समर्थकों को टिकट दिलाने अड़ रहे कांग्रेस नेता, देर रात तक नहीं बन पाई सहमति

Bilaspur News - सोमवार को बिलासपुर के होटल कोर्टयार्ड मेरियट में 5 घंटे की बैठक के बाद भी कई पार्षद प्रत्याशियों के नाम फाइनल नहीं...

Dec 04, 2019, 07:26 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news congress leaders adamant to get tickets to supporters could not reach agreement till late night
सोमवार को बिलासपुर के होटल कोर्टयार्ड मेरियट में 5 घंटे की बैठक के बाद भी कई पार्षद प्रत्याशियों के नाम फाइनल नहीं हो सके। यहां विवाद बढ़ते देख निगम प्रभारी विधायक धनेंद्र साहू ने मंगलवार को बड़े नेताओं को रायपुर बुलाया। करीब आठ बजे रात को बैठक शुरू हुई। कोशिश होती रही कि जिन वार्डों में पैनल है, वहां सिंगल हो जाए ताकि अंतिम रूप से इसे प्रदेश चयन समिति को भेजा जाए। बताया जा रहा है कि नेता अपने समर्थकों को टिकट दिलाने के लिए अड़े रहे और विवाद की स्थिति भी निर्मित हुई। विधायक रश्मि सिंह के बैठक निवास कार्यालय में हुई बैठक में बिलासपुर विधायक शैलेश पांडेय, विधायक रश्मि सिंह, प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव, जिलाध्यक्ष विजय केशरवानी और शहर अध्यक्ष नरेंद्र बोलर के बीच प्रत्याशियों के नामों को लेकर सहमति बनाने का प्रयास धनेंद्र साहू करते रहे। 22 से 25 वार्डों में पैनल होने की वजह से कई घंटे तक मीटिंग चलती रही। एक-एक नाम पर चर्चा होती रही। विवाद और खींचतान की स्थिति भी बनी।

अटल श्रीवास्तव महेश दुबे को तो विधायक शैलेश पांडेय वार्ड नंबर 33 से शैलेन्द्र जायसवाल का नाम फाइनल करने की बात कहते रहे। वहीं इसी वार्ड से शहर अध्यक्ष नरेंद्र बोलर ने भी दावेदारी की है। उन्हें वार्ड नंबर 34 से लड़ने मनाने का प्रयास हुआ पर वे नहीं माने। पहले घंटे में ही बिलासपुर विधायक शैलेश पांडेय मीटिंग से बाहर निकले तो यह चर्चा हुई कि वे समर्थकों को टिकट नहीं मिलने से नाराज हैं। इधर जिनकी टिकट फंस गई, वे रायपुर में डटे रहे। बता दें कि सत्ता और संगठन के बीच बिलासपुर में पहले से ही खींचतान है। ऐसे में दोनों ही पक्ष अपने-अपने समर्थकों के लिए अड़े रहे। जानकारी के मुताबिक देर रात तक चली बैठक में अधिकांश वार्ड के पैनल को सिंगल नहीं किया जा सका। ऐसे में 5 दिसंबर की देर रात तक प्रत्याशियों की सूची आने की चर्चा है।

रायपुर में बिलासपुर के कांग्रेस दिग्गजों की बैठक

दावेदारों को बैठक से दूर रहने के निर्देश

संगठन के कुछ ऐसे पदाधिकारी भी रायपुर में डटे रहे जो खुद टिकट पाने की दौड़ में है। ब्लॉक अध्यक्षों के साथ ही अभय नारायण राय, महेश दुबे व शैलेंद्र जायसवाल के साथ ही कई नेता वहां यह पता लगाने की कोशिश में जुटे रहे कि टिकट किसे मिल रही है। हालांकि नेताओं को बैठक से दूरी बनाए रखने के निर्देश दिए थे लेकिन फिर भी कुछ वहां दिखे। दोपहर बाद से ही दावेदार रायपुर रवाना हो गए और रात रहने का जुगाड़ भी कर लिया। इसके बावजूद वे विधायक रश्मि सिंह के निवास कार्यालय के आसपास मंडराते रहे।

इन नामाें पर हुआ विवाद

वार्ड 24 रामशरण यादव व प्रमोद नायक, वार्ड 30 राजेश पांडेय,दीपांशु श्रीवास्तव, महेश दुबे, वार्ड 33- विजय पांडेय, नरेंद्र बोलर, शैलेंद्र जायसवाल, वार्ड 44 सैय्यद निहाल, राकेश सिंह, वार्ड 57 बसंत शर्मा, सुधांशु मिश्रा, विनोद साहू, वार्ड 62 राजेश शुक्ला, निर्मल मानिकपुरी।

विधायक शैलेश पांडेय के नाराज होने की चर्चा

यह भी चर्चा रही कि बैठक के दौरान बिलासपुर विधायक शैलेश पांडेय समर्थकों को टिकट नहीं मिलने से नाराज होकर मीटिंग से बाहर आ गए। धनेंद्र साहू और रश्मि सिंह उन्हें मनाकर फिर से बैठक में ले गए। बैठक के बीच से जो भी बाहर निकला उसके बारे में भी कुछ इसी तरह के कयास लगाए गए।

X
Bilaspur News - chhattisgarh news congress leaders adamant to get tickets to supporters could not reach agreement till late night
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना