22 दिन में 19.56 लाख क्विंटल धान खरीदेंगे तब 46 लाख का लक्ष्य पूरा कर पाएंगे

Bilaspur News - प्रशासनिक रिपोर्टर | बिलासपुर 46 लाख क्विंटल खरीदी का लक्ष्य पूरा करने के लिए शासन को अब अगले 22 दिनों तक रोजाना...

Jan 16, 2020, 06:50 AM IST
प्रशासनिक रिपोर्टर | बिलासपुर

46 लाख क्विंटल खरीदी का लक्ष्य पूरा करने के लिए शासन को अब अगले 22 दिनों तक रोजाना करीब 89 हजार क्विंटल धान खरीदना होगा। अब तक तो रोजाना इतना धान नहीं खरीदा जा रहा है। बुधवार को 77 हजार 437 क्विंटल धान खरीदा गया। अब तक एक लाख आठ हजार में से 61777 किसानों से धान खरीदा गया है। 2500 रुपए क्विंटल में धान खरीदी करने के लिए इस बार जिस तरह के इंतजाम खरीदी केंद्रों में हुए हैं, उसे लेकर लगातार शिकायतें मिलती रही हैं और प्रदेश के मंत्री तक अव्यवस्था व बदइंतजामी से इनकार नहीं कर पा रहे हैं। पिछले दिनों सहकारिता मंत्री ने इसी बदइंतजामी पर छतौना के संस्था प्रबंधक को निलंबित किया तो पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव ने माना कि प्रशासनिक अफसरों ने जरूरत से ज्यादा कड़ाई कर रखी है। अन्य जिलों की तरह बिलासपुर में भी 130 केंद्रों में 1 दिसंबर से खरीदी शुरू हो चुकी है और छुट्टी के दिनों को छोड़कर यहां किसानों से धान खरीदा जा रहा है। पिछले साल 44 लाख 14 हजार 282 क्विंटल धान खरीदा गया था। इस बार प्रशासन ने खुद ही 46 लाख क्विंटल का लक्ष्य रखा है। पर जिस तरह के हालात है, उससे नहीं लगता कि लक्ष्य पूरा होगा। सबसे बड़ी वजह तो ये कि 10 लाख क्विंटल से अधिक धान केंद्रों में जाम है और धान खरीदने के लिए जगह की कमी है। इसके अलावा बारदानों की कमी, खरीदी की लिमिट, टोकन व्यवस्था जैसी कई चीजें भी हैं। धान खरीदी वैसे तो 15 फरवरी तक होगी लेकिन चूंकि शनिवार व रविवार को खरीदी नहीं होती इसलिए खरीदी के लिए 22 दिन ही बचेंगे। लक्ष्य हासिल करने 22 दिन में 19.56 लाख क्विंटल धान खरीदना होगा। यानी रोजाना 89 हजार क्विंटल धान खरीदना होगा। खाद्य नियंत्रक हिजकिएल मसीह के मुताबिक लक्ष्य पूरा भी हो सकता है। पर अभी से कुछ कह पाना उचित नहीं होगा। कुछ दिन और गुजरने के बाद धान की आवक के हिसाब से समझ में आएगा कि कितना धान खरीदा जा सकता है।

46223 किसान नहीं पहुंचे बेचने

अब तक 46 हजार 223 किसान धान बेचने नहीं पहुंचे है। यह आंकड़ा चौंकाने वाला है। 130 खरीदी केंद्रों में इतने किसान यदि धान बेचने नहीं आए तो खाद्य विभाग का लक्ष्य तो वैसे भी पूरा नहीं होने वाला। इस बार पिछले साल की तुलना में करीब 18 हजार अधिक किसानों ने धान बेचने के लिए पंजीयन कराया है। पिछले साल 85,335 किसानों से धान खरीदा गया था।

धान खरीदी में गड़बड़ी की जांच करने सीईओ ने ब्रांच मैनेजर को भेजा

बिलासपुर | बिल्हा ब्लाॅक के दो सेंटरों में धान खरीदी में हो रही गड़बड़ी के खुलासे के बाद भी खाद्य विभाग के अफसर नहीं जागे, जबकि आॅपरेटिव बैंक के सीईओ ने संज्ञान लेते हुए जांच के लिए ब्रांच मैनेजर को भेजा। डिप्टी रजिस्ट्रार को दिन भर मामले की जानकारी तक नहीं थी। दैनिक भास्कर ने बुधवार को बिल्हा ब्लाॅक के दो धान खरीदी केंद्र उरतुम व सेलर का निरीक्षण कर किसानों से बातचीत भी की थी। इसमें किसानों ने धान खरीदी में ताैल में 40 किलो की प्रत्येक बोरी के पीछे एक किलो धान अधिक लेना बताया था। खुद मुख्य सचिव आरपी मंडल ने भी इन केंद्रों की जांच कराने की बात कही थी। इसके बावजूद अफसरों ने मामले में कोई संज्ञान नहीं लिया। खाद्य नियंत्रक एच मसीह के अनुसार उन्होंने किसी अफसर को अभी जांच के लिए नहीं भेजा है लेकिन वे भेजेंगे। इधर, डिप्टी रजिस्ट्रार कोआपरेटिव सोसायटी मंजू पांडे ने मामले को गंभीर बताया और तत्काल संज्ञान लेने काे कहा।

प्रतिवेदन मिलने के बाद स्थिति स्पष्ट होगी

को आपरेटिव सोसायटी के सीईओ श्रीकांत चंद्राकर ने मामले में कहा कि वे जानकारी होने के बाद संबंधित धान खरीदी केंद्र में ब्रांच मैनेजर को जांच के लिए भेजे हैं। अभी उनसे प्रतिवेदन नहीं मिला है। प्रतिवेदन मिलने के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना