--Advertisement--

कांग्रेस ने पूछा- मतगणना के भोजन वितरण कर्मी किसी दल के तो नहीं?

Bilaspur News - कांग्रेस कमेटी ने मतगणना के दौरान भोजन व्यवस्था पर तैनात कर्मचारियों की जानकारी मांगी है। कांग्रेस कमेटी के...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 02:20 AM IST
Bilaspur News - the congress asked do not count the food distribution workers of any party
कांग्रेस कमेटी ने मतगणना के दौरान भोजन व्यवस्था पर तैनात कर्मचारियों की जानकारी मांगी है। कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ने जिला निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखकर पूछा है कि कहीं ये किसी राजनीतिक दल के कर्मचारी तो नहीं है।

शनिवार को जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष विजय केशरवानी ने जिला निर्वाचन अधिकारी को दिए गए ज्ञापन में कहा कि जिन कर्मचारियों को भोजन व्यवस्था की जिम्मेदारी दी गई है, यदि कुछ नाम छोड़ दिया जाए तो आदेश में बाकी लोगों के पदनाम और विभाग की जानकारी नहीं है। जिला कांग्रेस कमेटी की मांग है कि भोजन- नाश्ता व्यवस्था पर लगाए गए कर्मचारियों के पद व विभाग की जानकारी दी जाए। केशरवानी ने कहा कि नियमानुसार भोजन-नाश्ता व्यवस्था पर लगाए गए सभी कर्मचारियों के पदनाम और विभाग की जानकारी देना जरूरी है। पदनाम और विभाग की जानकारी दी जाती है तो बेहतर होता। अन्यथा आशंका बनी रहेगी कि भोजन व्यवस्था करने वाले लोग किसी राजनैतिक दल के कार्यकर्ता तो नहीं है। जिला कांग्रेस अध्यक्ष केशरवानी ने ज्ञापन में कहा कि चुनाव प्रक्रिया के दौरान गंभीर सतर्कता की जरूरत है। निर्वाचन की निष्पक्षता और पारदर्शिता के लिए शिकायत को गंभीरता से लिया जाए। केशरवानी के मुताबिक यह ज्ञापन प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया के निर्देश पर सौंपा गया है।

लंच पैकेट बांटने लगी 28 की ड्यूटी

भोजन-नाश्ते के लिए कुल 28 लोगों की ड्यूटी लगाई गई है। 12 खाद्य अधिकारियों व कर्मचारियों की ड्यूटी प्रेक्षक, रिटर्निंग अधिकारी, स्ट्रांग रूम, सामग्री शाखा, एनआईसी, सेंट्रल टेबुलेशन कक्ष, रिजर्व स्टाफ, मतगणना कक्ष मरवाही, कोटा, तखतपुर, बिल्हा, बिलासपुर, बेलतरा और मस्तूरी में लगाई गई है। बाकी 12 ऐसे कर्मचारी है जिनका पदनाम और विभाग का जिक्र नहीं है।

कलेक्टर ने कहा- मेरा ओपन चैलेंज है, 11 को 101 फीसदी पारदर्शिता से होगी मतगणना

बिलासपुर | प्रेस कांफ्रेंस में जब जिला निर्वाचन अधिकारी व कलेक्टर से पूछा गया कि क्या प्रशासन मतगणना में पूरी ईमानदारी और पारदर्शिता का दावा करता है, तो कलेक्टर पी.दयानंद ने कहा कि 101 प्रतिशत। ओपन चैलेंज है मेरा। अब तक पारदर्शिता में कोई कमी नहीं रही। 11 को भी वीडियो, सीसी कैमरे, काउंटिंग, एजेंट की मौजूदगी में मतगणना होगी इसलिए पारदर्शिता के बारे में कोई संदेह नहीं होना चाहिए। दयानंद ने मंथन सभाकक्ष में शनिवार को पत्रकारों को बताया कि मतगणना की पूरी तैयारी हो चुकी है। स्ट्रांग रूम सुबह 7 बजे प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र संबंधित प्रेक्षक के सामने खोले जाएंगे। मतगणना के दौरान संबंधित मतगणना टेबल के लिए नियुक्त मतगणना अभिकर्ता उसी टेबल के सामने जाली के बाहर बेंच पर ही बैठेंगे। किसी दूसरे टेबल के सामने बैठने की अनुमति नहीं होगी। मतगणना एजेंट, अभ्यर्थी या निर्वाचन अभिकर्ता मतगणना कक्ष में प्रवेश नहीं कर सकेंगे। मतगणना एजेन्टों, अभ्यर्थियों और निर्वाचन अभिकर्ताओं को मतगणना कक्ष तक पहुंचने के लिए प्रवेश द्वार से आईटी भवन के पीछे से व्यवस्था की गई है।

इन कर्मचारियों के बारे में मांगी गई जानकारी

भोजन वितरण कर्मचारी श्यामलाल, अजय मिश्रा, शंकर सोमनानी, रामायण साहू, नीरज मिश्रा, गिरधारी अग्रवाल, विकास अग्रवाल, भोजराज नारवानी, जेपी गुप्ता, मोहम्मद मकवाना, विजय आजाद, पंकज गंगवानी। इन कर्मचारियों की ड्यूटी खाद्य नियंत्रक दिनेश्वर प्रसाद, एएफओ एसपीएस चौहान, क्लर्क केके परवार और भृत्य कलेश्वर उइके के साथ लगाई गई है।

X
Bilaspur News - the congress asked do not count the food distribution workers of any party
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..