दुकान के भीतर बिजली ठेकेदार की संदिग्ध परिस्थितियों में फंदे पर लटकती मिली लाश

Bilaspur News - बिजली विभाग के ठेकेदार की दुकान के भीतर फंदे पर लटकते संदिग्ध परिस्थितियों में लाश मिली। पुलिस इसे खुदकुशी मान...

Dec 04, 2019, 07:30 AM IST
बिजली विभाग के ठेकेदार की दुकान के भीतर फंदे पर लटकते संदिग्ध परिस्थितियों में लाश मिली। पुलिस इसे खुदकुशी मान रही है पर उनके घरवालों का कहना है कि ऐसी कोई परिस्थिति नहीं थी जिससे उन्हें आत्महत्या के लिए मजबूर होना पड़े। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही मौत के कारणों का पता चल पाएगा। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। घटना सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र की है। सांईधाम निवासी आशीष थवाईत पिता ज्योति चंद्र 35 वर्ष बिजली विभाग के ठेकेदार थे। उनकी दयालबंद में दुकान है। यहां बिजली का सामान मिलता है। सोमवार की रात 7.30 बजे वे दुकान से कुछ देर के लिए घर आए फिर खाना खाकर चले गए। देर रात तक घर ही नहीं लौटे। उनके दुकान का हेल्पर कोमल कुमार के अनुसार देर रात उनके घर का कूलर खराब हो गया तो वे पाना पेंचिस लेने दुकान गए। रात के तब 2.30 बजे थे। दुकान का शटर दो फीट खुला था। उन्हें गड़गड़ी की आशंका हुई तो शटर उठाकर झांका। भीतर ठेकेदार फांसी के फंदे में लटक रहे थे। उन्होंने परिजनों को सूचना दी। ठेकेदार के रिश्तेदार पहुंचे और फंदा काटकर ठेकेदार के शरीर को नीचे उतारा फिर एंबुलेंस से जूना बिलासपुर के एक निजी अस्पताल में लेकर गए। यहां जांच के बाद डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। सूचना मिलने पर पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू की। ठेकेदार के गले पर टेंट के कपड़े का फंदा था। इसका दूसरा हिस्सा पंखे के लिए बने हुक पर बांधा गया था। सिटी कोतवाली पुलिस इसे खुदकुशी की घटना मान रही है। टीआई परिवेश तिवारी का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही मौत के असली कारणों का पता चल सकेगा। अभी ठेकेदार के परिजनों का बयान दर्ज नहीं हुआ है।

हेल्पर का बयान भी संदिग्ध

ठेकेदार का हेल्पर का बयान मैच नहीं खा रहा है। उसने पुलिस को बताया है कि वह कूलर चलाना चाहता था पर यह बिगड़ा था और उसे बनाने के लिए दुकान पाना पेचिस लेने गया था। सवाल उठता है कि अभी ठंड का मौसम है। सभी के कूलर, एसी बंद हो चुके हैं। इतनी गर्मी नहीं थी कि रात को ही कूलर को बनाना जरूरी था। यह काम सुबह भी हो सकता था।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना