विकास के नाम पर कुछ नहीं, जनता बोली- कुप्रबंधन का शिकार हो गए हम, अब देखते हैं क्या होता है

Bilaspur News - सत्यवीर सिंह कुशवाह | बिलासपुर शहर का सीमा क्षेत्र बढ़ाए जाने को लेकर अभी हाल में ही जो परिसीमन हुआ उससे मंगला...

Oct 21, 2019, 06:46 AM IST
सत्यवीर सिंह कुशवाह | बिलासपुर

शहर का सीमा क्षेत्र बढ़ाए जाने को लेकर अभी हाल में ही जो परिसीमन हुआ उससे मंगला ग्राम पंचायत भी अछूती नहीं रह पाई। इस पंचायत का दायरा बहुत बढ़ा था इसलिए इसे चार टुकड़ों में बांट दिया गया। इन्हीं में से एक बना है, वार्ड 15 जिसका नाम विकास नगर रखा गया है। नए वार्ड बनाए जाने के बाद कौन सा हिस्सा किस वार्ड में गया इसकी स्थानीय निवासियों काे खास जानकारी नहीं है। बस इतना पता है कि अब वह जिस जगह रह रहे हैं वह ग्राम पंचायत का क्षेत्र नहीं बल्कि नगर निगम का हिस्सा है। कौन लड़ेगा कौन नहीं इस बात से भी फिलहाल कोई वास्ता नहीं रख रहा है। बस कहना है कि जो समस्याएं हैं वह दूर होनी चाहिए। ग्राम पंचायत मंगला जिसमें से वार्ड 15 बना है वहां भी समस्याएं शहर के आम क्षेत्रों जैसी ही हैं। सड़को का जर्जर होना, नालियों की सफाई न होना, घरों के आस-पास कचरा फैंका जाता है उसका महीनों तक नहीं उठाया जाना यहां की प्रमुख समस्याएं हैं।

पहले जानें अपना क्षेत्र

नए क्षेत्रों के पाठक वाट्सएप 8989217600 पर अपने सुझाव भेज सकते हैं।

ग्राम पंचायत मंगला से बना वार्ड 15, पिछले 31 वर्षों से है यहां भाजपा का दबदबा

विकास नगर में घरों के बाहर लगा कचरे का ढेर।

वार्डवासी सड़कों की खराब स्थिति, नाली की सफाई न होना तथा घर व मुख्य मार्गों पर कचरा इकट्‌ठा होने के कारण सबसे ज्यादा नाराज नजर आए। इनका कहना था कि सड़कें ऐसी बनाईं कि कुछ समय बाद ही खराब हो गईं। उस समय अगर किसी जिम्मेदार ने सड़क निर्माण के समय ध्यान दिया होता तो यह हालत नहीं होती। भाटिया रेजीडेंसी के ठीक सामने मिले आकाश वस्त्रकार का कहना था कि सड़क की हालत कैसी है यह आपके सामने ही दिख रहा है। यहां सड़क पर इतना गहरा गड्‌ढा था कि जरा सी भी आंख चूकने पर बड़ा हादसा सकता है। संजय वरैठ का कहना था कि कॉलोनियों से कचरा उठता ही नहीं है। सफाई के नाम पर कोई कार्यवाही नहीं। नालियों की सफाई नहीं की जाती। सड़कों की हालत पूरे क्षेत्र में खराब है। स्थानीय निवासियों का यह भी कहना था कि नगर निगम फिलहाल कोई काम करने को तैयार नहीं है।

वार्ड-15 विकास नगर की शुरुआत भाटिया रेजीडेंसी से होती है। इसमें शैल विहार, 27 खोली का नीचे का क्षेत्र होते हुए कुदूदंड रोड आजाद चौक, मिनेचा कॉलोनी के कुछ घर ग्रीन गार्डन कॉलोनी के कुछ घर, सिटी मॉल के पीछे के कुछ घर, गंगा नगर का कुछ हिस्सा, शांति नगर का कुछ हिस्सा शामिल किया गया है।

क्या कहते हैं लोग

माता चौरा मंदिर है प्रसिद्ध

ग्राम पंचायत मंगला की बात करें तो प्रसिद्ध स्थलों के नाम पर यहां बहुत कुछ था। लेकिन पंचायत के बंटवारे के बाद अब इस क्षेत्र के हिस्से में प्रसिद्ध स्थल के नाम पर माता चौरा मंदिर आया है। अब यही मंदिर इस क्षेत्र की पहचान बना है।

पिछड़ा वर्ग के खाते में गया वार्ड

मंगला क्षेत्र की बात करें तो यह बेलतरा विधानसभा क्षेत्र के तहत आती है। यहां से कांग्रेस के बीआर यादव आखिरी बार विधानसभा चुनाव जीते थे उसके बाद भाजपा प्रत्याशी ही यहां से जीतते रहे। लोकसभा की बात करें तो कांग्रेस की सीट कब आई थी यहां के स्थानीय नेताओं को भी पता नहीं है। सरपंच चुनाव में जरूर कांग्रेस ने बाजी मारी थी लेकिन अंदरूनी कलह के चलते ढाई वर्ष पहले सरपंची की कुर्सी छीन ली गई। इसके बाद सरपंच भाजपा के बने। वार्ड 15 की वर्तमान स्थिति देखें तो यह सीट अब पिछड़ा वर्ग के खाते में गई है। इसलिए क्षेत्र के कद्दावर नेता नगर निगम चुनाव से पीछे हट चुके हैं। हां यह प्रयास जरूर कर रहे हैं कि पार्षदी का चुनाव पिछड़ा वर्ग से जो भी लड़े वह उनके पाले से ही रहे। जिससे नाम उनका भी होता रहा। हालांकि चुनाव के लिए कांग्रेस व भाजपा दोनों ही दल के नेता ताल ठोक रहे हैं कि पार्षदी का चुनाव तो वह ही जीतेंगे। वहीं स्थानीय निवासियों का कहना था कि वह पहले यह देखेंगे कि प्रत्याशी कौन है इसके बाद ही मोहर लगेगी। एक बात और नगर निगम चुनाव की तारीखें घोषित नहीं हुई हैं, लेकिन चुनाव लड़ने के इच्छुक अभी से ही पूरी तरह से सक्रिय हो चुके हैं। इसलिए क्षेत्र में उठना-बैठना प्रारंभ कर दिया गया है।

खूब काम कराया है


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना