जल संकट / बैराज से छोड़ा पानी अगर सहेज पाते तो 6 माह का बंदोबस्त होता



bilaspur news water left over from the barrage been saved, it would have been 6 months arrangement
X
bilaspur news water left over from the barrage been saved, it would have been 6 months arrangement

  • अरपा में बह रहीं हमारी खुशियां... अफसोस समय पर बांध नहीं बनाया इसलिए सब सूख जाएगा 
  • चार दिन ही नदी में छोड़ा है पानी, मंगलवार को दिनभर में सबसे ज्यादा 44.60 लाख लीटर बहा 

Dainik Bhaskar

Aug 07, 2019, 10:47 AM IST

राजू शर्मा। बिलासपुर. अरपा में यह पानी नहीं बह रहा है बल्कि बह रहीं हैं हमारी खुशियां। क्योंकि कल-कल बहती जीवनदायिनी अरपा को देखकर मंगलवार की शाम को हर मन खुशी से भर उठा है, लेकिन ये पानी(खुशियां) एक दो दिन में बह जाएगा। और फिर सूख जाएगी हर बार की तरह। कारण बहुत स्पष्ट है कि समय पर अरपा का पानी सहेजने के लिए हमने न बांध बनाया और न ही एनीकट बनाए। 

हर सेकेंड अरपा नदी में 51 हजार लीटर पानी बहाया जा रहा है

  1. जानकारों के मुताबिक 302 मीटर जलभराव क्षमता वाला अरपा भैंसाझार बैराज लबालब भरा है। 12 मीटर गहराई वाले बैराज में अभी 11.60 मीटर पानी है। बैराज को सिर्फ 40 सेंटीमीटर खाली रखा गया है। 1036.80 लाख लीटर पानी प्रतिदिन नहरों में छोड़ा जा रहा है। यूं तो बैराज में 10 गेट बने हैं। अभी पांच गेट ही खोले गए हैं। पांच-पांच सेंटीमीटर खुले गेट से एक सेकंड में 1340 लीटर पानी नहरों में छोड़ रहे हैं। 24 जुलाई से लघु जलाशय को भर रहे हैं। 

  2. बहतराई, कोपरा और पेंडारी सहित छह गांवों के 4000 किसानों को 10 दिनों से सिंचाई के लिए पानी दिया जा रहा है। इसके अलावा अरपा नदी में मंगलवार को 44.60 लाख लीटर पानी छोड़ा गया है। अभी तक नदी में पांच बार ही पानी छोड़ गया है। सबसे ज्यादा पानी मंगलवार को ही छोड़ा गया है। एक सेकंड में अरपा नदी में 51 हजार लीटर पानी बहाया जा रहा है। पांच अगस्त को 34 हजार लीटर प्रति सेकंड के हिसाब से पानी छोड़ा था। यही पानी नदी में देखकर लोगों के चेहरे खिले हुए हैं।

  3. कोटा डिवीजन के कार्यपालन अभियंता अशोक तिवारी का कहना है कि जो पानी अभी नदी में बह रहा है, अगर किसी डैम में उसे स्टोर किया जाए तो छह महीने तक उसे सिंचाई और अन्य कामों के लिए उपयोग में लाया जा सकता है। उन्होंने ये भी बताया कि आने वाले दिनों में किसान और शहर के लोग पानी के लिए परेशान न हों यह सोचकर खोंगसरा में 50 एमसीएम पानी की क्षमता वाले डैम को बनाने की तैयारी कर रहे हैं। डैम का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेज दिया गया है। इस डैम में भैंसाझार से तीन गुना ज्यादा पानी स्टोर किया जा सकता है। 

  4. बहतराई, पेंडारी और कोपरा को भर रहे 

    122 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता वाले बहतराई जलाशय में 50 फीसदी पानी है। पेंडारी जलाशय 80 फीसदी भरा है। कोपरा में 90 फीसदी पानी है। पेंडारी से 75 हेक्टेयर में सिंचाई के लिए पानी दे सकते हैं। कोपरा में 1215 हेक्टेयर सिंचाई के लिए पानी दिया जा रहा है। 
    खूंटाघाट में पिछले साल से कम पानी 
    खूंटाघाट बांध में सिर्फ 28 फीसदी ही पानी है। वर्तमान स्थिति में जलाशय में 53 मिलियन घन मीटर पानी है। जबकि 60 मिलियन घन मीटर पानी होना चाहिए। पिछले साल से भी इस बार पानी कम है। पिछले साल आज की स्थिति में खूंटाघाट में 57 मिलियन घन मीटर पानी था। 

  5. जानिए किस दिन, कितना पानी छोड़ा गया 

    तारीख अरपा में छोड़ा गया पानी नहर में छोड़ा गया पानी 
    2 अगस्त 0.00 820 लीटर प्रति सेकेंड 
    3 अगस्त 20000 लीटर प्रति सेकेंड 820 लीटर प्रति सेकेंड 
    4 अगस्त 34000 लीटर प्रति सेकेंड 820 लीटर प्रति सेकेंड
    5 अगस्त 34000 लीटर प्रति सेकेंड 820 लीटर प्रति सेकेंड 
    6 अगस्त 51000 लीटर प्रति सेकेंड 1340 लीटर प्रति सेकेंड 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना