उत्तरायण हुए सूर्य... लोगों ने पूजा व दान में बिताया दिन, बच्चों ने खूब उड़ाई पतंगें

Bilaspur News - शोभन योग के शुभ संयोग में बुधवार को मकर संक्रांति का पर्व श्रद्धा, आस्था और भक्ति के साथ मनाया गया। शहर में लोगों ने...

Jan 16, 2020, 06:50 AM IST
Bilaspur News - chhattisgarh news uttarayan sun people spent the day in worship and charity
शोभन योग के शुभ संयोग में बुधवार को मकर संक्रांति का पर्व श्रद्धा, आस्था और भक्ति के साथ मनाया गया। शहर में लोगों ने पूजा और दान-पुण्य में दिन बिताया। इसके पहले लोगों ने नदी-तालाबों, घरों में स्नान किया क्योंकि इस बार पुण्यकाल सुबह 8.30 बजे तक ही था। लोगों ने सूर्यदेव की आराधना कर उन्हें अर्घ्य दिया। इसके बाद तिल-गुड़, खिचड़ी व वस्त्र आदि के दान का सिलसिला शुरू हुआ, जो शाम तक जारी रहा। शहर के वेंकटेश मंदिर, खाटू श्याम मंदिर, राम मंदिर समेत कई मंदिरों में लोग देर रात तक दर्शन के लिए पहुंचते रहे। संस्थाओं ने अनाथालयों और वृद्धाश्रमों में लड्डू व वस्त्र बांटे। बच्चों ने छतों से खूब पतंगे उड़ाई।

वेंकटेश मंदिर में गोदाम्बा विदाई उत्सव मना

वेंकटेश मंदिर मे श्री वैष्णव संप्रदाय के एक माह तक चलने वाले श्री गोदाम्बा महोत्सव का मकर संक्रांति के दिन श्री गोदाम्बा की विदाई के साथ समापन हो गया। भगवान श्री रंगनाथ और देवी गोदाम्बा जी का श्रृंगार करने के बाद महाआरती की गई। वैदिक वेद मंत्रों से स्त्रोत पाठ, गोदाम्बा जी के सहस्त्र नामों के द्वारा तुलसी अर्चना कर गोदाम्बा जी की विधि-विधान से विदाई की गई। भक्तों को फूलहरा, खीरान्न, पोंगल और विशेष रूप से तिल से बने लड्डू का प्रसाद दिया गया। मंदिर के डॉ. कौशलेंद्र प्रपन्नाचार्य ने गोदाम्बा की कथा का सुनाते हुए कहा कि भगवान का इस धरा धाम में आने का एक मात्र उद्देश्य है कि सभी जीवों का कल्याण, मानव जीवन को धन्य बनाना है।

मकर संक्रांति पर डीपी विप्र के स्वयंसेवकों ने बांटी पतंग

डीपी विप्र कॉलेज के राष्ट्रीय सेवा योजना और एक भारत श्रेष्ठ भारत क्लब द्वारा भारत सरकार द्वारा आदेशित कार्यक्रम एक भारत श्रेष्ठ भारत के अंतर्गत मकर संक्रांति का पर्व मनाया गया। बच्चों को तिल के लड्‌डू और पतंग बांटे। डॉ. अंजू शुक्ला और डॉ. संजय तिवारी के मार्गदर्शन में प्रो. रीना ताम्रकार, यूपेश कुमार ने स्वयंसेवकों का उत्साहवर्धन किया।

झांकी के साथ निकाली गई शोभायात्रा, परंपरानुसार मनाया गया त्योहार

मकर संक्रांति पर शाम को अज्ञेय नगर स्थित शिव मंदिर से भगवान अय्यप्पा की आकर्षक झांकी के साथ सोमवार को खुशी के साथ शोभायात्रा निकाली गई। गाजे-बाजे के साथ निकाली गई शोभायात्रा में एक ओर जहां पुरुष श्रद्धालु मशाल नुमा दीप लेकर चल रहे थे, तो श्वेत वस्त्र धारण किए महिला श्रद्धालु भी पूजा की थाल में जलता दीप लेकर चल रही थीं। भारतीय नगर अय्यप्पा मंदिर पहुंचकर शोभायात्रा समाप्त हुई। यहां पर विधि-विधान से दीप आराधना करते हुए मंदिर की 18 सीढिय़ों को दीपों से सजाया गया और विधि-विधान से भगवान अय्यप्पा की पूजा-आरती की गई। इसके साथ ही मंदिर में शाम को दीपाराधना, दीपालंकरम, भजन, अथाष पूजा, प्रसाद वितरण के बाद रात को हरिवासनम पूजा की गई। इस अवसर पर श्री अय्यप्पा सेवा समिति के पदाधिकारी व अन्य लोग मौजूद रहे। मंदिर में मकर विलक्कू महोत्सव उत्साह से मनाया गया।

अरपा अर्पण अभियान ने शुरू की नेकी की दीवार

अरपा अर्पण महाअभियान ने मकर संक्रांति के अवसर पर बघवा शिव मंदिर के सामने नेकी की दीवार शुरू की। पार्षद पुष्पा तिवारी ने पूजा-अर्चना के साथ दीवार की शुरूआत की। नेकी की दीवार में मोहल्ले के लोग अपने पुराने और दूसरों के काम आने वाली सामग्री कपड़े, पुस्तक, बर्तन, खिलौने रख सकते हैं। यहां से जरूरतमंद लोग उसे ले सकते हैं।

वनवासी विकास समिति ने 20 जगह से दान जुटाया

वनवासी विकास समिति ने शहर के 20 स्थानों में स्टॉल लगाकर दान सामग्री जुटाई। इस सामग्री का उपयोग वनवासी विकास समिति द्वारा संचालित 28 छात्रावासों और वनवासी समाज के लोगों की मदद में किया जाएगा। समिति के द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में निशुल्क कोचिंग, स्वास्थ्य के क्षेत्र में 6 चिकित्सा केंद्र, स्वावलंबन के लिए स्व सहायता समूह, हितरक्षा के लिए विधिक की जानकारी और वनवासियों में श्रद्धा जागरण के लिए रीति-रिवाज बताए जा रहे।

नए संस्कारों की क्रांति है मकर संक्राति: मंजू दीदी

जिस प्रकार भक्ति में पुरुषोत्तम महीने में दान-पुण्य का महत्व होता है उसी प्रकार कलियुग अंत और सतयुग के प्रारंभ के समय पुरुषोत्तम संगम युग में ज्ञान-स्नान करके बुराइयों का दान व पुण्य कर्मों का खाता जमा करके हर व्यक्ति उत्तम पुरूष बन सकता है। मकर संक्रांति का पर्व परिवर्तन का क्षण होता है। मकर संक्रांति के दिन तिल का दान किया जाता है। तिल सफेद व काले रंग का होता है जो हमारे जीवन में आने वाले सकारात्मक व नकारात्मक परिस्थितियों को दर्शाता है। हर क्रांति के पीछे बदलाव का ही उद्देश्य होता है। संस्कारों की इस क्रांति से आने वाली स्वर्णिम दुनिया में सुख-शांति-समृद्धि की कोई कमी नहीं होगी। यह बातें मकर संक्रांति पर्व के अवसर पर सेवाकेंद्र प्रभारी ब्रकु मंजू दीदी ने कही।

संस्कार परिवर्तन में क्रांति लाने का पर्व संक्रांति: स्वाति

संस्कार परिवर्तन में क्रांति लाने का पर्व संक्रांति है। भारतीय संस्कृति में मकर संक्रांति का पर्व अनेक आध्यात्मिक रहस्यों से परिपूर्ण है। यह पोंगल, ओणम, लोहड़ी आदि नामों से खुशियों का पर्व मनाया जाता है। यह बातें तिलकनगर में मकर संक्रांति के कार्यक्रम में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की शाखा टेलीफोन एक्सचेंज रोड स्थित राजयोग केंद्र संचालिका ब्रकु स्वाति दीदी ने कही। लड्डू खाने खिलाने का भाव यह है कि किसी के साथ वैर विरोध और बीती हुई कड़वी बातों को भुलाकर संबंधों को मधुर और मिठास से भरपूर बनाना है। कहावत भी है गुड़ ना दो, गुड़ जैसी मीठी बात तो करो। इस अवसर पर अनेक लोग मौजूद रहे।

पतंगों से श्रृंगार

पतंग और मौली धागे से सजे बाबा श्याम

मकर संक्रांति के अवसर पर शहरभर के मंदिरों में कार्यक्रम हुए। घोंघा बाबा मंदिर में मकर संक्रांति पर्व पर अद्भुत श्रृंगार दर्शन बाबा श्याम का किया गया। बिलासपुर धाम स्थित श्री खाटू श्याम मंदिर में पर्व को भक्तिमय तरीके से मनाया गया। प्रभु श्याम का पतंगों के साथ ही 41 किलो मौली की मालाओं से श्रृंगार किया गया। मंदिर में दोपहर 12 बजे प्रभु को खिचड़ी का सवामणी भोग अर्पित करके प्रसाद में बांटा गया।

Bilaspur News - chhattisgarh news uttarayan sun people spent the day in worship and charity
Bilaspur News - chhattisgarh news uttarayan sun people spent the day in worship and charity
Bilaspur News - chhattisgarh news uttarayan sun people spent the day in worship and charity
Bilaspur News - chhattisgarh news uttarayan sun people spent the day in worship and charity
X
Bilaspur News - chhattisgarh news uttarayan sun people spent the day in worship and charity
Bilaspur News - chhattisgarh news uttarayan sun people spent the day in worship and charity
Bilaspur News - chhattisgarh news uttarayan sun people spent the day in worship and charity
Bilaspur News - chhattisgarh news uttarayan sun people spent the day in worship and charity
Bilaspur News - chhattisgarh news uttarayan sun people spent the day in worship and charity
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना