गोंडवाना के इंजन में गाय फंसी प्रेशर पाइप फटा, खड़ी रही ट्रेन

Bilaspur News - चार घंटे विलंब से बिलासपुर पहुंची

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 03:22 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news cow stuck pressure pipe cracked in the engine of gondwana standing train
चार घंटे विलंब से बिलासपुर पहुंची


परिवहन रिपोर्टर | बिलासपुर

निजामुद्दीन-रायगढ़ गोंडवाना एक्सप्रेस के इंजन में गाय फंस गई। प्रेशर पाइप फटने की वजह से ट्रेन को डेढ़ घंटे रास्ते में खड़ा रहना पड़ा। दो घंटे विलंब से चल रही ट्रेन इस हादसे के बाद 4 घंटे विलंब से बिलासपुर पहुंचकर रायगढ़ रवाना हुई। वहीं दूसरी ओर बिलासपुर-कटनी सेक्शन में आवश्यक मरम्मत कार्य की वजह से ट्रेनों को अलग-अलग स्टेशनों में 30 मिनट से एक घंटे तक रोककर रखा गया।

निजामुद्दीन से रायगढ़ जाने वाली गोंडवाना एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय से लगभग दो घंटे विलंब से राजनांदगांव रेलवे स्टेशन पहुंची। वहां से छूटने के बाद दोपहर 3.20 बजे दुर्ग रेलवे स्टेशन आने से लगभग 8 किलोमीटर पहले एक गाय पटरी पार करते हुए ट्रेन के इंजन से टकरा गई। वह सामने की जाली में फंसी। उसका आधा हिस्सा इंजन के नीचे जाकर प्रेशर पाइप से टकराया। जिससे प्रेशर पाइप फट गया और ट्रेन वहीं रुक गई। प्रेशर पाइप सुधारे बगैर ट्रेन का आगे चल पाना संभव नहीं था। इसकी सूचना लोको पायलट व ट्रेन के गार्ड ने राजनांदगांव और दुर्ग स्टेशन मास्टर को दी। इसके बाद प्रेशर पाइप सुधारने का काम शुरू किया। प्रेशर पाइप बदलने और गाय के शरीर के टुकड़ों को इंजन से अलग करने में डेढ़ घंटे का समय लगा। शाम 4.45 बजे ट्रेन मौके से दुर्ग के लिए रवाना हुई। चूंकि ट्रेन साढ़े तीन घंटे लेट हो चुकी थी इसलिए इसके पीछे निर्धारित समय से चल रही ट्रेनों को लाइन क्लियर देकर आगे बढ़ाया गया। इस वजह से गोंडवाना एक्सप्रेस रात 8 बजे बिलासपुर पहुंचकर रायगढ़ रवाना हुई। दूसरी ओर बिलासपुर-कटनी मार्ग पर अलग-अलग स्टेशनों के बीच चल रहे मरम्मत के काम की वजह से कटनी से बिलासपुर आने वाली ट्रेनों को रोक-रोककर चलाया गया। दोपहर में आने वाली भगत की कोठी एक्सप्रेस को 30 मिनट अनूपपुर रेलवे स्टेशन में रोककर रखा गया। इसी तरह से दोपहर में आने वाली अन्य ट्रेनों को भी रोका गया। अनूपपुर-कटनी के बीच तीसरी रेलवे लाइन का भी काम चल रहा है।

X
Bilaspur News - chhattisgarh news cow stuck pressure pipe cracked in the engine of gondwana standing train
COMMENT