगातार शिकायत के बाद किसी ने नहीं सुनी तो उतरना पड़ा सकड़ पर

बिलासपुर. निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ सोमवार को छात्रों के परिजन सड़क पर उतर आए। उन्होंने  देवकीनंदन चौक पर कड़ी धूप में धरना प्रदर्शन किया। साथ ही मतदान बहिष्कार के पर्चे आने-जाने वाले लोगों को बांटे। उनसे मतदान का बहिष्कार करने की अपील की। परिजन स्कूलों की मनमानी फीस सहित अन्य मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं। लगातार शिकायत होने के बावजूद जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो उन्हें सड़क पर उतरना पड़ा है। 

आज से घर-घर जाकर मतदान बहिष्कार की अपील करेंगे

  1. छात्रों के परिजन करीब 21 दिनों से कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। इसके लिए उन्होंने अधिकारियों से लेकर नेताओं व मंत्रियों तक का दरवाजा खटखटाया, लेकिन उनकी नहीं सुनी गई। इससे नाराज परिजनों ने अब चुनाव बहिष्कार का ऐलान कर दिया है। इसी के तहत 2 घंटे तक चले इस आंदोलन में पालकों ने जमकर नारेबाजी की। उन्होंने कहा कि जब तक हमारी सुनवाई नहीं होगी हम शांत नहीं बैठेंगे। अपने अधिकार की लड़ाई लड़ते रहेंगे। इसके लिए चाहे हमें कुछ भी करना पड़ा। मंगलवार को पालक अब घर-घर जाकर पर्चे बांटेंगे और उनसे वोट नहीं करने की अपील करेंगे। 

  2. डीईओ अपनी जेब भर रहे हैं 

    पालकों ने माइक में कहा कि जिला शिक्षा अधिकारी से शिकायत करने का कोई फायदा नहीं। उनसे शिकायत करना यानी उन्हीं को फायदा पहुंचाना। जिस स्कूल की शिकायत डीईओ ऑफिस जाती है। डीईओ उस स्कूल में टीम भेजते हैं और स्कूल प्रबंधन को शिकायत के नाम पर डरा कर पैसे खा लेते हैं। डीईओ तो शिकायत का इंतजार करते हैं ताकि उन्हें वसूली करने में आसानी हो। ऐसे लोगों को अधिकारी पद से तुरंत हटा देना चाहिए। 

  3. नेता बोले- हम समर्थन करेंगे 

    प्रचार से लौट रहे कांग्रेस नेताओं ने पालकों के प्रदर्शन तो देखा तो रुके। कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नरेंद्र बोलर और चंद्र शेखर वाजपेयी ने अभिभावकों से समर्थन देने की बात कही। पालकों ने कहा कि हमने मुख्यमंत्री तक को ज्ञापन दिया है और ऐसा नहीं है कि कांग्रेस पार्टी के लाेगों को पालकों की पीड़ा के बारे में पता नहीं है। इस बात पर कांग्रेस नेताओं ने कहा कि कि स्कूल प्रबंधन से जब इस बारे में बात करते हैं तो तो वे तुरंत पलट जाते हैं कहने लगते हैं कि हमने कोई फीस नहीं बढ़ाई है। 

  4. हाईकोर्ट जस्टिस के पास जाएंगे 

    आंदोलन के बाद सभी पालक कंपनी गार्डन पहुंचकर आगे की रणनीति बनाई। सुनवाई नहीं हुई तो हाईकोर्ट जस्टिस को ज्ञापन सौंपेंगे। फिर रायपुर में आंदोलन करेंगे फिर भी मांगें नहीं पूरी हुईं तो एसीबी को भी ज्ञापन देंगे। महिला पालकों ने कहा कि हमें सड़क पर बैठकर नारेबाजी करना अच्छा नहीं लगता, लेकिन इसके अलावा हमारे पास कोई दूसरा उपाय नहीं है। 21 दिनों से हम आंदोलन में लगे हैं इसके कारण हमारे पति और हम तनाव में हैं। 

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन