पांच में से चार एसी बंद, ब्लड बैंक में खून खराब होने का खतरा

Bilaspur News - जिला अस्पताल स्थित ब्लड बैंक में खून खराब होने का खतरा बढ़ गया है। ऐसे में आने वाले समय में मरीजों को परेशानी हो...

Bhaskar News Network

Aug 15, 2019, 09:25 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news four out of five acs closed risk of bleeding in blood bank
जिला अस्पताल स्थित ब्लड बैंक में खून खराब होने का खतरा बढ़ गया है। ऐसे में आने वाले समय में मरीजों को परेशानी हो सकती है। ब्लड बैंक में पांच एसी लगाए गए थे इनमें से चार खराब हैं। तापमान को नियंत्रित करने के लिए कक्ष में कुल 5 एयर कंडीशनर (एसी) लगे हुए हैं।

पिछले पांच साल से इनमें से चार एसी खराब हैं। इस वजह से कक्ष के साथ-साथ रेफ्रिजरेटर का तापमान बढ़ा रहता है जबकि खून को सुरक्षित रखने के लिए रेफ्रिजरेटर का तापमान 2-4 डिग्री के बीच होना चाहिए। एसी खराब होने के कारण तापमान 10-11 डिग्री तक पहुंच रहा है। इससे इनमें रखे रक्त के खराब होने की आशंका बनी हुई है। किसी भी ब्लड बैंक का तापमान 30 डिग्री से अधिक नहीं होना चाहिए पर जिला अस्पताल में ऐसा नहीं है। पांच एसी में चार खराब हैं। एक डॉक्टर रूम में लगा है। दूसरा जहां डोनर ब्लड देता है। तीसरा रिफ्रेशमेंट रूम में डोनर को चाय काफी पिलाई जाती है। यहां का भी तापमान सामान्य होना चाहिए। चौथा एलाइजा रूम में लगा है। यहां स्क्रीनिंग हेपेटाइटिस बी, सी की जांच होती है। इसी तरह पांचवां एसी जहां ब्लड ग्रुपिंग व क्रास मैचिंग होती है वहां लगाया गया था। इनमें से एक ही रिफ्रेशमेंट रूम का एसी ही चल रहा है। इस कारण रिपोर्ट में कभी भी धोखा हो सकता है।

एलाइजा रीडर के लिए 20 डिग्री तापमान जरूरी

जिला अस्पताल में सबसे कीमती मशीन एलाइजा रीडर लगी है। इससे डेंगू सहित जरूरी टेस्ट किए जाते हैं। रीडर को 20-25 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान पर रखा जाता है। इसी तरह ब्लड बैंक के सेंटीफ्यूजन मशीन, ब्लड ग्रुपिंग सिरा, केमिकल क्रास मैच के लिए तापमान 30 से अधिक नहीं होना चाहिए। केमिकल खराब होते है। जहां ब्लड स्टोरेज होता है वहां का तापतान करीब 20 सेंटीग्रेड होना चाहिए। कमरे का तापमान भी नार्मल होना चाहिए। यहां एसी चलते रहना चाहिए जहां ब्लड डोनेट होता है वहां का भी तापमान सामान्य होता है।

खून दान करने वाले लोग गर्मी में बैठे रहते हैं

ब्लड बैंक में कुल आठ कमरे हैं। जहां पर रजिस्ट्रेशन होता है वहां भी गर्मी रहती है। यहां भी एसी की जरूरत है पर नहीं लगाया गया। खून दान करने आया व्यक्ति यहां गर्मी में बैठा रहता है।

30 से अधिक चिट्ठी लिख चुके हैं फिर भी नहीं लगा

ब्लड बैंक प्रभारी केके जायसवाल ने बताया कि उन्होंने एसी बदलने के लिए सिविल सर्जन को 30 से अधिक चिट्ठियां लिखी हैं। पांच साल बीत चुके पर न मरम्मत कराई गई और न बदला गया।

नया लगवाने करेंगे कार्रवाई-प्रभारी सिविल सर्जन

प्रभारी सिविल सर्जन मनोज जायसवाल का कहना है दो बार इनका सुधार कार्य करवाया जा चुका है पर जल्दी ही यह खराब हो गया। अब यदि नहीं बन पाए गए तो नया लगवाने के लिए कार्रवाई करेंगे।

खून रखने के लिए 35 दिन होती है बैधता

पैथालाजिस्ट डॉ. केके जायसवाल ने बताया कि खून को 2 से 4 डिग्री के तापमान पर सुरक्षित रखा जाता है और इसे कम से कम 35 दिन तक रखा जाता है। कम तापमान पर खून खराब होने लगता है।

X
Bilaspur News - chhattisgarh news four out of five acs closed risk of bleeding in blood bank
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना