पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कांग्रेस राज्य में भाजपा पर जोड़-तोड़ का आरोप लगा रही

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
2013 में कांग्रेस को 45% और भाजपा को 0.37% वोट मिले थे, पर साल भर में कांग्रेस के 5 बड़े नेता पार्टी छोड़कर भाजपा में चले गए हैं
कांग्रेस राज्य में भाजपा पर जोड़-तोड़ का आरोप लगा रही
एडम सप्रिनसान्गा | आइजोल

28 नवंबर को मिजोरम में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान है। 40 सीट के लिए 8 राजनीतिक पार्टियों के 209 कैंडिडेट मैदान में हैं। इनमें सत्ताधारी कांग्रेस और मुख्य विपक्षी पार्टी मिजो नेशनल फ्रंट के सबसे ज्यादा 40-40, भाजपा के 39, नेशनल पीपुल्स पार्टी के 9 और नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के 5 प्रत्याशी हैं। जो 8 दल चुनाव लड़ रहे हैं, उनमें से सिर्फ कांग्रेस (34 विधायक), एमएनएफ (5 विधायक) और मिजोरम पीपुल्स कॉन्फ्रेंस (अब जोराम पीपुल्स मूवमेंट का हिस्सा) ही ऐसी हैं, जिनके पास मौजूदा विधानसभा में सीटें हैं। 2013 के चुनाव में कांग्रेस को 45%, एमएनएफ को 28% वोट मिले थे। जोराम पीपुल्स मूवमेंट(जेडपीएम) 7 क्षेत्रीय दलों को मिलाकर बनी है। इनमें से 2 दल ही ऐसे हैं, जिन्होंने 2013 में चुनाव लड़ा था। तब एमपीसी को 6% और जोराम नेशनलिस्ट पार्टी को 17% वोट मिले थे। जेडएनपी अध्यक्ष लालदुहावमा ही पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं। खास बात है कि 2013 में भाजपा को राज्य में महज 0.37% वोट मिले थे। ये भाजपा का राज्य में सबसे कम वोट शेयर है। भाजपा यहां 1993 से चुनाव लड़ रही है। हालांकि भाजपा इस बार कांग्रेस को कड़ी टक्कर दे रही है।

दरअसल, राज्य में चुनाव से पहले जोड़-तोड़ की राजनीति सितंबर से ही शुरू हो गई थी, जब राज्य कांग्रेस उपाध्यक्ष और गृहमंत्री आर ललजिरलियाना और कैबिनेट मंत्री ललरिनलियाना साइलो ने एमएनएफ जॉइन कर ली। इसके बाद कांग्रेस से पूर्व मंत्री डॉ. बुद्धा धन चकमा और विधानसभा स्पीकर हिफेई भाजपा में चले गए। हिफेई 1970 से कांग्रेस के सदस्य थे। पूर्व संसदीय सचिव हमिंगडेलोवा खियांगटे ने भी कांग्रेस छोड़कर एनपीपी जॉइन कर ली। इनके अलावा भी कांग्रेस से ताबड़तोड़ इस्तीफे हुए हैं, इससे इस बार भाजपा और अन्य क्षेत्रीय दलों का आत्मविश्वास सातवें आसमान पर है।

राज्य की 3 बड़ी पार्टियां- कांग्रेस, एमएनएफ और जेडपीएम एक-दूसरे पर चुनाव से पहले ही गठजोड़ करने का आरोप लगा रही हैं। वहीं, भाजपा पर उसके हिंदुत्व के एजेंडे को लेकर निशाना साधा जा रहा है। इसकी वजह यह है कि राज्य में 90% आबादी क्रिश्चियन है। कांग्रेस का आरोप है कि एमएनएफ, भाजपा के नेतृत्व वाले नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस(नेडा) का हिस्सा है। ऐसे में भाजपा चुनाव से पहले ही नेडा सदस्यों के साथ सरकार बनाने के लिए जोड़-तोड़ कर रही है। यानी कुल मिलाकर यहां भाजपा का फियर फैक्टर काम करता दिख रहा है।

इस बीच गृह सचिव को चुनाव आयोग की तरफ से हटाया जाना विवाद का भी कारण बना। गृह सचिव पर चुनाव में हस्तक्षेप करने का आरोप था। इसके बाद मीजो एनजीओ ने आरोप लगाया कि चुनाव आयोग ब्रू जनजाति के लोगों को मतदान से दूर रखना चाहता है। ब्रू जनजाति का लंबा इतिहास है। इन्होंने 1997-98 में बड़े विवाद के बाद मिजोरम छोड़ दिया था। तब से राहत कैंपों में रह रहे हैं। चुनावों में पोस्टल बैलेट के जरिए मतदान करते हैं। कैंपों में ब्रू जनजाति के करीब 32 हजार लोग हैं। इनमें करीब 11 हजार वोटर हैं। मीजो एनजीओ की मांग है कि इन्हें मिजोरम आकर मतदान करने की अनुमति दी जाए।

मतदाताओं की बात करें तो मिजोरम में 7.68 लाख वोटर हैं। इनमें 3.93 लाख महिला और 3.74 लाख पुरुष वोटर हैं। हालांकि महिला प्रत्याशी महज 15 ही मैदान में हैं। मिजोरम की कुल 40 सीटों का गणित बैठाएं तो एक विधानसभा सीट पर औसतन 19 हजार वोटर होते हैं।

रैली अॉफ द डे
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पुष्कर के ब्रह्माजी मंदिर में पूजा-पाठ किया।

राहुल ने पुष्कर के ब्रह्माजी मंदिर में बताया अपना गोत्र, अजमेर शरीफ में चढ़ाई चादर
पुष्कर | कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सोमवार को राजस्थान पहुंचे। यहां सबसे पहले उन्होंने अजमेर शरीफ में ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर चादर चढ़ाई। उनके साथ कांग्रेस नेता अशोक गहलोत और सचिन पायलट भी थे। इसके बाद वह पुष्कर में ब्रह्माजी के मंदिर गए। यहां राहुल ने पूजा-पाठ किया और पुजारी को अपना गोत्र भी बताया। राहुल ने राज्य में तीन जनसभाएं भी कीं।

राजस्थान में राहुल गांधी ने 3 और प्रधानमंत्री मोदी ने दो जनसभाएं कीं
कौल (कश्मीरी) दत्तात्रेय ब्राह्मण हैं राहुल: पुजारी
ब्रह्माजी मंदिर के पुजारी का दावा है, ‘राहुल गांधी ने खुद को कश्मीरी ब्राह्मण और अपना गोत्र कौल दत्तात्रेय बताया। इसके बाद मैंने पूजा संपन्न कराई।’

मिजोरम में 40 सीटों पर 209 प्रत्याशी, 7.68 लाख वोटर; एक सीट पर औसतन 19 हजार वोटर
ऐसे हो रहा प्रचार
मिजोरम की राजधानी आइजोल से सटे पर्वतीय इलाकों में प्रत्याशी इस तरह से भी प्रचार कर रहे हैं।

मोदी का राहुल पर तंज, बोले- कभी सुना है कि मैं छुट्टी पर चला गया हूं...
नामदार अपनी 4 पीढ़ी का हिसाब नहीं दे पा रहे

भास्कर न्यूज | भीलवाड़ा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को राजस्थान के भीलवाड़ा और कोटा में रैली की। उन्होंने कहा कि मैंने कहा था कि मैं परिश्रम में कोई कमी नहीं रखूंगा। मेरी मेहनत में कोई कमी नजर आती है? दिन-रात काम करता हूं या नहीं? आपने कभी सुना कि मैंने भी छुट्टी ली? आपने कभी सुना है कि मैं कहीं टहलने चला गया। आपने कभी सुना कि मैं सात दिन खो गया? मैं मेरा हिसाब दे रहा हूं। पर नामदार अपने 4 पीढ़ी का हिसाब नहीं दे पा रहे हैं। कांग्रेस की मानसिकता जातिवादी है, वह मेरी जाति पूछती है।

दरअसल, राहुल ने 2015 में 60 दिन की छुट्टी ली थी, वह संसद सत्र में भी शामिल नहीं हुए थे। इस साल वे मानसरोवर की यात्रा पर भी गए थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को राजस्थान के भीलवाड़ा और कोटा में चुनावी जनसभाएं कीं।

वे सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो मांगते हैं, क्या जवान कैमरा लेकर जाएगा...
मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने सवाल उठाया कि सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो दिखाओ। सेना का जवान जब मौत को मुट्ठी में लेकर निकलता है तो क्या हाथ में कैमरा लेकर जाएगा? माओवादी निर्दोषों को मार देते हैं। अभी इनके हमले में भरतपुर का नौजवान शहीद हो गया। नक्सलियों को कांग्रेस के नेता क्रांतिकारी होने का सर्टिफिकेट दे रहे हैं।

 
कोटड़ा (राजस्थान)| तस्वीर राजस्थान के आदिवासी बहुल झाड़ोल विधानसभा के छालीबोकड़ा गांव की है। रविवार को निर्दलीय प्रत्याशी सोहनलाल परमार गांव पहुंचे तो समर्थकों ने उन्हें पहले खाट पर बैठाया। इसके बाद आदिवासी समुदाय के परंपरागत गीत गाते हुए उन्हें गांव में प्रचार कराया। फोटो: शाहिद खान पठान

ऐसी भी होड़: नगमा के स्वागत के लिए मंच पर आपस में भिड़ गए कांग्रेस नेता

शिवपुरी|
कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव और अभिनेत्री नगमा रविवार को शिवपुरी में सभा के लिए पहुंची थीं। नगमा ने मंच पर आयोजकों से कहा कि सिर्फ चार से पांच लोग ही उनका स्वागत करें। पर वहां कांग्रेस नेताओं की संख्या ज्यादा थी। इसके बाद कांग्रेस नेता नगमा का स्वागत करने के लिए आपस में ही उलझ गए। उनमें जमकर तू-तू मैं-मैं हो गई। हालांकि नगमा मंच पर बनी रहीं। उन्होंने जनसभा को संबोधित भी किया।

लोगों ने प्रत्याशी को खाट पर बिठाकर, पारंपरिक गीत गाते हुए गांव में घुमाया...
बिलासपुर, मंगलवार 27 नवंबर, 2018

विधानसभा स्पीकर भी कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए हैं
4
खबरें और भी हैं...