छत्तीसगढ़ / महिला खिलाड़ियों से छेड़छाड़ मामले में हाईकोर्ट ने कहा आईपीएस उदय किरण व 2 अन्य पर केस दर्ज किया जाए

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 02:07 AM IST


High court orders to file case against paternity
X
High court orders to file case against paternity
  • comment

  • हाईकोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन के तहत मामला दर्ज करने का आदेश दिया 

बिलासपुर . बॉल बैडमिंटन की अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी और गोल्ड मेडल विजेता महिला खिलाड़ी से महासमुंद के मिनी स्टेडियम में प्रैक्टिस के दौरान कुछ लोगों ने छेड़खानी व दुर्व्यवहार किया था। उसकी शिकायत पर एफआईआर दर्ज करने की जगह पुलिस ने दुर्व्यवहार किया था।

 

तत्कालीन विधायक विमल चोपड़ा व उनके समर्थकों पर लाठीचार्ज भी किया गया था। इसके बाद खिलाड़ी ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी। हाईकोर्ट ने ललिता कुमारी के मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय गाइड लाइन का पालन करते हुए आईपीएस उदय किरण सहित दो अन्य पुलिसकर्मियों पर एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं।  महासमुंद के मिनी स्टेडियम में जून 2018 को बॉल बैडमिंटन की एक अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी और अन्य प्रैक्टिस कर रहे थे। इसी दौरान आसपास के कुछ युवकों ने उनसे छेड़खानी की। परेशान होकर सभी खिलाड़ी इसकी शिकायत करने थाने पहुंचीं। 

 

लेकिन पुलिस ने उनकी शिकायत पर एफआईआर दर्ज करने की जगह उनसे ही दुर्व्यवहार किया। इस घटना के विरोध में महासमुंद के पूर्व विधायक विमल चोपड़ा अपने समर्थकों के साथ थाने का घेराव करने पहुंचे। आरोप है कि आईपीएस उदय किरण के निर्देश पर पुलिस ने विधायक और उनके समर्थकों की लाठियों से जमकर पिटाई कर दी। इस मामले में सब इंस्पेक्टर समीर डुंगडुंग की शिकायत पर पूर्व विधायक और उनके समर्थकों पर ही विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज कर ली गई थी। बार-बार आग्रह के बाद भी एफआईआर दर्ज नहीं करने पर काजल ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी। जस्टिस गौतम भादुरी की बेंच ने चर्चित आईपीएस उदय किरण, सब इंस्पेक्टर समीर डुंगडुंग और छत्रपाल सिन्हा पर ललिता कुमारी के मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय दिशा-निर्देशों के मुताबिक एफआईआर दर्ज कर विवेचना के आदेश संबंधित अधिकारी को दिए हैं। इसके साथ ही याचिका निराकृत कर दी गई है।
 

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन