अधिकांश गांवों में पानी की समस्या पीएचई का पानी देने का दावा खोखला

Bilaspur News - इन दिनों बिलासपुर जिले में पानी की समस्या बनी हुई है। गांव हो या शहर सभी जगह पेयजल संकट गहराने लगा है। जिधर देखो उधर...

Jun 15, 2019, 06:25 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news most villages claim to give water water to phe
इन दिनों बिलासपुर जिले में पानी की समस्या बनी हुई है। गांव हो या शहर सभी जगह पेयजल संकट गहराने लगा है। जिधर देखो उधर पानी की किल्लत है और लोग बूंद-बूंद पानी के लिए परेशान होने लगे हैं। कुछ ऐसा ही हाल है तखतपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत बहतराई का है। यहां भी गर्मी शुरू होते ही पेयजल संकट गहराने लगा है। गांव में लगे हैंडपंपों से पानी कम निकलने लगा है। यहां का जल स्तर लगातार गिर रहा है।

गर्मी आते ही ग्राम पंचायत बहतराई एवं आदिवासी बाहुल्य आश्रित ग्राम में पानी की किल्लत शुरू हो जाती है। जैसे-जैसे तापमान में बढ़त हो रही है वैसे-वैसे जमीन में पानी का जलस्तर नीचे खिसकता चला जा रहा है। गांव में लगे हैंडपंप पानी का साथ छोड़ने लगे हैं। गांव में पेयजल की समस्या बढ़ती ही जा रही है। पानी मुहैया न होने के कारण लोग चैन की नींद भी नहीं सो पा रहे हैं। रात में जब भी लोगों की नींद खुलती है तो वह सीधे हैंडपंपों की ओर दौड़ लगाते हैं। वह यह नहीं देखते कि अभी रात कितनी बाकी है। उन्हें तो केवल पानी दिखाई देता है। गांव के मिडिल स्कूल और दैहानपारा मोहल्ले की स्थिति तो और भी खराब है। इस मोहल्ले के लोग तो केवल तालाब और नदी नालों के सहारे हैं।

गांवों में नल जल योजना ठप, जलस्तर भी घटा

बहतराई गांव में हालात दिन प्रतिदिन खराब होते जा रहे हैं। ग्रामीण रवि कौशिक ने बताया कि गांवों में कुछ वर्ष पूर्व नल जल योजना का निर्माण किया गया था, जो रख रखाब के अभाव में क्षतिग्रस्त पड़ी हुई है। सालों से नल जल योजना के बिछाए गए पाइप लाइन एवं बोर में डली विद्युत मोटर की मरम्मत नहीं कराए जाने से यह योजना ठप पड़ी हुई है। ग्राम पंचायत बहतराई के पूर्व उपसरपंच बिरज यादव और पंच संतोष यादव के अनुसार लोगों को मीलों दूर से पेयजल जल एवं अन्य कार्य करने के लिए पानी लाना पड़ रहा है। जिसमें उनका घंटों समय बर्बाद हो जाता है। क्षेत्रीय जनपद सदस्य दिनेश कौशिक ने बताया कि हम लोगों ने कई बार पीएचई विभाग को सूचित किया है, लेकिन वहां से कोई जवाब नहीं आया है। ग्राम सरपंच मथुरा सूर्यवंशी का कहना है कि जल स्तर नीचे चले जाने से हैंडपंप ठीक कराने के बाद भी पानी छोड़ देता है।

पीएचई ने किया था पानी का दावा, निकला खोखला

विभाग का पानी देने का दावा गांवों में खाेखला नजर आ रहा है। इस सम्बन्ध में जब ईई लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग बिलासपुर प्रशांत कतमल से फोन से संपर्क करने का प्रयास किया गया पर उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया। वहीं सब इंजीनियर साकेत का कहना है कि उन्हें ग्राम पंचायत बहतराई में पेयजल की समस्या की जानकारी नहीं है।

भास्कर संवाददाता | सकरी

इन दिनों बिलासपुर जिले में पानी की समस्या बनी हुई है। गांव हो या शहर सभी जगह पेयजल संकट गहराने लगा है। जिधर देखो उधर पानी की किल्लत है और लोग बूंद-बूंद पानी के लिए परेशान होने लगे हैं। कुछ ऐसा ही हाल है तखतपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत बहतराई का है। यहां भी गर्मी शुरू होते ही पेयजल संकट गहराने लगा है। गांव में लगे हैंडपंपों से पानी कम निकलने लगा है। यहां का जल स्तर लगातार गिर रहा है।

गर्मी आते ही ग्राम पंचायत बहतराई एवं आदिवासी बाहुल्य आश्रित ग्राम में पानी की किल्लत शुरू हो जाती है। जैसे-जैसे तापमान में बढ़त हो रही है वैसे-वैसे जमीन में पानी का जलस्तर नीचे खिसकता चला जा रहा है। गांव में लगे हैंडपंप पानी का साथ छोड़ने लगे हैं। गांव में पेयजल की समस्या बढ़ती ही जा रही है। पानी मुहैया न होने के कारण लोग चैन की नींद भी नहीं सो पा रहे हैं। रात में जब भी लोगों की नींद खुलती है तो वह सीधे हैंडपंपों की ओर दौड़ लगाते हैं। वह यह नहीं देखते कि अभी रात कितनी बाकी है। उन्हें तो केवल पानी दिखाई देता है। गांव के मिडिल स्कूल और दैहानपारा मोहल्ले की स्थिति तो और भी खराब है। इस मोहल्ले के लोग तो केवल तालाब और नदी नालों के सहारे हैं।

X
Bilaspur News - chhattisgarh news most villages claim to give water water to phe
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना