अगर नेगोसिएशन टीम की चलती तो डील 14% सस्ती होती: कैग

Bilaspur News - अगर नेगोसिएशन टीम की चलती तो डील 14% सस्ती होती: कैग कैग ने वह नोट भी उजागर किया, जिसमें लिखा है- डैसो को खारिज करना...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 03:20 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news if the negotiation team moves deal will be 14 cheaper cag
अगर नेगोसिएशन टीम की चलती तो डील 14% सस्ती होती: कैग

कैग ने वह नोट भी उजागर किया, जिसमें लिखा है- डैसो को खारिज करना चाहिए था : कैग की पड़ताल के अनुसार, रक्षा मंत्रालय ने 126 विमानों के सौदे की बारीकी से जांच करने के लिए मनमोहन सरकार के समय एक टीम बनाई थी। टीम ने अपनी रिपोर्ट मोदी सरकार के कार्यकाल में 27 मार्च 2015 को सरकार को सौंपी। 15 दिन बाद सरकार ने सौदे को मंजूरी दे दी। जबकि टीम ने कहा था कि...
कैग रिपोर्ट से महाझूठबंधन की पोल खुली :
डील यूपीए से बेहतर शर्तों पर नहीं हुई: राहुल :
मार्च से रायपुर-कटनी की रेल यात्रा में डेढ़ घंटे कम लगेंगे; हो जाएंगे 2 ट्रैक, सिंगल इंजन दौड़ेगा

इस रूट पर रोज 52-54 ट्रेनें चलती हैं, करीब 40 (मालगाड़ी सहित) में डबल इंजन की जरूरत पड़ती है। अगले 23 दिन तक बिलासपुर-अनूपपुर खंड में ट्रेनों का ब्लॉक लेकर दोहरीकरण पूरा किया जाएगा। 5 मार्च के बाद ट्रैक की जांच होगी और मार्च अंत तक ट्रेन पर ट्रेन दौड़ने लगेंगी।

23 दिन का ब्लॉक लिया है : पेंड्रा-अनूपपुर रेल रूट में दोहरीकरण कार्य अंतिम चरण में है। 23 दिन का ब्लॉक लिया है, इसमें प्रोजेक्ट पूरा होगा और ट्रेन दौड़ने लगेंगी। -रविश कुमार सिंह, सीपीआरओ, बिलासपुर जोन

पूर्व प्रमुख सचिव अमन सिंह के खिलाफ एसआईटी जांच के आदेश पर हाईकोर्ट की रोक

इस दौरान उन्होंने पूर्व में खुद प दर्ज प्रकरण की जानकारी छिपाई। जबकि 2001-02 में बैंगलुरू में पोस्टिंग के दौरान उन पर भ्रष्टाचार मामले की जांच की हुई, चार्जशीट भी पेश हुई थी। पीएमओ ने विजया की शिकायत छत्तीसगढ़ सरकार को भेजी। जिसके बाद प्रदेश के सामान्य प्रशासन विभाग की सचिव रीता शांडिल्य ने ईओडब्ल्यू के महानिदेशक को पीएमओ से मिली शिकायत का हवाला देते हुए अमन सिंह के खिलाफ एसआईटी जांच के आदेश दिए थे। सिंह की तरफ से पूर्व अतिरिक्त महाधिवक्ता किशोर भादुड़ी ने तर्क प्रस्तुत किया कि एफआईआर दर्ज किए बगैर एसआईटी जांच शुरू नहीं की जा सकती। इधर, अधिवक्ता विकास सिंह ने रायपुर में मीडिया को बताया कि हमने अपनी याचिका में कहा कि बिना एफआईआर के एसआईटी का गठन अवैधानिक है। कोई अपराध हुआ है या नहीं सिर्फ यह पता लगाने के लिए एसआईटी गठन किया गया, जो सही नहीं है। सुप्रीम कोर्ट के जजमेंट जहां एफआईआर होगी, वहीं इन्वेस्टिगेशन हो सकती है। पीएमआे की भूमिका मामले में सिर्फ पोस्ट आॅफिस की रही है।

सात साल के रूडॉल्फ ने 13.48 सेकंड में 100 मी. रेस पूरी की, दावा- सबसे तेज दौड़ने वाला बच्चा

रूडॉल्फ के पिता और कोच इंग्राम सीनियर ने 60 और 100 मीटर रेस का वीडियो जारी करते हुए लिखा है कि सात साल का रूडॉल्फ संभवत: दुनिया का सबसे तेज दौड़ने वाला बच्चा है। इस पर हमें गर्व है। इस वीडियो में दिख रहा है कि रूडॉल्फ आसानी से अपनी दोनों रेस पूरी कर लेता है, जबकि उसके साथ दौड़ने वाले बच्चे पीछे छूट जाते हैं। यही नहीं बीते दो एएयू सीजन में रूडॉल्फ ने 20 गोल्ड समेत 36 मेडल जीते हैं। इन सब चीजों ने रूडॉल्फ को हीरो बना दिया है। इंस्टाग्राम पर उसके 3 लाख फॉलोअर्स हैं। पिता इंग्राम सीनियर कहते हैं कि रूडॉल्फ ने उसैन बोल्ट पर बनी डाक्यूमेंट्री देखी। इसी के बाद उसमें दौड़ने का जज्बा पैदा हुआ। हम उससे यहीं कहते हैं कि अगर लड़ने का माद्दा है, तो हर लक्ष्य हासिल किया जा सकता है। हम उसे हर संभव ट्रेनिंग दे रहे हैं। पर दौड़ने का उसका जज्बा उसे अलग खड़ा करता है। रूडॉल्फ का सपना जमैका के धावक उसैन बोल्ट का रिकॉर्ड तोड़ना है। बोल्ट के नाम दुनिया के सबसे तेज धावक का रिकॉर्ड है। बर्लिन वर्ल्ड चैंपियनशिप में बोल्ट ने 9.58 सेकंड में 100 मीटर की दूरी तय की थी। बोल्ट ने 14 साल की उम्र में 200 मीटर की रेस 22.04 सेकंड में पूरी की थी।

3 स्तरों पर होगी प्रश्न-पत्र की सुरक्षा, छात्रों के सामने खोला जाएगा पर्चों का लिफाफा

परीक्षा की गोपनीय सामग्री की जिओ टैग के जरिए निगरानी भी होगी और उसका पता भी लगाया जाएगा। परीक्षा की पूरी प्रक्रिया को और पारदर्शी बनाया गया है। कोई भी परीक्षार्थी लिखित परीक्षा के लिए कंप्यूटर और लैपटॉप का इस्तेमाल कर सकता है। सोशल मीडिया पर परीक्षा को लेकर भ्रामक खबरें देना या अफवाह फैलाना कदाचार माना जाएगा। एहतियात के तौर पर पहली बार कई संवेदनशील सेंटरों पर धारा 144 लागू रहेगी। सीबीएसई के सचिव अनुराग त्रिपाठी ने भास्कर को बताया कि बच्चों को हर हाल में छात्रों को 10 बजे तक अपनी क्लास में बैठ जाना होगा। इसलिए वे सेंटर पर कम से कम 20 मिनट पहले आएं। 10 बजे के बाद परीक्षार्थी को परीक्षा हाल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। पहली बार एडमिट कार्ड पर छात्र के अभिभावक के हस्ताक्षर अनिवार्य किया गया है। कक्षा 12वीं की परीक्षा 4 अप्रैल तक होगी। वहीं कक्षा 10वीं की परीक्षा 21 फरवरी से शुरू होगी और 29 मार्च तक चलेगी।

परीक्षाओं को होगा लाइव प्रसारण : परीक्षाओं का इस बार से लाइव वेबकास्टिंग किया जाएगा। सीबीएसई के सभी 21 हजार 400 स्कूलों को परीक्षा के लिए नए कदमों की जानकारी वेबकास्टिंग के जरिए दी जाएगी। सीबीएसई सचिव अनुराग त्रिपाठी ने बताया कि छात्रों को एप के जरिए अपने परीक्षा केंद्र का पता चल सकेगा। पिछले वर्ष की तुलना में इस बार परीक्षा के नतीजे एक सप्ताह पहले घोषित कर दिए जाएंगे।

31 लाख से ज्यादा परीक्षार्थी : इस बार 10वीं और 12वीं की परीक्षा में 31 लाख, 14 हजार, 821 परीक्षार्थी हैं। परीक्षा के लिए देश में 4,974 केंद्र बनाए गए हैं। विदेश में 78 केंद्र बनाए गए हैं। सीबीएसई की नोटिस के मुताबिक परीक्षाओं को सही ढंग से कराने के लिए 3 लाख से ज्यादा अधिकारी कार्य करेंगे। इनमें सेंटर सुपरिंटेंडेंट, डिप्टी सेंटर सुपरिंटेंडेंट, इंविजिलेटर, चीफ नोडल सुपरवाइजर्स, हेड एग्जामिनर्स, इवेल्युएटर शामिल हैं।

X
Bilaspur News - chhattisgarh news if the negotiation team moves deal will be 14 cheaper cag
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना