आंदोलनकारियों ने कहा- लड़ाई का उद्देश्य अभी अधूरा है

Bilaspur News - दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर जोन की स्थापना के लिए 24 साल पहले लड़ी गई लड़ाई को याद करके आंदोलनकारी तरोताजा हो गए।...

Jan 16, 2020, 06:26 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news the agitators said the purpose of the fight is still incomplete
दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर जोन की स्थापना के लिए 24 साल पहले लड़ी गई लड़ाई को याद करके आंदोलनकारी तरोताजा हो गए। ऐतिहासिक आंदोलन और जेल यात्रियों के सम्मान में आयोजित धरना-प्रदर्शन को संबोधित करते हुए सभी लोगों ने कहा कि जिस उद्देश्य को लेकर आंदोलन चलाया गया था वे पूरा नहीं हो रहे हैं।

छात्र युवा जोन संघर्ष समिति के बैनर तले रेल जोन महाप्रबंधक कार्यालय के सामने 15 जनवरी 1996 के ऐतिहासिक आंदोलन की याद में आंदोलनकारियों और जेल यात्रियों के सम्मान में दो घंटे धरना-प्रदर्शन किया गया। अध्यक्षता जोन आंदोलनकारी रहे महेश दुबे ने की। बेनी गुप्ता ने कहा कि जोन जनता के अपेक्षाओं पर खरा नहीं उतर रहा है। जिन उद्देश्यों को लेकर जोन की लडाई लड़ी गई थी वे अभी भी अधूरी हैं। वहीं राकेश शर्मा ने कहा कि जमीन कोयला प्रदूषण सब कुछ हमारा है और सुविधा अधिकारियों को मिल रही है। रेलवे अस्पताल जोन स्तर का नहीं है। विवेक बाजपेयी ने 13, 14 व 15 जनवरी 1996 को घटी घटनाओं का वर्णन किया। नसीम खान, बंटी खान, केशव गोरख ने भी संस्मरण सुनाए। सुदीप श्रीवास्तव ने पूरे आंदोलन के घटनाक्रमों का तिथि व वर्ष वार ब्याेरा दिया। इस अवसर पर महापौर रामशरण यादव के साथ पार्षद अब्दुल खान, श्याम पटेल, परदेसी राज भी उपस्थित थे। महापौर रामशरण यादव ने भी जोन आंदोलन में भाग लिया था। कार्यक्रम के संयोजक एवं संचालन कर्ता सदस्य अभय नारायण राय ने बताया कि उक्त आंदोलन रेलवे के अधिकारियों और शासन-प्रशासन को याद दिलाने के लिए किया गया कि जोन का निर्माण कैसे हुआ? उन्होंने बताया कि बहुत जल्द सुदीप श्रीवास्तव के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल जोन महाप्रबंधक से मुलाकात कर मांगों का ज्ञापन सौंपेगा।

जेल यात्रियों के सम्मान में आयोजित धरना-प्रदर्शन में शामिल लोग।

अब बारी हवाई सेवा की

महेष दुबे ने रेलवे जोन आंदोलन की बात करते हुए यह भी कि शहर में एक और आंदोलन 82 दिन से हवाई सेवा के लिए चल रहा है । रेलवे जोन आंदोलन की तरह परिस्थितियां उत्पन्न होने लगी है लोगाें का आक्रोश बढ़ रहा है। शासन- प्रशासन ध्यान नहीं देगा तो कोई बड़ी बात नहीं कि जोन आंदोलन का इतिहास पुनः दोहरा लिया जाए।

दिवंगत साथियों को याद किया

रेलवे जोन आंदोलन में शामिल रहे स्वर्गीय अप्पल नायडू, स्वर्गीय कुंदन सिंह और स्वर्गीय चरणपाल को भी याद किया गया।

X
Bilaspur News - chhattisgarh news the agitators said the purpose of the fight is still incomplete
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना