परमात्मा के सामने हाथ नहीं, मन जोड़ें आंतरिक शांति व शक्ति मिलेगी: लता / परमात्मा के सामने हाथ नहीं, मन जोड़ें आंतरिक शांति व शक्ति मिलेगी: लता

Bhaskar News Network

Dec 09, 2018, 02:17 AM IST

Bilaspur News - प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय तोरवा सेंटर के ब्रह्मकुमारीज बहनों ने दयालबंद स्थित मां दुर्गा...

Bilaspur News - do not touch the hand in front of god add inner peace and strength lata
प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय तोरवा सेंटर के ब्रह्मकुमारीज बहनों ने दयालबंद स्थित मां दुर्गा के मंदिर मे माताओं को एकत्रित कर परमात्मा का यथार्थ परिचय दिया। ब्रकु. लता दीदी ने माताओं को जागृत किया तथा उन्हें मां जगदंबा की अष्ट शक्तियों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि जिस दिन कोई बच्चा अपने माता-पिता को वृद्धाश्रम में छोड़कर आता है उस दिन वह घर अनाथ आश्रम बन जाता है।

उन्होंने बताया कि वास्तव में जो भी जगदंबा मां की मंदिर है वह माताओं की ही यादगार में बनी हुई हैं। हर एक माता मां जगदंबा स्वरूपा है बस हमें अपनी उन शक्तियों को पहचानने की आवश्यकता है और वह शक्तियां केवल परमात्मा की याद से ही मिलती है। हम मंदिर तो जाते हैं और ईश्वर के सामने हाथ भी जोड़ते हैं लेकिन मन नहीं जुड़ता है हमारा ईश्वर के साथ, हमारा मन भी ईश्वर से जुड़ जाए तो हमें आंतरिक शांति और शक्ति की प्राप्ति ईश्वर से होती है। परमात्मा जो सर्वशक्तियों और सभी गुणों का सागर है उनसे ही हमें शक्तियां मिलती है। हमें शक्तियां तभी मिलेंगी जब हम वास्तव में उनसे जुड़ जाएंगे। राजयोग एक ऐसा योग है इसमें सभी प्रकार के योग आ जाते हैं। राजयोग के माध्यम से ही हम परमात्मा से जुड़ सकते हैं। जुड़ने के बाद हम अपने पारिवारिक जीवन को सुखमय बना सकते हैं और इसके लिए हमें कुछ भी छोड़ने की आवश्यकता नहीं हैं। हमें अपने परिवार के बीच में रहते हुए सभी के साथ स्नेह पूर्वक रहना है राजयोग हमें परिवार में स्नेह पूर्वक सुखमय तथा शांतिपूर्वक रहना सिखाता है। अंत में ब्रकु रानू बहन ने सभी माताओं को राजयोग कराया। कार्यक्रम का संचालन में ब्रकु एकता बहन ने किया। इस अवसर पर लतिका, विनीता, भारती और नीति सहित अन्य महिलाएं मौजूद रहीं।

कार्यक्रम के दौरान महिलाओं को जानकारी देते हुए ब्रकु लता व अन्य।

X
Bilaspur News - do not touch the hand in front of god add inner peace and strength lata
COMMENT