खुर्शीद ने कहा- जिस शहर का अपना इतिहास नहीं होता, उसकी अपनी कोई संस्कृति नहीं होती

Bilaspur News - कार्यक्रम में अतिथि को स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया। सिटी रिपोर्टर | बिलासपुर जनवादी लेखक संघ के दूसरे राज्य...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2019, 06:45 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news khurshid said a city which does not have its own history has no culture of its own
कार्यक्रम में अतिथि को स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया।

सिटी रिपोर्टर | बिलासपुर

जनवादी लेखक संघ के दूसरे राज्य अधिवेशन का आयोजन रविवार को लिंक रोड स्थित नारायण प्लाजा में किया गया। विशेष सत्र में “शानी का रचना संसार” विषय पर मुख्य वक्ता के तौर पर उपस्थित साहित्यकार फिरोज शानी ने अपने पिता की रचनाओं पर कहा कि उनका पैशन था लिखना। उनका कहना था कि मेरा लेखन जनता के लिए है। वे कभी किसी संगठन से नहीं जुड़े और सबके लिए लिखा। शानी जी का परिचय पहले सस्ते साहित्य से हुआ और फिर वे गंभीर साहित्य कि ओर आकर्षित हुए।

संघ के अध्यक्ष कथाकार खुर्शीद हयात ने कहा कि जिस शहर का अपना इतिहास नहीं होता, उसकी अपनी कोई संस्कृति नहीं होती। इस शहर को जगन्नाथ भानु, श्रीकांत वर्मा, शंकर शेष, सत्यदेव दुबे ने पहचान दी है। यही कारण है कि बिलासपुर शहर को साहित्य कि राजधानी कहने में खुशी होती है। कार्यक्रम के अध्यक्ष भोपाल से आए साहित्यकार रामप्रकाश त्रिपाठी ने कहा कि समय कठिन से कठिन होता जाता है, बल्कि समय और कठिन हो रहा है। पहले लोगों में यह भाव था कि हमें एक मौका दें, लेकिन आज मुहावरा बदला है। आज अब उल्टा हो गया है, हर नई चीज के स्वागत करने का जमाना चला गया। जगदलपुर से आए साहित्यकार विजय सिंह ने शानी जी के साथ बिताए अपने आत्मीय पलों को याद किया। बस्तर और जगदलपुर में बिताए दिनों कि चर्चा करते हुए उनकी कहानी “बारात” पर बात की। साहित्यकार शाकिर अली ने कहा कि शानी जी ने ईमानदार साहित्य लेखन करते हुए जीवन बिताया। प्रथम शानी स्मृति कथा सम्मान शहर के वरिष्ठ कथाकार शीतेंद्र नाथ चौधरी को दिया गया। फिरोज शानी व राम प्रकाश त्रिपाठी को भी सम्मानित किया गया। आभार प्रदर्शन संघ के अध्यक्ष कपूर वासनिक ने किया। संघ के दिवंगत सदस्य त्रिजुगी कौशिक, डॉ. लाखन सिंह व एस कुमार को श्रद्धांजलि दी गई। संचालन सतीश सिंह व अजय चंद्रवंशी ने किया। इसमें नंद कश्यप, महेश श्रीवास, नीलोत्पल शुक्ला, प्रथमेश मिश्रा, सविता प्रथमेश, रोशनी बंजारे, असीम तिवारी, शारदा आदिले, अनुज श्रीवास्तव, प्रियंका शुक्ला, प्रतीक वासनिक, डॉ. नथमल झंवर, गणेश कछवाहा आदि उपस्थित रहे।

X
Bilaspur News - chhattisgarh news khurshid said a city which does not have its own history has no culture of its own
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना