सात किलो राशन देकर रिकार्ड में चढ़ा रहे 35 किलो, हितग्राहियों ने आंदोलन की चेतावनी दी

Bilaspur News - क्षेत्र में पीडीएस संचालन में लगातार गड़बड़ी की शिकायत मिल रही है। ऐसा ही एक और मामला ग्राम चेचानडीह पंचायत का है।...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 02:55 AM IST
Lormi News - chhattisgarh news 35 kg of gold in the record giving seven kilo ration the beneficiaries warned of the agitation
क्षेत्र में पीडीएस संचालन में लगातार गड़बड़ी की शिकायत मिल रही है। ऐसा ही एक और मामला ग्राम चेचानडीह पंचायत का है। यहां हितग्राहियों को सिर्फ 7 किलो राशन देकर उनके रिकार्ड में 35 किलो दर्ज करने का मामला सामने आया है। वहीं राशन कार्ड में नाम कटने की बात कहते हुए दोबारा नाम जुड़वाने प्रति हितग्राही से तीन-तीन सौ रुपए वसूले जा रहे हैं।

ग्रामीणों ने इसकी शिकायत संबंधित विभाग सहित एसडीएम व कलेक्टर से भी कई बार कर चुके हैं, लेकिन अब तक कार्रवाई नहीं हुई। ऐसे में शिकायतकर्ताओं ने जल्द कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। ग्राम पंचायत चेचानडीह की सावित्री, कौशिल्या बाई, अनिता बाई, ममता, कुमारी बाई, गेंदी बाई, शत्रुहन, लक्ष्मीन बाई, ममता बाई, कमलेश्वरी, रानी और उर्मिला समेत कई हितग्राहियों ने संचालक पर मनमानी का आरोप भी लगाया है। उनका आरोप है कि ग्राम पंचायत चेचानडीह स्थित शासकीय उचित मूल्य की दुकान के संचालक लक्ष्मी ध्रुर्वे उनके हिस्से का राशन नहीं दे रहे हैं। राशन कार्ड में 7 लोगों का नाम दर्ज है, लेकिन सिर्फ 14 किलो तो किसी को 21 किलो राशन देकर चलता कर दिया जा रहा है। बाकी का राशन पूछने पर सदस्यों का नाम कटने की बात कह दी जाती है। लेकिन आॅनलाइन पीडीएस सिस्टम में बकायदा उक्त हितग्राही के कोटे पर 35 किलो राशन उठना दिखा रहा है। यह समस्या सिर्फ एक ही दुकान की नहीं, बल्कि क्षेत्र की लगभग सभी दुकानों का यही हाल है। क्षेत्र के दर्जनाें हितग्राहियों को सही मात्रा में राशन नहीं मिल पा रहा है। अधिकारियों से इसकी शिकायत करके ग्रामीण थक चुके हैं, क्योंकि कार्रवाई नहीं होती। कार्रवाई नहीं होने पर हितग्राहियों ने अब आंदोलन करने की चेतावनी दी है। हितग्राहियों ने बताया यह समस्या पिछले 1 साल से है। यह सिर्फ चेचानडीह का ही मामला नहीं है, बल्कि हर संचालक की शिकायत की काॅपी संबधित विभाग में धूल खा रही है। वहीं अधिकारियों के रवैये से हितग्राही भी शिकायत करने से कतराने लगे हैं।

भास्कर संवाददाता | लोरमी

क्षेत्र में पीडीएस संचालन में लगातार गड़बड़ी की शिकायत मिल रही है। ऐसा ही एक और मामला ग्राम चेचानडीह पंचायत का है। यहां हितग्राहियों को सिर्फ 7 किलो राशन देकर उनके रिकार्ड में 35 किलो दर्ज करने का मामला सामने आया है। वहीं राशन कार्ड में नाम कटने की बात कहते हुए दोबारा नाम जुड़वाने प्रति हितग्राही से तीन-तीन सौ रुपए वसूले जा रहे हैं।

ग्रामीणों ने इसकी शिकायत संबंधित विभाग सहित एसडीएम व कलेक्टर से भी कई बार कर चुके हैं, लेकिन अब तक कार्रवाई नहीं हुई। ऐसे में शिकायतकर्ताओं ने जल्द कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। ग्राम पंचायत चेचानडीह की सावित्री, कौशिल्या बाई, अनिता बाई, ममता, कुमारी बाई, गेंदी बाई, शत्रुहन, लक्ष्मीन बाई, ममता बाई, कमलेश्वरी, रानी और उर्मिला समेत कई हितग्राहियों ने संचालक पर मनमानी का आरोप भी लगाया है। उनका आरोप है कि ग्राम पंचायत चेचानडीह स्थित शासकीय उचित मूल्य की दुकान के संचालक लक्ष्मी ध्रुर्वे उनके हिस्से का राशन नहीं दे रहे हैं। राशन कार्ड में 7 लोगों का नाम दर्ज है, लेकिन सिर्फ 14 किलो तो किसी को 21 किलो राशन देकर चलता कर दिया जा रहा है। बाकी का राशन पूछने पर सदस्यों का नाम कटने की बात कह दी जाती है। लेकिन आॅनलाइन पीडीएस सिस्टम में बकायदा उक्त हितग्राही के कोटे पर 35 किलो राशन उठना दिखा रहा है। यह समस्या सिर्फ एक ही दुकान की नहीं, बल्कि क्षेत्र की लगभग सभी दुकानों का यही हाल है। क्षेत्र के दर्जनाें हितग्राहियों को सही मात्रा में राशन नहीं मिल पा रहा है। अधिकारियों से इसकी शिकायत करके ग्रामीण थक चुके हैं, क्योंकि कार्रवाई नहीं होती। कार्रवाई नहीं होने पर हितग्राहियों ने अब आंदोलन करने की चेतावनी दी है। हितग्राहियों ने बताया यह समस्या पिछले 1 साल से है। यह सिर्फ चेचानडीह का ही मामला नहीं है, बल्कि हर संचालक की शिकायत की काॅपी संबधित विभाग में धूल खा रही है। वहीं अधिकारियों के रवैये से हितग्राही भी शिकायत करने से कतराने लगे हैं।

डेढ़ महीने पहले 4 हजार केरोसिन की अफरा-तफरी करने वाले समूहों को एसडीएम ने किया था निलंबित

हितग्राहियों का आरोप है कि संचालक की यदि शिकायत की जाती है तो खाद्य विभाग संपर्क न कर सीधे एसडीएम कार्यालय से संपर्क कर लेन-देन कर मामले को रफा-दफा कर दिया जाता है। गौरतलब है कि एक से डेढ़ महीने पहले एसडीएम ने 4 हजार केरोसिन की अफरा-तफरी करने वाले समूहों को निलंबित किया था, लेकिन 10-12 दिन बीतने के बाद फिर से उन्हें संचालन की जिम्मेदारी दे दी गई। इसी आधार पर ग्रामीण एसडीएम कार्यालय से लेन-देन कर मामला दबाने का आरोप लगा रहे हैं। उनका कहना है कि जो व्यक्ति सरकारी की संपत्ति को चोरी करता है उसे फिर से राशन की जिम्मेदारी देना अधिकारी पर सवाल उठाने काफी है।

शासन ने पीडीएस व्यवस्था पर नकेल कसने संचालक को टेबलेट दिया। इसमें हितग्राहियों का फोटो खींची जाती है। इसके बाद उसका पूरा बायोडाटा डिसप्ले में प्रदर्शित होता है। इसमें परिवार की सदस्या संख्या, कितना राशन मिलना है सब दिखता है। राशन मिलते ही यह डेटा आॅनलाइन भी दिखता है। इसके बावजूद संचालक गड़बड़ी कर रहे हैं।

टेबलेट सिस्टम हो रहे फेल, संचालक बन रहे होशियार

खुद बताया कार्ड से कट गया नाम, फिर 3 सौ लेकर जोड़ने वाली बात

संचालक की लापरवाही सिर्फ राशन देने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि वे राशन कार्ड में नाम कटने का बहाना बनाते हुए परिवार के सदस्यों का नाम जोड़ने के एवज में प्रति हितग्राही 3-3 सौ रुपए वसूल रहे हैं। इधर राशन कम मिलने से परेशान होकर हितग्राही नाम जुड़वाने के लिए संचालक को रुपए देने को मजबूर हैं। हितग्राहियों ने बताया कि हमारे राशन पर डाका डालने वालों की मनमानी अब बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

टेबलेट में दर्ज नहीं होने के कारण आ रही थी समस्या


मामले में दोषी के ऊपर होगी कड़ी कार्रवाई


Lormi News - chhattisgarh news 35 kg of gold in the record giving seven kilo ration the beneficiaries warned of the agitation
X
Lormi News - chhattisgarh news 35 kg of gold in the record giving seven kilo ration the beneficiaries warned of the agitation
Lormi News - chhattisgarh news 35 kg of gold in the record giving seven kilo ration the beneficiaries warned of the agitation
COMMENT