अंतर विभागीय फुटबॉल प्रतियोगिता के खिताब पर मैकेनिकल ने जमाया कब्जा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्पोर्ट्स रिपोर्टर | बिलासपुर

रेलवे की अंतर विभागीय फुटबॉल प्रतियोगिता मैकेनिकल ने टाइब्रेकर से हुए निर्णय में 4-2 से जीत ली। खिताबी मुकाबले में आरपीएफ को हार का सामना करना पड़ा। प्रतियोगिता में मैन ऑफ द सीरिज का खिताब इलेक्ट्रिकल विभाग के जर्सी नंबर 6 सतीश मुंडा को 8 गोल करने पर दिया गया।

खिताबी मुकाबला रोमांचक रहा। मध्यांतर और उसके बाद तक दोनों टीमों ने लगातार गोल के लिए प्रयासरत रहीं, लेकिन सफलता किसी को नहीं मिली। मैच बिना गोल के समाप्त हुआ। मैच मेंे आशीष तिवारी, विशाल प्रजापति, पी.सुमन, रश्मि कैवर्त, शुभम गोस्वामी, पी. वर्षा रेफरी थे। वहीं मुख्य अतिथि एडीआरएम सौरव बंदोपाध्याय, वरिष्ठ खेल अधिकारी सौरिश मुखर्जी, सीनियर डीएमई ललित धुरंधर, एनईआई के कार्यकारी अध्यक्ष एवीएस नेहरू, मंडल समन्वयक वी. कृष्ण कुमार, सुरक्षा आयुक्त भवानी शंकर नाथ, एएससी एसके दास थे। इस दौरान एनईआई के सचिव जी. मधुबाबू, जीआर मोहन, पार्थो चटर्जी, डॉ. अजय सिंह, मुकेश घोरे, अमरनाथ सिंह, हेमंत परिहार, सानंद वस्त्रकार, राणा नंदी, संजय श्रीवास्तव, प्रमोद कसेर, सहित अन्य उपस्थित थे।

विजेता टीम मैकेनिकल अतिथियों से इनाम लेते हुए।

इन्होंने मारा गोल
मैकेनिकल ने टॉस जीतकर पहले किक लगाई। टीम के जर्सी नंबर 12 दीपांशु, जर्सी नंबर 2 सम्मुख राव, जर्सी नंबर 7 चिन्ना और जर्सी नंबर 1 गोल कीपर पार्थो डे गोल करने में सफल रहे। वहीं आरपीएफ की तरफ से जर्सी नंबर 11 दीपक और जर्सी नंबर 14 कृतेंद्र जहां गोलकर पाए वहीं जर्सी नंबर 10 संतोष और जर्सी नंबर 4 विजय चंद्रा असफल रहे।

टीम और खिलाड़ियों को मिला इनाम
मैकेनिकल विभाग को 7 हजार रुपए नगद और ट्रॉफी, आरपीएफ को 5 हजार रुपए और ट्रॉफी दी गई। वहीं फाइल मैच का मैन ऑफ द मैच मैकेनिकल के गोलकीपर पार्थो डे को, बेस्ट गोलकीपर आरपीएफ के आशीष तिग्गा को, बेस्ट डिफेंस आरपीएफ के राकेश राव को, बेस्ट मिडफील्डर मैकेनिकल के रमन सोमैया, बेस्ट डिसिप्लिन टीम पर्सनल को, सबसे वरिष्ठ खिलाड़ी मैकेनिकल के जर्सी नंबर 13 के.कृष्णा राव 58 वर्ष को दिया गया।

मैच देखने पहुंचे डॉक्टर लाहा

अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा निदेशक डॉ. एसके लाहा गंभीर रूप से बीमार चल रहे हैं। वे प|ी के साथ एंबुलेंस से मैच देखने पहुंचे। उन्होंने खिलाड़ियों को सम्मानित भी किया।

खबरें और भी हैं...