55 की जगह 25 ही खुले, नए जांच प्रदूषण केंद्र खोलने की ओर अफसरों का ध्यान नहीं

Bilaspur News - शहर की सड़कों पर रोजाना साढ़े पांच लाख वाहन सड़कों पर दौड़ रही है। ये आंकड़े आरटीओ द्वारा दिए गए हैं। इनकी जांच जरूरी है।...

Jan 16, 2020, 06:50 AM IST
शहर की सड़कों पर रोजाना साढ़े पांच लाख वाहन सड़कों पर दौड़ रही है। ये आंकड़े आरटीओ द्वारा दिए गए हैं। इनकी जांच जरूरी है। अब प्रदूषण जांच केंद्रों का हाल देखिए। शहर में 55 जगह इसे खोला जाना था। खुला तो 25 जगहों पर। बाकी स्थानों पर खासकर पेट्रोल पंपों में कैबिन तो बने हैं। पर इनमें मशीनें नहीं लगी है। कर्मचारियों से पूछेंगे तो कहेंगे जांच नहंी हो सकती है। ऐसे में यह कहना कि यह योजना फेल है गलत नहीं होगा।

पहले चरण में शहर के 40 अलग- अलग स्थानों पर प्रदूषण जांच केंद्र खोले जाने का दावा किया गया। इनमें भी लोग अपनी गाड़ियों को यहां जांच कराने में रुचि नहीं ले रहे थे। इसकी बड़ी वजह आरटीओ के अधिकारियों की गैरगंभीरता बताई गई। आंकड़ों पर गौर करें तो सामने आता है कि यहां व्यापार विहार, सरकंडा, जरहाभाठा में इसे बनवाया गया है। पर जांच को लेकर कई जगह शून्य मामले हैं। पहले तो जिले में एक लाख वाहनों के आधार पर 7 जांच केन्द्र खोले गए थे, पर अब वाहनेां की संख्या अधिक हो चुकी है। इन वाहनों में लगभग 30 प्रतिशत बिलासपुर शहर एवं आसपास चलते हैं। वाहनों की संख्या में बढ़ोत्तरी को देखते हुए जांच केन्द्रों की संख्या बढ़ाने की जरूरत थी। जिसे कुछ दिन बाद 25 केंद्र खोलकर अमल में लाया गया। पर यहां जांच में लोगों की रुचि नहीं होने के कारण अब आगे का मामला नहीं बढ़ाया जा रहा है। जिम्मेदार अधिकारियों ने मामले में खामोशी साध रखी है। इसके कारण ही सब यूं ही चल रहा है। इसका जिम्मा आरटीओ को सौंपा गया है। वे ही इसके प्रति ध्यान नहीं दे रहे। जिसके चलते सबकुछ पहले जैसा ही चल रहा है। वाहनों की संख्या बढ़ रही है और संसाधन उतने नहीं है। इसलिए परेशानी बनी हुई है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना