• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • Bilaspur News chhattisgarh news sanitation scandal due to fake presence the mosquito enhanced mosquito in the drainage of the city larva control

सफाई घोटाला: फर्जी हाजिरी के चलते जाम हुए शहर के नाले, लार्वा कंट्रोल में भ्रष्टाचार से बढ़े मच्छर

Bilaspur News - सूर्यकान्त चतुर्वेदी | बिलासपुर 30.42 किलोमीटर की परिधि में फैले शहर में करीब 400 किलोमीटर लंबे नाले, नालियां हैं।...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 02:20 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news sanitation scandal due to fake presence the mosquito enhanced mosquito in the drainage of the city larva control
सूर्यकान्त चतुर्वेदी | बिलासपुर

30.42 किलोमीटर की परिधि में फैले शहर में करीब 400 किलोमीटर लंबे नाले, नालियां हैं। इनकी सफाई के लिए निगम के सफाई कर्मियों के अतिरिक्त 220 के करीब ठेका श्रमिक कार्य करते हैं। दैनिक वेतनभोगी 44 और 96 टास्क कर्मचारी कार्यरत हैं। कुल 300 कर्मचारियों को नाले, नालियों की सफाई के लिए रखा गया है। प्रत्येक वार्ड में तकरीबन 5-6 कर्मचारी हैं, इसके बावजूद यदि वार्ड में मच्छरों की समस्या बेकाबू हो गई है, तो इसका सीधा अर्थ है कि कर्मियों की फर्जी हाजिरी भरी जा रही है।

‘दैनिक भास्कर’ ने मच्छरों की समस्या के बारे में खबरों के प्रकाशन की सीरिज शुरू की तो नगर निगम कमिश्नर ने विशेष सफाई अभियान शुरू किया। ‘हमर बिलासपुर सुघ्घर बिलासपुर’ के अंतर्गत वार्डों में नाली सफाई के दौरान कर्मचारियों की उपस्थिति आश्चर्यजनक ढंग से घट गई। इससे साफ जाहिर है कि अब तक कर्मचारियों की फर्जी हाजिरी भरी जा रही थी। अभियान के पहले दिन 136, दूसरे दिन 84 और तीसरे दिन बुधवार को 63 कर्मचारी नदारद मिले। प्रशासन की सख्ती के बाद अब गायब रहने वाले कर्मचारियों की संख्या घट रही है और उपस्थिति बढ़ने लगी है।

शहर में करीब 400 किलोमीटर लंबे नाले और नालियां हैं

निगम का सफाई अभियान तेज हो गया है।

लार्वा कंट्रोल कागजों में

लापरवाही और मनमानी की इसे हद ही कहा जाएगा कि सफाई व्यवस्था में करोड़ों खर्च किए जा रहे हैं। वहीं लार्वा कंट्रोल के नाम पर नालियों में टैमीफॉस नामक दवा के छिड़काव का दावा किया जा रहा है। साल भर में इस पर करीब 18 लाख रुपए खर्च किए जा रहे हैं। आरोप है कि लार्वा कंट्रोल के नाम पर वार्ड में जब दवा का छिड़काव करने के लिए कर्मचारी जाता है, सेनेटरी इंस्पेक्टर या नीचे के कर्मचारी नदारद रहते हैं। ऐसे में दवा का छिड़काव कितने प्रमाणिक ढंग से किया जाता होगा? इसे समझा जा सकता है।

मगरपारा रोड में जाम नाली।

निगम का दावा: वार्डों में 11513 मीटर नालियां साफ हुईं

निगम के अभियान के अंतर्गत बुधवार को 434 सफाई कर्मचारियों में से 63 कर्मचारी अनुपस्थित रहे। इसमें सर्वाधिक 23 कर्मचारी नियमित हैं। सुबह से ही दोपहर तक सभी वार्डों सड़क, नाला-नाली की सफाई के साथ डंप कचरा व मलबा उठवाया गया। वार्ड क्रमांक 1 से 10 तक में 1280 मीटर , वार्ड क्रमांक 11 से 20 तक में 1440 मीटर, वार्ड क्रमांक 21 से 30 तक में 2280, वार्ड क्रमांक 31 से 40 में 3000 मीटर, वार्ड क्रमांक 41 से 50 में 2013 मीटर और वार्ड क्रमांक 51 से 59 तक में 1800 मीटर कुल 11513 मीटर नाले व नालियों की सफाई की गई तथा 25 डंपर मलबा निकाला गया।

जानिए मच्छरों के लार्वा पनपाने वाले व नाले, नालियों की सफाई ठप के कारण

1.इंदू चौक से अग्रसेन चौक से पुराने बस स्टैंड तक सड़क के दोनों ओर के नाले, नालियों को देखें, निकासी ठप है। सफाई हो नहीं रही है और नालियों का लेवल भी गड़बड़ है। ऐसा अधिकांश स्थानों पर देखने को मिलेगा।

2.सफाई कर्मचारियों और टास्क व दैनिक वेतन पर कार्य कर रहे कर्मचारियों की फर्जी हाजिरी भरी जा रही। स्वच्छता सर्वे के बाद सेनेटरी इंस्पेक्टर और ऊपर के अधिकारी गहरी नींद में हैं।

3.वार्डों की सफाई का ठेका बंद हो जाने के बाद नाले, नालियों की सफाई निगम के सफाई विभाग तथा टास्क व दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों से कराने की योजना थी, परंतु पुराने ठेकेदार अपने पुनर्वास के लिए नाले, नालियों की सफाई होने नहीं दे रहे हैं। इसमें सफाई विभाग भी शामिल है। मिलजुल कर नाली सफाई के लिए चौथा ठेका कराने की तैयारियां चल रही है।

4.बारिश सर पर है, परंतु जवाली नाले से लेकर छोटे बड़े नाले, नालियों की निकासी दुरुस्त करने पर कोई ध्यान नहीं है। जगह जगह पानी भरा है, जिससे मच्छर पनप रहे हैं।

5.मच्छरों पर नियंत्रण की ईमानदार कोशिश नहीं होने के कारण मच्छरों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ गई है और इसी वजह से लार्वा कंट्रोल तथा मच्छरों से बचाव के क्वाइल व अन्य दवाएं कारगर नहीं हो पा रही हैं।

X
Bilaspur News - chhattisgarh news sanitation scandal due to fake presence the mosquito enhanced mosquito in the drainage of the city larva control
COMMENT