राजस्व अधिकारियों ने घेरा कलेक्टोरेट, कहा-एसडीओ विभाग की छवि धूमिल कर रहे

Bilaspur News - प्रशासनिक रिपोर्टर | बिलासपुर वन विभाग और एसडीओ के खिलाफ राजस्व अधिकारियों ने मोर्चा खोल दिया है। छत्तीसगढ़...

Jan 16, 2020, 06:50 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news revenue officials ghera collectorate said sdos are tarnishing the image of the department
प्रशासनिक रिपोर्टर | बिलासपुर

वन विभाग और एसडीओ के खिलाफ राजस्व अधिकारियों ने मोर्चा खोल दिया है। छत्तीसगढ़ कनिष्ठ प्रशासनिक सेवा संघ के बैनर तले जिले के तहसीलदार और नायब तहसीलदारों ने प्रशासन को बताया कि मूल बातों को एसडीओ विवेक चौरसिया न केवल छिपा रहे हैं। बल्कि अपने संगठन को धोखे में रखकर प्रशासनिक अधिकारियों की छवि को धूमिल भी कर रहे हैं। संघ के पदाधिकारियों ने लिखित में बताया यदि सकरी प्रशासनिक अधिकारी के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई होती है तो माना जाएगा कि चौरसिया के अहम की तुष्टि की जा रही है।

बुधवार को संघ के बैनर तले कनिष्ठ प्रशासनिक संघ के पदाधिकारी कलेक्टोरेट पहुंचे। उन्होंने लिखित में शिकायत कर बताया कि चौरसिया ने जांच कार्यवाही में किसी तरह का सहयोग न करते हुए अनावश्यक विवाद व शासकीय कार्य में बाधा डाली गई। इसकी वजह से यह परिस्थिति निर्मित हुई और कार्यपालिक दंडाधिकारी को मोटरयान अधिनियम के तहत कार्यवाही करनी पड़ी। इस कार्यवाही में राजस्व अधिकारी-कर्मचारी का कोई पूर्वाग्रह नहीं था। वरन एक शिक्षित व वरिष्ठ अधिकारी होने के नाते चौरसिया से सर्वाधिक सहयोग की अपेक्षा थी। चौरसिया द्वारा अपने निजी मामले को अनावश्यक रूप से बढ़ाते हुए पूरे राजस्व विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों पर अनावश्यक रूप से प्रश्न चिह्न अंकित किया गया है। अपने निजी स्वार्थ और अहम की सिद्धि के लिए पूरे वन विभाग के अधिकारियों-कर्मचारयों को अपने दुष्प्रचार में शामिल कर परिस्थितियों को जानबूझकर खराब किया जा रहा है। चौरसिया द्वारा न केवल प्रशासनिक रूप से गलत बयानबाजी की जा रही है बल्कि बार-बार मीडिया में भी पूरे घटनाक्रम को गलत व एकपक्षीय तरीके से प्रस्तुत किया जा रहा है। साथ ही उच्च अधिकारियों के समक्ष राजस्व अधिकारियों के विरुद्ध कार्यवाही के लिए अनुचित रूप से दबाव बनाया जा रहा है। वे अपनी गलती छिपाते हुए राजस्व विभाग की छवि धूमिल कर रहे हैं अधिकारियों-कर्मचारियों ने चौरसिया के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही की मांग की। आवेदन करने वालों में एसडीएम कोटा आनंद रूप तिवारी सहित तहसीलदार, आरआई, पटवारी व कोटवार शामिल हैं। बता दें कि हाल ही में कानन पेंडारी चिड़ियाघर में महज वॉशरूम को लेकर दो प्रशासनिक अफसरों के बीच विवाद हो गया था।

कनिष्ठ प्रशासनिक संघ के पदाधिकारियों ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन।

प्रशासनिक रिपोर्टर | बिलासपुर

वन विभाग और एसडीओ के खिलाफ राजस्व अधिकारियों ने मोर्चा खोल दिया है। छत्तीसगढ़ कनिष्ठ प्रशासनिक सेवा संघ के बैनर तले जिले के तहसीलदार और नायब तहसीलदारों ने प्रशासन को बताया कि मूल बातों को एसडीओ विवेक चौरसिया न केवल छिपा रहे हैं। बल्कि अपने संगठन को धोखे में रखकर प्रशासनिक अधिकारियों की छवि को धूमिल भी कर रहे हैं। संघ के पदाधिकारियों ने लिखित में बताया यदि सकरी प्रशासनिक अधिकारी के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई होती है तो माना जाएगा कि चौरसिया के अहम की तुष्टि की जा रही है।

बुधवार को संघ के बैनर तले कनिष्ठ प्रशासनिक संघ के पदाधिकारी कलेक्टोरेट पहुंचे। उन्होंने लिखित में शिकायत कर बताया कि चौरसिया ने जांच कार्यवाही में किसी तरह का सहयोग न करते हुए अनावश्यक विवाद व शासकीय कार्य में बाधा डाली गई। इसकी वजह से यह परिस्थिति निर्मित हुई और कार्यपालिक दंडाधिकारी को मोटरयान अधिनियम के तहत कार्यवाही करनी पड़ी। इस कार्यवाही में राजस्व अधिकारी-कर्मचारी का कोई पूर्वाग्रह नहीं था। वरन एक शिक्षित व वरिष्ठ अधिकारी होने के नाते चौरसिया से सर्वाधिक सहयोग की अपेक्षा थी। चौरसिया द्वारा अपने निजी मामले को अनावश्यक रूप से बढ़ाते हुए पूरे राजस्व विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों पर अनावश्यक रूप से प्रश्न चिह्न अंकित किया गया है। अपने निजी स्वार्थ और अहम की सिद्धि के लिए पूरे वन विभाग के अधिकारियों-कर्मचारयों को अपने दुष्प्रचार में शामिल कर परिस्थितियों को जानबूझकर खराब किया जा रहा है। चौरसिया द्वारा न केवल प्रशासनिक रूप से गलत बयानबाजी की जा रही है बल्कि बार-बार मीडिया में भी पूरे घटनाक्रम को गलत व एकपक्षीय तरीके से प्रस्तुत किया जा रहा है। साथ ही उच्च अधिकारियों के समक्ष राजस्व अधिकारियों के विरुद्ध कार्यवाही के लिए अनुचित रूप से दबाव बनाया जा रहा है। वे अपनी गलती छिपाते हुए राजस्व विभाग की छवि धूमिल कर रहे हैं अधिकारियों-कर्मचारियों ने चौरसिया के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही की मांग की। आवेदन करने वालों में एसडीएम कोटा आनंद रूप तिवारी सहित तहसीलदार, आरआई, पटवारी व कोटवार शामिल हैं। बता दें कि हाल ही में कानन पेंडारी चिड़ियाघर में महज वॉशरूम को लेकर दो प्रशासनिक अफसरों के बीच विवाद हो गया था।

X
Bilaspur News - chhattisgarh news revenue officials ghera collectorate said sdos are tarnishing the image of the department
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना