• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • Bilaspur News chhattisgarh news for the new rri cabin in railways the process has been changed for only 14 years only the building has been changed

रेलवे में नए आरआरआई केबिन के लिए 14 साल से प्रक्रिया, सिर्फ बिल्डिंग बनी, दो बार प्रस्ताव बदला

Bilaspur News - बिलासपुर रेलवे स्टेशन का रूट रिले केबिन दम तोड़ने की कगार पर है और अफसर इसके लिए 14 साल से बड़ी-बड़ी योजनाएं बना रहे हैं।...

Bhaskar News Network

Jul 11, 2019, 06:30 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news for the new rri cabin in railways the process has been changed for only 14 years only the building has been changed
बिलासपुर रेलवे स्टेशन का रूट रिले केबिन दम तोड़ने की कगार पर है और अफसर इसके लिए 14 साल से बड़ी-बड़ी योजनाएं बना रहे हैं। हालांकि इस दौरान बिल्डिंग अवश्य ही तैयार करा ली गई। लेकिन निचले हिस्से में सिग्नल डिपार्टमेंट ने अपना स्टोर और जनरेटर रूम बना लिया है।

बिलासपुर रेलवे स्टेशन यार्ड में स्थापित रूट रिले केबिन का काम बिलासपुर-हावड़ा, बिलासपुर मुंबई व बिलासपुर-कटनी रूट पर जाने वाली सभी लाइन पर यार्ड सेक्शन तक सिग्नल सहित अन्य तरह के पूरे काम का संचालन वहीं से होता है। इस केबिन में लगे रिले पैनल के जरिए ही ट्रेनों का परिचालन पूरे यार्ड में होता है। यह पैनल अपनी क्षमता से अधिक काम कर रहा है। इसलिए इसका बदला जाना अब आवश्यक हो गया है। रेलवे के सिग्नलिंग विभाग के अंडर में यह केबिन है। यह विभाग लगातार इस प्रयास में लगा है कि पैनल का रिप्लेसमेंट हो जाए लेकिन हर बार कोई न कोई अड़ंगा इसमें लग रहा है। वर्ष 2005-06 में रूट रिले केबिन के पुराने पैनल को बदलकर उसी पैटर्न का नया पैनल लगाने का प्रस्ताव बनाकर रेलवे बोर्ड भेजा गया। उक्त प्रस्ताव पास होकर आया। इस बीच देशभर में नई टेक्नालॉजी के इलेक्ट्राॅनिक पैनल की शुरूआत हो चुकी थी। यह ज्यादा आसान और हाई टेक्निक होने की वजह से सारा कुछ साफ्टवेयर बेस्ड थी इसलिए इस प्रस्ताव का नए सिरे से संशोधन के लिए भेजा गया। उस समय इसके लिए 55 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया था। वर्ष 2016-17 के बजट में इसके लिए राशि भी मिली थी। इसके लिए टेंडर की प्रक्रिया भी हुई लेकिन किसी कारण से उसे भी रोकना पड़ा था।

रेलवे का आरआरआई केबिन भवन।

बिल्डिंग तैयार, भूतल पर स्टोर भी बना दिया

इसमें बिल्डिंग निर्माण की राशि का प्रस्ताव अलग जिसे पहले वाले प्रस्ताव में यथावत रखा गया था। इसलिए बिल्डिंग की राशि स्वीकृत कर बिल्डिंग तैयार की ली गई। उक्त बिल्डिंग तीन साल में बनाकर तैयार कर ली गई। तीन माले की इस बिल्डिंग के तैयार होने के बाद भूतल के हिस्से में सिग्नलिंग डिपार्टमेंट ने अपना स्टोर बना लिया है। वहां पर बड़े जनरेटरों के अलावा केबिन से संबंधित सामान ही रखे हैं।

प्रस्ताव रुका नहीं, पर काम धीमा

नए आरआरआई केबिन का प्रस्ताव कहीं रुका नहीं है, लेकिन उस पर काम करने वाले अफसरों की रफ्तार इतनी कम है कि कि उस पर काम होता दिखाई ही नहीं दे रहा है। बड़ा और महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट है इसलिए इसकी बारीकियां पर भी ध्यान दिया जा रहा है।

X
Bilaspur News - chhattisgarh news for the new rri cabin in railways the process has been changed for only 14 years only the building has been changed
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना