इनका काम बच्चों को पढ़ाना है पर बिल्हा बीईओ कार्यालय में दिन काट रहे शिक्षक

Bilaspur News - सरकार ने शिक्षकों को पढ़ाने की जिम्मेदारी दी है लेकिन जुगाड़ के दम पर उन्होंने आरामदायक काम ले रखा है जिसमें काम न के...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 06:41 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news their job is to teach children but the teachers are spending the day in bilha beo office
सरकार ने शिक्षकों को पढ़ाने की जिम्मेदारी दी है लेकिन जुगाड़ के दम पर उन्होंने आरामदायक काम ले रखा है जिसमें काम न के बराबर या है ही नहीं। बिल्हा ब्लॉक के 9 शिक्षक तो ऐसे ही हैं। जिम्मेदार भी इनका कुछ नहीं कर पा रहे हैं। काम न करना पड़े इसलिए इनमें से 6 ने बिल्हा बीईओ कार्यालय में अपनी ड्यूटी लगवा रखी है। जिम्मेदारों को सब पता है। बावजूद ये शिक्षक सालों से जमे हैं। बच्चों के भविष्य की चिंता न जिम्मेदारों को है और न ही इन शिक्षकों को। शिकायतें मिलने के बाद भी अफसर कुछ नहीं कर रहे हैं।



राजेश सिंह: रिलीव आदेश आया फिर भी नहीं गए स्कूल नाम: राजेश सिंह ठाकुर

स्कूल: प्राथमिक शाला मुरुमखदान खमतराई:

मुख्यमंत्री शहरी साक्षरता में अटैच हैं। पहले ही रिलीव आदेश आया पर स्कूल नहीं गए। राजेश ने कहा कि मुझे कलेक्टर के द्वारा भेजा गया है।

अफसरों के पीए भी हैं शिक्षक

रविकांत दिवाकर: पढ़ाने की जगह फॉर्म की एंट्री : नाम: रविकांत दिवाकर

स्कूल: प्राथमिक शाला लिमतरी के बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी दी गई है। लेकिन बिल्हा बीईओ दफ्तर तिलकनगर में सालों से जमे हैं। वर्तमान में कार्मिक संपदा फॉर्म की एंट्री कर रहे हैं।

जितेंद्र शुक्ला, स्कूल: प्राथमिक शाला सेमरा, वर्तमान: बीईओ दफ्तर में हैं। ये स्थाई नहीं हैं।

विकास लहरे: बीईओ दफ्तर में लगा रहे सील : विकास लहरे को प्राथमिक शाला धूमा महमंद के बच्चों को पढ़ाने की जिम्मा दिया गया है पर वे बिल्हा ब्लॉक के बीईओ दफ्तर में े सर्विस बुक संधारण में सील लगा रहे हैं। विकास का कहना है कि अभी ऑफिस में कार्मिक काम था इसलिए मुझे बुलाया गया था।

धनंजय कर्ष : पढ़ाने की बजाय चला रहे कम्प्यूटर : धनंजय कर्ष बिल्हा बीईओ के दफ्तर में कंप्यूटर में कार्य कर रहे हैं। इन्हें प्राथमिक शाला दो मुहानी के बच्चों को पढ़ाना चाहिए। सालों से ये जमे हैं। धनंजय का कहना है कि संविलियन के काम के लिए दफ्तर में संलग्न किया था।

इंद्रासन क्षत्री, स्कूल: धनुहारापा चिल्हाटी, वर्तमान: बीईओ दफ्तर में बैठे रहते हैं।

गुहाराम सूर्यवंशी : फोन उठाया, बात सुनी और काट दिया

गुहाराम सूर्यवंशी भी बीईओ दफ्तर में जमे हैं। इन दिनों कंप्यूटर में कार्य कर रहे हैं। सालों से यहीं हैं। इन्हें प्राथमिक शाला पौसरा के बच्चों को पढ़ाने का जिम्मा दिया है लेकिन ये स्कूल जाते ही नहीं। इन्होंने फोन उठाया। जैसे ही इस बारे में पूछा गया काट दिए फिर नहीं उठाया।

लक्ष्मण धुरी: सालों से नहीं देखा स्कूल का मुंह : लक्ष्मण धुरी भी बिल्हा बीईओ दफ्तर में बैठे हैं। इन दिनों कंप्यूटर से संबधित कार्य कर रहे हैं। सालों से स्कूल का मुंह नहीं देखा है। जबकि इन्हें प्राथमिक शाला बन्नाकडीह के बच्चों के भविष्य बनाने की जिम्मेदारी सरकार ने दी है।

बलभद्र वर्मा, स्कूल: धुरीपारा मंगला, वर्तमान: जिपं अध्यक्ष साहू के पीए हैं।

  पीएस बेदी, बीईओ बिल्हा


कंप्यूटर के जानकार हैं इसलिए बुलाया गया था। अब रिलीव कर देंगे।


हां,अब कंप्यूटर से संबधित काम खत्म हो गया है जल्द रिलीव कर देंगे।


पहले का मुझे नहीं पता। दो महीने पहले ही मैंने इन्हें बुलाया था।


इनके स्कूल में टीचर पर्याप्त हैं। कमी नहीं है।

अब रिलीव कर देंगे

X
Bilaspur News - chhattisgarh news their job is to teach children but the teachers are spending the day in bilha beo office
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना